बहुत सारी महिलाएं अपने पैसे की बचत करने के लिए एक्सपर्ट्स पर भरोसा करने में डरती हैं। जब भी पैसो की बात आती है, तो हम सभी अपने करीबी लोगों पर विश्वास करना पसंद करते हैं, उनके अनुभवों और बातों पर भरोसा करते हैं। हमें लगता है क्योंकि ये लोग हमें जानते हैं, इसलिए वह हमारा अच्छा ही चाहेंगे। हालाँकि, हमें यह समझना चाहिए कि एक व्यक्ति के अनुभवों से कसी व्यक्ति की सोच का पता नहीं लगाया जा सकता है। फाइनेंसियल एक्सपर्ट्स के अलावा कोई भी आपकी मदद करने के लिए ज़िम्मेदार नहीं हैं, और आपको सही मार्गदर्शन प्रदान करते हैं और आपकी वित्तीय समस्याओं का समाधान ढूंढते हैं। इस मिथक को तोड़ने के लिए कि अच्छी वित्तीय सलाह केवल निकट और प्रिय लोगों से ही आ सकती है, हमने पाँच महिलाओं को उनके द्वारा प्राप्त की गई सबसे अच्छा फाइनेंसियल एडवाइस को हमारे साथ बाँटने के लिए कहा जिसने महिलाओं की अभी की और भविष्य की सोच को बदल दिया।

रितिका सिंह

कॉन्टेंट फैक्ट्री की संस्थापक और सीईओ रितिका सिंह कहती हैं, “मुझे जो सबसे अच्छी वित्तीय सलाह मिली है, वह यह है कि हर महीने सेविंग्स को पक्का करके रखा जाए, चाहे वह कितनी भी कम क्यों न हो। यदि, किसी कारण से आप कुछ महीनों में सेविंग्स नहीं कर पा रहे है, तो पक्का करें कि आप अगले 4-6 महीनों में इसकी भरपाई करेंगे।

लेकिन कोई बचत को कैसे पक्का कर सकता है? सिंह ने कहा, “पैसे को सेव करने का सबसे दिचस्प तरीका यह है की एक ऐसा खाता खोले जिससे आप कभी भी वापस पैसे नहीं निकाल सकते  हैं,” जन्मदिन के उपहार, ब्याज, पेबैक के रूप में मिलने वाले सारे पैसे को उस खाते में डालें ।

मेघना नायक

मेघना नायक, जिनके पास लतासिता नामक अपना खुद का जीरो वेस्ट फैशन लेबल है, बताती है कि उनकी अपनी सोच कैसे बदली। “मुझे बाहर जाकर फाइनेंसियल एडवाइस लेने के लिए एक लंबा समय लगा, क्योंकि मैं एक अच्छी प्लानर नहीं हूं। मैं इसे दूसरे तरीके से भी देखती हूं, जैसे अगर मेरे पास इस तरह की कमाई है तो मैं कितना खर्च  करूंगी और कितनी बचत । लेकिन मेरे एडवाइजर ने मुझे एहसास दिलाया कि कुछ भी असंभव नहीं है और एक अच्छे प्लान के साथ आप वह सब हासिल कर सकते हैं जो आप करना चाहते हैं। ”

तो एक फाइनेंसियल एडवाइजर सबसे अच्छी सलाह क्या दे सकता है ? “मेरे फाइनेंसियल एडवाइजर ने मुझे अपने लक्ष्यों और उम्र के अनुसार अपनी इन्वेस्टमेंट को डेब्ट और इक्विटी में फैलाने की सलाह दी। हमारे पास अपना खुद का घर नहीं है और मेरी माँ एक सिंगल मदर हैं जो अभी भी रेंट पर रहती हैं। एक फाइनेंसियल एडवाइजर से बात करने से मुझे समझ में आया कि एक अच्छे प्लान के साथ, हमारा अपना घर होना संभव है। उन्होंने एक लंबे समय के लिए अच्छा प्लान बनाने और उस पर काम करने के लिए कहा। मेरे लक्ष्यों के बारे में वास्तव में सोचने के लिए कि वे कितने आदर्शवादी या बाहरी व्यक्ति हो सकते हैं। आपको इस सपने को देखने या एक लक्ष्य निर्धारित करने की आवश्यकता है और फिर उसी के अनुसार काम करना है। ”

अपराजिता मेहरा

आकाशवाणी एफएम की रेडियो जॉकी अपराजिता मेहरा खुद के पैसे को संभालने में डर रही थी। “पैसे को संभालना एक ऐसी चीज है जिसने मुझे हमेशा परेशान किया है। वैसे तो हम सभी महिलाएं घर के सभी खर्चों का ध्यान रखती हैं, लेकिन हम वास्तव में कभी भी निर्णय लेने की स्थिति में नहीं होती हैं जब एक घर में बड़ी मात्रा में पैसा आता है। लेकिन जब मैंने खुद कमाना शुरू किया, तो मैंने फैसला किया कि मैं अपनी कमाई का इस्तेमाल अपने लक्ष्यों को पूरा करने के लिए करना चाहती हूं। ”

रीति प्रसाद

लेखिका रीति प्रसाद, जो दूसरी तरफ एक कंपनी में बिजनेस यूनिट हेड के रूप में भी काम करती हैं, उनके पास अपने फाइनेंसियल गोल्स की एक बहुत स्पष्ट तस्वीर थी और वह किसी ऐसे व्यक्ति की तलाश में थी जो उस नज़रिये को समझ सके।

मृगक्षी शर्मा

वेल्थ लैब की सह-संस्थापक मृगक्षी शर्मा के लिए, यह सलाह किसी भी लक्ष्य या रणनीति के लिए ज़रूरी नहीं है, लेकिन यह एक ऐसा मंत्र बन गया है, जिसके बारे में वह काफी सीरियस है और दूसरों को भी यही सलाह देती  है। वह कहती हैं, “पहली बार, और शायद सबसे महत्वपूर्ण अहसास मुझे मेरे फाइनेंसियल एडवाइजर ने यह दिया था कि समय वास्तव में पैसा है।युवापन में एक इन्वेस्टर रिस्क लेने की हालत में होता है ।इसलिए हमे शुरुआत से ही छोटे इंवेस्टमेंट्स करने की आदत डालनी चाहिए ।

Email us at connect@shethepeople.tv