हम कितनी बार लड़कियों को खुद की आदतों और खुद पर काम करने के लिए मजबूर करते हैं? ताकि वह भविष्य में अपने पति को खुश रख सकें. लेकिन अगर कोई महिला अपने पति को खुश करने के लिए ऐसा न करना चाहे तो ? क्या ऐसी स्त्री कभी अपने जीवन में खुशियाँ पाएगी? एक रीसर्च में पुछा गया है।

लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में बिहेवियरल साइंस के  एक प्रोफेसर के अनुसार, अविवाहित और निःसंतान महिलाएं आबादी में सबसे खुशहाल रहती हैं। और वे अपने विवाहित और बच्चो वाले साथियों की तुलना में अधिक समय तक जीवित रहने की संभावना रखती हैं।

शीदपीपल.टीवी ने उसी पर उनके विचार जानने के लिए विभिन्न महिलाओं से बात की।

पुरुषों  को खुश होने की कोई जरूरत नहीं 

अब वह समय नहीं रहा जब महिलाओं को खुश रहने के लिए किसी पुरुष या बच्चे की जरूरत है । काम करने के लिए उसके अपने लक्ष्य, करियर और ढेर सारी वजहें है , और यह वजहें उसके जीवन में हर कमी को भरने के लिए काफी हैं। – ब्लॉग चैटर की ऋचा सिंह

सही कारणों से शादी करो

शादी और बच्चे का पालन-पोषण एक महिला पर बहुत बड़ी ज़िम्मेदारी होती है। वह अपनी वर्षों की कमाई खो देती है – इसलिए उन्हें अपनी कमाने की क्षमता और वित्तीय स्वतंत्रता से समझौता करना पड़ता है। इसके अलावा, अगर आप काम कर रही हैं तो भी परिवार चलाना आपकी सबसे ज़रूरी जिम्मेदारी बन जाता है । एक व्यक्ति के रूप में आपकी खुशियों पर रोक लगायी जा सकती है क्योंकि आपको हमेशा हर बात के बारे में सोचकर काम करना पड़ता हैं।

शादी एक भावनात्मक ज़िम्मेदारी है

मैंने दो बार शादी की। पहली जब मैं 21 साल की थी और दूसरी बार 30 वर्ष की उम्र में और मैं कहूँगी कि मुझे शादी में मज़ा आया और एक बच्चे की परवरिश करने में , भले ही मेरे लिए एक महत्वाकांक्षी पत्रकार होने के नाते घर चलाना मुश्किल था। मैं एक ऐसे रिश्ते में विश्वास रखती हूँ जो लंबे समय तक साथ निभाने का वादा करे और जिसमे कोई दबाव न हो, मुझे एक ऐसे रिश्ते में खुशी मिलती है। शादी किसी भी चीज़ की तुलना में दिल का एक भावनात्मक रिश्ता है। अचानक, आप एक पुरुष और नन्ही सी जान के लिए जिम्मेदार महसूस करते हैं।

मुझे शादी से जो कम्पैनियन्शिप मिलती है, उसमें बहुत खुशी मिलती है। – सुधा मेनन

सबकी यात्रा अलग है

“मुझे वास्तव में लगता है कि किसी भी रिश्ते का सबसे महत्वपूर्ण पहलू पूरी तरह से संतुष्ट होना है। यदि आपको कोई ऐसा मिलता है जिसके साथ आप पूरा जीवन व्यतीत करना चाहते हो तो अच्छी बात है. दूसरी ओर, यदि कोई ऐसा नहीं है जो किसी की तलाश कर रहा है,  तो अपने आप पर ध्यान केंद्रित करें और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करें। ”, रग्स एंड बियॉन्ड से साक्षी तलवार कहती हैं।

आनंद का चरम दृश्य

बेंगलुरु में इंडिपेंडेंट कंसल्टेंट शोनाली आडवाणी कहती हैं , उसी तरह जीवन भी काले और सफेद रंग में खुशी को देखना जीवन का एक बहुत बड़ा दृष्टिकोण है। मैं व्यक्तिगत रूप से जीवन को असंख्य रंगों के रूप में देखती हूं। सुख और दुःख दोनों ही जीवन के दो पेह्लूं हैं जिनका हम अपनी व्यक्तिगत यात्रा में सामना करते हैं। अधिक समय तक जीने के लिए, हम में से कोई भी हमारे भविष्य के बारे में नहीं जानता है तो यह हमारी सोच होती है की हम अपने जीवन को किस तरह जीकर खुश है ।

 मैं व्यक्तिगत रूप से जीवन को असंख्य रंगों के रूप में देखती हूं। सुख और दुःख दोनों ही जीवन के पेह्लूं हैं , अलग -अलग हिस्सों और परिस्थितियों का परिणाम है जिसका हम अपनी प्रैक्टिकल जर्नी में सामना करते हैं। – शोनाली आडवाणी

Email us at connect@shethepeople.tv