तेलंगाना के माधुरी रेड्डी ने ऍनईईटी यू जी  2019 में ऑल इंडिया 7 वीं रैंक हासिल की है और महिला छात्रों की श्रेणी में भी ऑल इंडिया टॉपर है। उसने 720 में से 695 अंक हासिल किये हैं।

भविष्य की योजनाएं

वह भविष्य में कार्डियोलॉजिस्ट बनना चाहती है। वह प्रतिष्ठित एम्स, नई दिल्ली में एक सीट पाने के लिए एक अच्छी रैंक पाने की उम्मीद करती है।

बुधवार को ऍनईईटी परीक्षा के परिणाम निकलने के बाद हैदराबाद के माधापुर की  निवासी रेड्डी ने कहा, “एक डॉक्टर बनने का मेरा बचपन का सपना था और मुझे खुशी है कि मैं अपने पहले प्रयास में ही इसे क्लियर कर सकी ।”

“मैं सातवी कक्षा से अपने सपने को पूरा करने की कोशिश कर रही हूं। मैंने नारायण ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस में खुद सातवीं क्लास से मेडिसिन के लिए फाउंडेशन कोर्स जॉइन किया है।

“डॉक्टर बनना मेरा बचपन का सपना था और मुझे खुशी है कि मैं इसे अपने पहले प्रयास में ही क्लियर कर सकी ,” – रेड्डी ।

तेलंगाना के माधुरी रेड्डी ने ऍनईईटी यू जी  2019 में ऑल इंडिया 7 वीं रैंक हासिल की है और महिला छात्रों की श्रेणी में भी ऑल इंडिया टॉपर है। उसने 720 में से 695 अंक हासिल किये हैं।

परिवार का साथ

उनके पिता जी थिरुपथी रेड्डी हैदराबाद में एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं। उसका एक छोटा भाई जी चरण रेड्डी है, जो अभी  कक्षा 8 में पढ़ रहा है।

उसकी माँ एक गृहिणी है। “बचपन से ही, माधुरी अपनी पढ़ाई में शानदार रही है और उसने अपनी इंटरमीडिएट (कक्षा 12) में 98.6 प्रतिशत अंक प्राप्त किए हैं। वह हर दिन 10-12 घंटे मेहनत करती थी, ”उसके पिता ने कहा।

टॉपर ने कहा कि यह उसके माता-पिता की लगातार प्रेरणा थी जिसने उसे पढ़ने के लिए प्रेरित किया । उसने यह भी कहा कि इंस्टिट्यूट में उसे लेकचरों से बहुत मदद मिली।

“डॉक्टर बनना मेरा बचपन का सपना था और मुझे खुशी है कि मैं इसे अपने पहले प्रयास में ही क्लियर कर सकी ,” – रेड्डी ।

हालांकि, उसने इस बात पर जोर दिया कि वह हर समय अपनी किताबों में ही नहीं रहती थी। बैडमिंटन खेलना, टेलीविज़न पर फिल्में और क्रिकेट मैच देखना कुछ ऐसी गतिविधियाँ थीं जिन्हें वह पसंद करती थी और उसमें और भी कई काम  शामिल थे ।

Email us at connect@shethepeople.tv