आज-कल का दौर प्रतियोगी है और इस बात में कोई दोहराई नहीं है। प्रतियोगिता का स्तर इस कदर बढ़ गया है कि लोग एक-दूसरे से आगे बढ़ने का कोई उपाय नहीं छोड़ना चाहते और इसलिए कॉलेज के समय इंटर्नशिप करना बच्चों के लिए एक आम बात हो गयी है। यह इंटर्नशिप्स छात्रों के लिए आगे चलकर एक बोनस पॉइंट की तरह काम करती हैं। आईये इंटेर्नशिप्स करने के कुछ फायदे देखते हैं।

एक असाधरण अनुभव

इंटर्नशिप्स करना एक असाधरण अनुभव इसीलिए है क्यूंकि यहां आपको अपने कॉलेज के दिनों में ही एक ऐसा अनुभव और एहसास मिल जाता है जो आप अपने भविष्य में महसूस करना चाहते हैं। बेशक यह अनुभव प्रतिस्पर्धा के क्षेत्र में आपको अन्य लोगों के आगे खड़ा कर देता है। आप सोचिये कि आज-कल किसी भी संगठन से जुड़ने के लिए आपसे किसी अनुभव की उम्मीद की जाती है। इसलिए आपके उस अनुभव की पूर्ति आपकी इंटेर्नशिप्स कर देती हैं।

सामाजीकरण का अर्थ

हो सकता है कि कॉलेज के दिनों में आपका सामाजीकरण का दायरा कॉलेज तक ही सीमित हो। लेकिन यदि आप इंटर्नशिप्स में रूचि दिखाते हैं तो यह यह दायरा और ज्यादा बढ़ जाता है। हम सभी जानते है कि सामाजीकरण एक व्यक्ति की अंधरुनी ज़रूरत होती है, तो क्या यह बेहद फायदेमंद नहीं होगा जब आपका अनुभव, सामाजीकरण और अन्य गतिविधियां भी साथ-साथ चलें? सोचिये।

व्यावसायिकता को समझ

देखा जाये तो पारम्परिक रूप से आप कॉलेज के दिनों में व्यावसायिकता का अर्थ समझने के लिए काफी छोटे हैं। लेकिन आज-कल छात्र कॉलेज के दिनों में ही इतनी मेहनत करने के लिए तैयार हैं कि वे व्यावसायिकता को समझ सकें। इंटर्नशिप्स हमे व्यावसायिकता का मतलब समझाने में काफी ज्यादा मदद करती हैं।

सफलता की ओर एक बेबी स्टेप

हम सभी को यह सिखाया गया है कि सफलता कभी भी अचानक से एक रात में नहीं प्राप्त हो सकती। इसके लिए कड़ी मेहनत और लगन की आवश्यकता होती है। छोटे-छोटे कदम और कुछ छोटे-छोटे निर्णय ही आपको सफल और सक्षम बनाते हैं। इंटर्नशिप्स उन्ही सभी छोटे क़दमों में से एक है। इसीलिए ज़रूरी है कि समय रहते आप इन अवसरों का उपयुक्त इस्तमाल करें।

Email us at connect@shethepeople.tv