राजनीति में आने वाले लोग, खासकर पुरुष स्वयं को एक उत्तम स्थान प्रदान कर देते हैं। भारत में लोकतंत्र है और जनता के चुनाव से ही सरकारें बनतीं हैं। लेकिन कुछ लोगों को इतना आत्म-विश्वास है कि वे पचास साल तक देश में राज करने की बात भरी जनता के बीच कह जाते हैं। बड़ी बात यह है कि लोग उनके इन भाषणों का स्वागत तालियों के साथ करते हैं। ऐसा ही नज़ारा देश में तब होता है जब हमारे नेता महिलाओं पर सेक्सिस्ट टिप्पीड़ियां करते हैं। और इन्ही तल्लियों की गूँज में वे अपनी मर्यादा को खो देते हैं। आईये राजनीति के ऐसे ही पांच मशहूर और सेक्सिस्ट नेताओं से मिलते हैं।

दयाशंकर सिंह

दयाशंकर सिंह उत्तर प्रदेश भाजपा के उपाध्यक्ष थे। उन्होंने बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती की तुलना एक वैश्या से की थी। उन्होने यह कहा था कि मायावती का चरित्र एक वैश्या के चरित्र से भी ज्यादा नीचे गिर चुका है। “वे पार्टी टिकेटों की ऐसे बिक्री कर रहीं हैं कि एक वैश्या भी यदि किसी पुरुष से कांटेक्ट करती है तो वह अपना कॉन्ट्रैक्ट पूरा करती है। लेकिन मायावती रुपयों में टिकट बेचती हैं और वे एक वैश्या से भी बत्तर चरित्र की हो गयीं हैं”।

साधना सिंह

अब आश्चर्य की बात यह है कि सेक्सिस्ट टिप्पीड़ियों की होड़ में महिलाएं भी पीछे नहीं हैं। भाजपा की एक विधायक साधना सिंह ने हाल में ही बसपा सुप्रीमो मायावती के लिए कुछ यह अंदाज़ अपनाया।

“हमको तो उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री न महिला में लगती हैं न गेट्स में लगतीं हैं”। इतने पर ही वे नहीं रुकीं। उन्होंने मायावती के साथ हुए लखनऊ गेस्ट हाउस काण्ड की तुलना द्रौपदी के चीर-हरण से की। उन्होंने कहा की मायावती का कोई सम्मान नहीं है और कुर्सी को पाने के लिए उन्होंने अपने सम्मान को भी बेच दिया है। यह सारे वक्तव्य उन्होंने उत्तर प्रदेश में, हाल ही में हुए सपा-बसपा गठबंधन पर दिए थे।

विनोद नारायण झा

विनोद नारायण झा बिहार से भाजपा के नेता हैं। उन्होंने प्रियंका गाँधी पर टिप्पिडी कर कहा की कांग्रेस भारी गलत फेमी में जी रही है और सुन्दर चेहरों के आधार पर इस देश के लोगों से वोट नहीं लिया जा सकता है। लेकिन अगर देखा जाये तो कांग्रेस ने तो सिर्फ अपना राजनैतिक दाव चला है। सुंदरता और बदसूरती का कोण तो आपने इसमें ढूंढा है। उन्होंने साथ-साथ यह भी भविष्यवाणी कर दी कि प्रियंका में कोई भी प्रतिभा नहीं है।

मुलायम सिंह यादव

उन्होंने बलात्कार पर जो विवादित बयानबाज़ी की थी, वह यह है। उन्होंने कहा कि ऐसी भी महिलाएं हैं जो बलात्कार के केसों में एक की जगह चार लोगों का नाम लिखवा देती हैं। उन्होने इतना भी कह दिया कि यह प्रक्टिकली संभव नहीं है। एक और रैली में उन्होंने बड़े आरामदायक अंदाज़ में बलात्कार करने वाले पुरुषों पर यह भी कहा है कि “लड़के हैं, गलती हो जाती हैं”।

राहुल गाँधी

राहुल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को रफाएल विवाद पर टारगेट किया था। उन्होंने अपनी टिप्पिडी के जरिये महिलाओं की क्षमता पर सवाल उठा दिया। उन्होंने कहा कि देश का छप्पन इंच का चौकीदार भागकर एक महिला के पीछे जा कर चुप गया। यहां पर वे जिस महिला की बात कर रहें हैं, वह देश की रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण हैं।

Email us at connect@shethepeople.tv