कोलकाता राइटरस’ फेस्ट 2018 में आयोजित एक पैनल में ब्लॉगिंग और ब्लॉग को चलने पर चर्चा हुई. इस कार्यकर्म में ब्लॉगर्स के लिए काफी टिप्स बताए. पैनल की मॉडरेटर रिचा वाही(फाउंडर, वर्ड मंचर्स- बच्चों को क्रिएटिव राइटिंग सीखाने वाली संस्था) थी.

पैनल के लिए वक्ता- रक्षा भारडिया, चिकन सूप सीरीज़ की भारतीय संपादक और संस्थापक, बोनोबोलॉजी(वेबसाइट); सृष्टि नडानी, स्टाइलिस्ट, ब्लॉगर और डिजाइनर: और एरिका सरदार, फ़ूड ब्लॉगर थे.

– उन बातों और समस्याओं पर पोस्ट करें जिनसे लोगों को फर्क पड़ता है.

रक्षा भारडिया ने अपने ब्लॉग बोनोबोलॉजी के बारे में बताया कि वह रिश्तों व संबंधों पर केंद्रित है. उन्होंने ब्लॉग की सफलता के लिए कुछ तकनीकी सुझावों की सहायता के बारे में भी सुझाव दिए.

एरिका सरदार ने भोजन के लिए उनके प्यार पर, डॉयन द्वारा ज़ोमैटो बुलाए जाने वाली बात शेयर की. उनका अपना एक फ़ूड ब्लॉग शुरू करने का कारण यही प्यार था.

– ओपनिंग लाइन्स बहुत महत्वपूर्ण है. चित्र समझिए ताले की चाबी हैं, खुल जाये तो आराम से काम बन जाए.

सृष्टि नडानी का ब्लॉग उनके निजी जीवन, फ़ूड और ट्रेवल स्टोरीज़ पर केंद्रित है. उन्होंने बताया कि ब्लॉग द्वारा कोई इन्टरस्टिंग बातचीत कैसे शुरू कर सकते हैं.

 ब्लॉगर्स द्वारा शेयर की गई बातें और टिप्स, जो बताती है कि ब्लॉग को फेमस करना और लोगो द्वारा चर्चा कैसे मुमकिन है:

– ओपनिंग लाइन्स बहुत महत्वपूर्ण है. चित्र समझिए ताले की चाबी हैं, खुल जाये तो आराम से काम बन जाए.

– इंस्टाग्राम पर पोस्ट करने के तीन घंटे के भीतर ही लोगों का इंटरेक्शन ज़रूरी है, ताकि आपकी पोस्ट बूस्ट हो.

– उन बातों और समस्याओं पर पोस्ट करें जिनसे लोगों को फर्क पड़ता है.

– SEO कुंजी है, लेकिन रीडर्स का ध्यान बनाए रखने में सिर्फ कीवर्ड स्टफिंग काफी नहीं.

– ब्लॉग की वैल्यू और ऑडियंस की वैल्यू में संतुलन बनाए रखना आवश्यक हैं.

– फ़ूड ब्लॉग में अपना डिटेल्ड एक्सपीरियंस बताना ज़रूरी है, उन रीडर्स के लिए जो किसी सुचना की तलाश में है.

Email us at connect@shethepeople.tv