रुपाली एक होम शेफ हैं। उन्होंने ‘रुपाली किचन’ की संस्थापना की है। उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय के इंद्रप्रस्थ कॉलेज से अपना ग्रेजुएशन किया है। उसके बाद उन्होंने दिल्ली विश्विद्यालय से ही अपना एमबीए किया। उन्होंने एप्पल कम्प्यूटर्स के साथ काम करके अपने करियर की शुरुआत की।

करीब छेह सालों तक उन्होंने अपनी काफी जॉब बदलीं और अलग-अलग लोगों के साथ काम करने का अनुभव लिया। इतना ही नहीं, उन्होंने टप्पर वियर इंडिया के साथ भी काम किया। टप्पा वियर इंडिया के साथ वे करीब चौदह सालों तक जुडी रहीं। लेकिन परिवार की ज़िम्मेदारियों के चलते उन्हें अपनी जॉब छोड़नी पड़ी।

रुपाली कहती हैं, “इन सभी के बाद मैंने एक “होम किचन” की शुरुआत की। यह शुरुआत मेरे खुद के नोएडा स्थित घर से हुई। एक साल के अंदर मुझे वह जगह कम लगने लगी। इसलिए मैंने एक अपार्टमेंट किराये पर ले लिया और शाकाहारी और मासाहारी भोजन को अलग-अलग बनाना शुरू कर दिया। मैं कस्टमाइज्ड कुकिंग करतीं हूँ। हर कोई व्यक्ति पौष्टिक खाने का सेवन करना चाहता है इसलिए मेरा किचन बिलकुल घर जैसा है। इस बात की तारीफ मेरे ग्राहक भी स्वयं काफी बार कर चुके हैं।”

कुकिंग करने की प्रेरणा

“मेरा जन्म एक बहुत ही प्रगतिशील परिवार में हुआ है। मेरे पिता एक डॉक्टर हैं और मेरी माता एक होममेकर हैं। मेरी कभी भी कुकिंग में इतनी रूचि नहीं थी, लेकिन मेरी माँ का खुद का एक कुकिंग इंस्टिट्यूट था जिसने मुझे हमेशा प्रेरित किया।”

विपणन रणनीति

मुझे यहाँ काम करते हुए अब एक वर्ष हो चुका है। हमने कभी किसी तरह का कोई विज्ञापन, आदि नहीं निकलवाया है। ‘वर्ड ऑफ़ माउथ’ ही हमारी पब्लिसिटी रही है। इसके साथ ही हम काफी सारे गैर सरकारी संगठनों और कंपनियों से भी जुड़े हैं और उनके लिए सामुदायिक कार्यक्रम भी करते हैं।

वित्तीय स्वतंत्रता पर विचार

“मैंने स्वयं के साथ-साथ काफी अन्य लोगों को भी रोजगार दिया है। मैंने घर में काम करने वाली कुछ महिलाओं के साथ इस काम की शुरुआत की थी। अब मेरे पास दो किचन हैं और करीब 300 लोगों की टीम है जिसमे ज्यादातर महिलाएं हैं। मैं वित्तीय रूप से पूरी तरह से स्वतंत्र और आत्म-निर्भर हूँ।”

महिलाओं की प्रबंधन क्षमता

“हर महिला के अंदर प्रबंधन की क्षमता होती है। वे एक साथ कई कामों को करतीं हैं। महिलाओं को यह कोई बड़ा काम लग सकता है लेकिन अगर उन्हें कुछ करना है, तो वह यह है कि वे सकारात्मक सोचें।”

काम और व्यक्तिगत जीवन में संतुलन

“मेरे परिवार ने हमेशा मेरा साथ दिया है। इसलिए मुझे काम और व्यक्तिगत जीवन में संतुलन बनाने में ज्यादा दिक्कत नहीं हुई। मेरी बेटी मेरे साथ ही साथ ही रहती है।”

आने वाले चुनावों से उम्मीदें

“हर महिला को कहीं न कहीं किसी तरह का सौदा जरूर करना पड़ता है और महिलाएं जब व्यावसायिक क्षेत्र में उतरतीं हैं तो ज्यादातर लोग रिश्वत भी मांगते हैं। इसलिए महिलाओं की इस समस्या का समाधान करने के लिए सरकार को कोई आसान तरीका जरूर निकलना चाहिए। मुझे अपने काफी कामों में, जैसे खाने के लिए लइसेंस, आदि पाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था।”

जीवन का मंत्र

“मेरे जीवन का मंत्र यह है कि कोई भी चीज़ मुझे पीछे नहीं खींच सकती। मैं हमेशा मुस्कुराती रहती हूँ क्यूंकि मैंने यह महसूस किया है कि तनाव सिर्फ आपके मस्तिष्क में होता है। इसलिए सकारात्मक रहकर अपना काम हमेशा करते रहें।”

Email us at connect@shethepeople.tv