स्तुति खंडेलवाल ने एम्स एंट्रेंस टेस्ट में ऑल इंडिया रैंक 10 हासिल की है जिसके परिणाम 12 जून को एम्स में बैचलर मेडिसिन कोर्स में प्रवेश के लिए घोषित किए गए थे। इससे पहले, स्तुति ने नीट में 71 वीं रैंक, जिपमर एंट्रेंस एग्जाम में 27 वीं और जे ई मेन में 1086 रैंक हासिल की थी, जिसके परिणामस्वरूप वह देश में प्रमुख तकनीकी कॉलेजों में सीट हासिल कर पाई है ।

नीट, एम्स , जिपमर, और जेई मेन के साथ – साथ भारत के प्रतिष्ठित संस्थानों में  बैचलर इंजीनियरिंग और मेडिसिन कोर्स में प्रवेश के लिए आयोजित सभी प्रमुख प्रवेश परीक्षाओं में उसने अद्भुत प्रदर्शन दिखाया है । उसने सीबीएसई कक्षा 12 की परीक्षा, साइंस स्ट्रीम से 98।8 प्रतिशत अंकों के साथ सफलतापूर्वक पास की और टॉप किया।

स्तुति ने छह महीने की अवधि में प्रमुख एंट्रेंस एग्जाम में बहुत सारे रैंक और अच्छे अंक हासिल किये है, चाहे वो एम्स हो या जे ई मेन, उसने साइंस स्ट्रीम का कोई भी एंट्रेंस एग्जाम नहीं छोड़ा जिसे उसने क्लियर न किया हो ।

और तो और उसने मैसाचुसेट्स के कैम्ब्रिज में टॉप स्थान पर स्थित यूएस रिसर्च यूनिवर्सिटी मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) से 90 प्रतिशत छात्रवृत्ति का प्रस्ताव हासिल किया। और टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार, गुजरात के सूरत की रहने वाले 18 साल की स्तुति एमआईटी से बायो-इंजीनियरिंग में एक रिसर्च प्रोग्राम करने के लिए अमेरिका जाएँगी.

उसने अपने शिक्षकों और माता-पिता से बात की, और फिर एमआईटी से अनुसंधान को अपने भविष्य के रूप में चुनने का निर्णय लिया, उसने एक अख़बार को बताया ।

मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी ) कैम्ब्रिज, मैसाचुसेट्स में एक टॉप रिसर्च यूनिवर्सिटी है।

यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के बाद, स्तुति रिसर्च करना चाहती है।

स्तुति ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, “मैं हमेशा रिसर्च में शामिल होना चाहती थी। सभी विषयों के बारे में पढ़ाई करने और उसे समझने के लिए मै हमेशा से उत्सुक थी इसलिए यह एक कारण था कि मैंने बायो और फिजिक्स दोनों को चुना।”

स्तुति ने अपने इंस्टिट्यूट द्वारा प्रकाशित एक ब्लॉग में कहा कि उसे परीक्षा की तैयारी में बहुत कठिनाई का सामना नहीं करना पड़ा क्योंकि सभी परीक्षाओं में, अलग -अलग विषय एक जैसे होते हैं।

स्तुति के माता-पिता दोनों पेशे से डॉक्टर हैं।

Email us at connect@shethepeople.tv