लेफ्टिनेंट भावना कस्तूरी आर्मी डे परेड में एक दल का नेतृत्व करने वाली पहली महिला अधिकारी है, जो हर साल 15 जनवरी को होती है। सेना दिवस उस दिन को इसलिए मनाता है जब (तत्कालीन) लेफ्टिनेंट जनरल केएम करियप्पा ने जनरल सर फ्रांसिस बुचर से  जनवरी 1949 में भारत के कमांडर-इन-चीफ के रूप में पदभार संभाला था।

कस्तूरी के भारतीय सेना के सेवा कोर (एएससी) दल का नेतृत्व करने की उम्मीद है, जिसमें 144 पुरुष कर्मियों की टुकड़ी शामिल है। उनसे पहले, कैप्टन दिव्या अजित ने 2015 में गणतंत्र दिवस परेड में एक सर्व-महिला मार्चिंग दल का नेतृत्व किया।

यह पहली बार है जब एक महिला अधिकारी एक दल का नेतृत्व कर रही है। इससे पहले, कभी किसी महिला अधिकारी ने जवानों की टुकड़ी का नेतृत्व नहीं किया। ”

भारतीय सेना की बदलती प्रकृति को देखते हुए, उन्होंने कहा,

यह हर तरह की स्वीकृति, परिवर्तन और विकास को दर्शाता है जो हर संगठन में हो रहा है। यह महिला अधिकारियों के लिए भी स्वीकृति दर्शाता है। ”

एक अन्य साक्षात्कार में, कस्तूरी ने कहा कि एएससी 23 साल के बाद मार्चिंग दल में भाग ले रहा है। उन्होंने हमे बताया, “यह मेरे लिए गर्व और सम्मान की बात है कि मैं गणतंत्र दिवस पर एएससी दल का नेतृत्व करूंगी ।”

भारतीय सेना में महिला अधिकारियों की एक और जीत में, कस्तूरी के अलावा, कप्तान शिखा सुरभि पहली बार सेना की डेयरडेविल्स मोटरसाइकिल प्रदर्शन टीम का नेतृत्व करने वाली हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि टीम में 33 लोग शामिल होंगे, जो पिरामिड के रूप में नौ बाइक की सवारी करेंगे। उन्होंने 24 विश्व रिकॉर्ड भी जीते हैं और वह गणतंत्र दिवस की परेड में बहुत हर्षोल्लास के साथ भाग लेंगे।

महिलाएं आज हर क्षेत्र में पंख फैलाकर उड़ना जानती है ज़रूरत है तो बस मुठी भर आसमान की, आज की भारतीय महिलाओं ने अपनी काबिलियत से देश को गर्व महसूस करवाया है ।

Email us at connect@shethepeople.tv