आज कल की चकाचौंद और ग्लैमर की दुनिया किसी से छुपी नहीं है। कुछ लोग इसको बढ़-चढ़कर सराहते हैं तो कुछ लोग इसे ढकोसला मानते हैं। लेकिन सेलिब्रिटीज की व्यक्तिगत और पेशेवर जिंदगी को अगर कोई प्रसिद्ध और लोकप्रिय बनाता है, तो वह उनके फैन्स होते हैं। फैन्स वे लोग होते हैं जो सेलिब्रिटीज की प्रशंसा करते हैं, उन्हें अपना समर्थन देते हैं, और उनकी तरफ निष्ठा रखते हैं। साथ ही, फैन्स पॉपुलर कल्चर यानी लोकप्रिय संस्कृति से काफी प्रभावित होते हैं। लेकिन क्या कभी आपने यह विचार किया है कि क्यों हम “फैन गर्ल” शब्द से परिचित हैं लेकिन “फैन बॉय” शब्द से नहीं। यह ख्याल शायद आपके मन में नहीं आया होगा।

फैन गर्ल को एक ऐसी किशोर महिला के रूप में समझा जाता है, जो केवल किसी विशेष प्रकार के मनोरंजन की प्रशंसक होती है क्योंकि वह सिर्फ लुक्स या फिर ऐसे कारकों की वजह से उत्साहित होती हैं जिन्हें सतही समझा जाता है।

फैन गर्ल शब्द में कई ऐसी पूर्वधारणात्मक और नकारात्मक धारणाएं हैं, जो सेक्सिस्ट हैं। लड़कियों की रूचि और राय पर सवाल उठाए जाते हैं और उन पर अस्थिर महिलाओं की तरह व्यव्हार करने का आरोप लगा दिया जाता है।

यह माना जाता है कि महिला प्रशंसक पुरुष फैनडम की तुलना में एक ऐड-ऑन और व्युत्पन्न जैसी हैं जो अधिक गंभीर हितों से प्रेरित होती हैं।

उदाहरण के लिए – यह माना जाता है कि किसी सेलिब्रिटी या गायक के कॉन्सर्ट में फैन्स का एक हिस्सा फैन गर्ल्स होती हैं। वे फैन गर्ल्स भीड़ का एक अधिकांश प्रशंसक आधार बना देती हैं। लोगों के दिमाग में यह सोच होती है की वे एक जंगली और जुनूनी किशोर महिलाएं हैं जो किसी सेलिब्रिटी की उपस्थिति में रोने और चीखने-चिल्लाने के लिए प्रसिद्ध होती हैं। इन सब विचारों की वजह से हम लड़कियों को सिर्फ एक फैन की तरह नहीं बल्कि एक कष्टप्रद फैन गर्ल की तरह जानते हैं।

जब हम खुद से प्रश्न करेंगे तो जवाब की लालसा भी बढ़ेगी और जब जवाब खुद से नहीं मिलेगा तो यही प्रश्न हम समाज से मागेंगे। और यह लोगों की मानसिकता को बदलने कि लिए हमारा पहला कदम होगा।

लेकिन सवाल यह हैं कि फैन गर्ल ही क्यों, फैन बॉय क्यों नहीं? अब फैन गर्ल शब्द लड़कियों के सन्दर्भ में काफी अपमानजनक सा लगता है। इसलिए यह प्रश्न उठाना लाज़मी हैं। इतना ही नहीं, अगर हम शब्दकोश की मदद से इन शब्दों को समझना चाहें, तब ही कोई ख़ास फर्क नहीं पड़ेगा। क्यूंकि वहां भी फैन गर्ल शब्द की कुछ ऐसी ही परिभाषा दी गयी है।

तो क्या लड़के किसी सेलिब्रिटी या गायक की प्रशंसा नहीं करते? बिलकुल करते हैं लेकिन वे खुद को फैन शब्द से दूर रखने की कोशिश में हमेशा लगे रहते हैं। लेकिन ऐसा नहीं होना चाहिए। अगर लड़कियों को इस श्रेणी में डाला गया है तो लड़के इससे फिर क्यों बचे हुए हैं। चर्चा तो इस सवाल पर भी गंभीर हो सकती है। और हो भी क्यों न, समाज ने तो जैसे हर तरह से महिलाओं के लिए अलग कायदे-कानून और शब्द निर्धारित कर दिए हैं। लेकिन अब समय है कि हम इन छोटी-छोटी और बारीक चीज़ों पर नज़र डालें और खुद से प्रश्न करें।

Email us at connect@shethepeople.tv