उन असंख्य चीजों के बीच, जो लोग अपने नियमित जीवन से छुट्टी लेने के लिए करते हैं, एक है प्रकृति के बीच समय बिताना। प्रकृति में न केवल आपको फिर से जीवंत करने की शक्ति होती है, बल्कि यह आपको सूक्ष्म तरीके से ठीक भी करती है।

पहाड़ों से लेकर समुद्री तटों तक, झरनों से लेकर जंगलों तक, प्राकृतिक सुंदरता के बहुत सारे पहलू हैं।

शीदपीपल ने पांच महिलाओं से बात की, यह जानने के लिए कि कैसे प्रकृति में समय बिताने से उन्हें अपनी क्लांत बैटरी को रिचार्ज करने में मदद मिलती है और जीवन के साथ वापस आ जाती है।

हमें याद दिलाता है कि जीवन कितना सुंदर है

महिलाओं को यात्रा के लिए बाहर ले जाने वाली वंडरफुल वर्ल्ड की संस्थापक शिबानी विग कहती हैं कि यह प्रकृति के साथ समय बिताने का एक अच्छा तरीका है।

“उस ताजी हवा में साँस लेना, सभी स्थलों, और ध्वनियों को सुनना, यह सब याद दिलाता है कि जीवन कितना सुंदर है। इसलिए, चाहे वह पहाड़ हो, समुद्री तट के बीकनों हो, या जंगल हो, यह सभी आपको डिस्कनेक्ट करते हैं और आपको वास्तविक कनेक्शन मिलता है”।

सबसे बेचैन लोगों को भी शांत करता है

वंडरफुल वर्ल्ड की निदेशक लियोन कैबरल घोष को लगता है कि शहर के जीवन से दूर होने और प्रकृति के साथ होने में कुछ बात है। यह बेचैन लोगों को तक शांत करता है और लोगों को उस बटन को रीसेट करने में मदद करता है जिसे जीवन कहा जाता है।

एक तनाव मुक्त प्रक्रिया के रूप में काम करता है

पूजा उचिल, सिक्किम हिमालयन अकादमी में निदेशक हैं। वे प्रकृति के आसपास समय बिताना कॉर्पोरेट जीवन की जटिलताओं से एक बड़ी राहत पाने के समान समझती हैं।

पहाड़ियों में चलते हुए आप एक कर्मचारी नहीं हैं, जिसे उसके कामकाज से आंका जाता है।

“कॉरपोरेट दौड़ से दूर एक ऐसी दुनिया है जहां कोई लिंग रूढ़िवादिता नहीं जानता, कोई भ्रामक मुस्कुराहट नहीं है और न ही आपकी पीठ के पीछे कोई मुस्कुराता है। प्रकृति आप सभी के साथ समान व्यवहार करती है – बूढ़े और युवा, पुरुष और महिला। आप वह महिला नहीं रहतीं जिसे कपड़ों के आधार पर देखा जाता है न की वह क्या बोलती है उसके आधार पर। आप उस वक़्त सिर्फ शुद्ध व सरल हैं”।

एक अच्छा अनुभव

इशिता चिककारा जो हाल ही में समुद्री तट पर गयीं थीं, इसे बहुत अच्छा अनुभव कहती हैं।

“समुद्री तट मुझे आनंदित महसूस कराते हैं। इसमें वह वाइब है जो आपको वहां बैठा देगी और आप बस पानी को महसूस करेंगे, पानी का शोर सुनेंगे। इसमें खेलना और पानी के छींटों का आनंद लेना भी मजेदार है। यह मुझे सोचने के लिए मजबूर करता है कि यह कितना अंतहीन और गहरा है। बिना किसी सीमा के कुछ देखने की भावना अवर्णनीय है”।

आपके भीतर के पर्यावरणविद् को बढ़ने में मदद करता है

साक्षी श्रीवास्तव भट्टाचार्य, हिमालय में ट्रेकिंग अभियानों का आयोजन करने वाले “स्पिरिट ऑफ़ ट्रेकर्स” की संस्थापक हैं, “जब आप ट्रेकिंग कर रहे होते हैं, तो आप किसी के भी संपर्क से बाहर हो जाते हैं। उस वक़्त आप अपने अस्तित्व के लिए सिर्फ प्रकृति पर भरोसा करते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि प्रकृति से जुड़ने से हमारे भीतर के पर्यावरणविद् को बढ़ने में मदद मिलती है”।

Email us at connect@shethepeople.tv