डॉ विनीता जैन पेशे से एक सर्जन हैं लेकिन दौड़ने में और साइकिल चलाने में उनकी बेहद ज्यादा दिलचस्पी है। उन्होंने इंडिया गेट से लेकर गेटवे ऑफ़ इंडिया तक की जी2जी राइड को पूरा किया है। यह कार्य उन्होंने वर्ष 2018 में किया है। आईये विनीता जैन से प्रेरणा लेते हुए, साइकिल चलाने के कुछ फायदे देखते हैं।

मसल वर्कआउट में मदद

साइकिल चलाना वर्कआउट करने जैसा है। ख़ास बात यह है कि इस तरह के वर्कआउट से मज़ा भी बेहद आता है। जब आप साइकिल चलाते वक़्त पेडल मारते हैं तो यह आपकी मसल्स को जगा देता है। आपकी बॉडी सोई हुई अवस्था से जग जाती है और आपका शरीर कुछ खिचाव महसूस करता है।

तनाव से दूर

बहुत लोगों के लिए साइकिल चलाना उनके शौक जैसा है। इसलिए जब वे कुछ समय निकालकर अपने को शौक पूरा करते हैं तो वह सुखमय महसूस करते हैं। इतना ही नहीं, जब कोई भी व्यक्ति खुले वातावरण में जाता है, खासकर सूर्योदय के समय, तब वह पूर्ण रूप से तारो-ताज़ा महसूस करता है। यह सारी चीज़ें महिलाओं को तनाव और परेशानियों से मुक्त करतीं हैं।

मोटापा कम करना

मोटा होना कोई गलत या बुरी बात नहीं है। लेकिन मोटापे से होने वाली बीमारियां और परेशानियां आपकी सेहत को काफी खराब कर सकती हैं। इसलिए ज़रूरी है कि आप तंदरुस्त रहें। इस प्रक्रिया में साइकिल चलाना काफी काम आ सकता है। यह आपके मोटापे पर भी नियंत्रण ला सकता है और उसके साथ-साथ आपको अन्य बीमारियों से भी दूर रखता है।

शरीर का बेहतर आकार

रोज साइकिल चलाने से आपके शरीर का आकार बिलकुल सही रहता है। आपने ऐसे कई लोगों को देखा होगा जो पूरा-पूरा दिन एक कुर्सी पर बैठकर काम करते हैं और इतनी मेहनत के बाद भी उन्हें शारीरिक तकलीफों का सामना करना पड़ता है। लेकिन जब वही लोग और महिलाएं साइकिल चलाने निकलती हैं, तो वे अपने शरीर के आकार में फर्क महसूस करती हैं। इससे उनकी हड्डियां भी मज़बूत होती हैं और उन्हें कमज़ोरी का भी कम एहसास होता है।

अपना स्टैमिना बढ़ाएं

साइकिल चलाने से आपका स्टैमिना बढ़ता है और आपका शरीर ऊर्जावान महसूस करता है। साथ ही साइकिल चलाना कहीं न कहीं आपको साहसी और तेज बनाता है। अगर आप बाकी गतिविधियों से इसकी तुलना करें, तो साइकिल चलाना काफी आसान भी है। इससे आपके समय की भी काफी बचत होती है और आप लगे हाथों कोई और काम भी कर सकते हैं।

Email us at connect@shethepeople.tv