तेलंगाना के जगतीयाल जिले में लक्ष्मीपुर गांव में महिला सशक्तिकरण की एक कहानी लिखी गई । महिला किसान बिना किसी की मदद के अपने खेत तक पहुंच रही हैं क्योंकि वे अपने खेतों तक जल्दी पहुंचने के लिए स्कूटर चलाकर जाती हैं।

बड़े और छोटे कामों के लिए उनका अपने परिवारों के पुरुष सदस्यों पर निर्भर रहने के दिन खत्म हो गए हैं और अब वे न केवल आत्म-निर्भर हैं, बल्कि अन्य महिला मजदूरों की भी मदद करते हैं।

लक्ष्मीपुर गाँव एक छोटा सा गाँव है जिसकी आबादी सिर्फ 5,000 लोगों की है और इनमें से 1,200 परिवार अपने गुज़ारे के लिए कृषि पर निर्भर हैं। अब गाँव की महिलाएँ घंटों तक बसों का इंतज़ार किए बिना अपने खेत में जल्दी पहुँचती हैं। महिलाएं अपने खेत में सब्जी पैदा करने के लिए सब्जी का उत्पादन करने के लिए जगतीयाल और आसपास के अन्य बाजारों में सब्जी पहुंचाने के लिए स्कूटर का इस्तेमाल कर रही हैं।

एक किसान, एस सरिथा ने टीऍनआईई को बताया कि उन्हें पुरुषों की तुलना में दोगुनी मेहनत करनी पड़ती है क्योंकि पुरुषों के साथ उनकी स्कूटी उनकी काफी मदद करती है।

वह कहती हैं, ” हम समय बचाने के लिए स्कूटर का इस्तेमाल कर रहे हैं, क्योंकि उनके गांव से करीब तीन किमी दूर उनकी जमीन है। ”

70  महिला किसान अपने खेतो में आने -जाने  के लिए  स्कूटर का इस्तेमाल करती हैं, यह देखने के लिए एक बहुत सुन्दर दृश्य  है। हालांकि लक्ष्मीपुर के किसान धान, हल्दी, अदरक, केला, मूंगफली और सब्जियां उगाते हैं, लेकिन फसल के बाद सबसे ज्यादा मांग टमाटर की होती है। गाँव के पुरुष, महिलाओं की खेतो में तेज़ी से हो रही प्रगति से काफी प्रभावित हैं और तो और अब तो वह उनकी तरह बाइक की सवारी कर रही हैं, इसलिए जितना संभव हो, वह हर काम में उनकी मदद करने की कोशिश कर रहे हैं।

Email us at connect@shethepeople.tv