सूरत की एक 12 वर्षीय लड़की ने जैन साध्वी बनने के लिए बुधवार को ‘सांसारिक सुख’ का त्याग किया और इस तरह शांति प्राप्त की। उस लड़की का नाम काव्या शाह है , उन्होंने एएनआई से कहा, “हम यहां जो सुख भोगते हैं वह सब झूठा है क्योंकि यह दुनिया विचित्र है और यह ऐसा ही रहेगा। शांति और मोक्ष को पाने का इकलौता तरीका एक सरल जीवन जीना है। ”

शाह ने अपनी कक्षा छह की अंतिम परीक्षा में 97 प्रतिशत स्कोर किए और पहले वह डॉक्टर बनने की ख्वाहिश रखती थी, लेकिन नवंबर में उसने स्कूल छोड़ दिया। उसके अलावा, उसके परिवार के चार अन्य लोग हैं, जिन्होंने बहुत ही काम उम्र में सन्यास अपनाया था । इस निर्णय को लेने के लिए उसके माता-पिता को उस पर बहुत गर्व है। उनके पिता, विनित शाह, जो एक सरकारी कर्मचारी हैं, ने कहा, “इस छोटी उम्र में, उनके बच्चे में समझदारी है और यह इस उम्र के बच्चों के बीच बहुत आम बात नहीं है। यह हमारे लिए गर्व की बात है। एक बार संत बनने के बाद वह लाखों लोगों के जीवन में रोशनी फैला सकती हैं। ”

सूरत की एक 12 वर्षीय लड़की ने जैन साध्वी बनने के लिए बुधवार को ‘सांसारिक सुख’ का त्याग किया और इस तरह शांति प्राप्त की। उस लड़की का नाम काव्या शाह है.

काव्या का यह कदम उम्र के इस पड़ाव पर बहुत ही अलग है क्योंकि बहुत सारे बच्चे इस उम्र में खिलोनो और जीवन की सख सुविधाओं में व्यस्त होते है पर क्या इतनी छोटी उम्र में एक 12  साल के बच्चे को संसार छोड़ संयम की कठिन राह पर चलने के लिए छोड़ देना क्या सही है ? काव्य  के इस छोटी सी उम्र में दीक्षा लेने पर बहुत सारे बल अधिकार कार्यकर्ताओं ने अपने विचार सामने रखे है :

सारथी ट्रस्ट की बाल अधिकार कार्यकर्ता, डॉ कृति भारती ने कहा, “जब हम बच्चों को इतनी कम उम्र में वोट देने और शादी करने की अनुमति नहीं देते हैं और मूल रूप से सभी महत्वपूर्ण निर्णय लेने में सक्षम होने के लिए उनकी उम्र 18 वर्ष से ऊपर का व्यक्ति होना चाहिए, फिर हम बच्चों को इतनी कम उम्र में कैसे  सन्यास लेने  की अनुमति दे रहे हैं? ”

“धार्मिक समारोह अधिकार आधारित मुद्दों से अलग हैं, लेकिन निश्चित रूप से, एक बच्चा ऐसी किसी भी गतिविधि के लिए सहमति नहीं दे सकता है”, आशीष कुमार, हक सेंटर फॉर चाइल्ड राइट्स में कानूनी हस्तक्षेप के निदेशक ने कहा। उन्होंने कहा, “जो कोई भी बच्चे का अभिभावक होता है, उसे उसके संन्यासी बनने की अनुमति देने के लिए जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए क्योंकि वे बच्चे के भविष्य के बारे में ज़िम्मेदार होता हैं।”

Email us at connect@shethepeople.tv