अपने एक आदेश में, दिल्ली हाई कोर्ट ने अपने वरिष्ठ अधिकारी के खिलाफ यौन उत्पीड़न की झूठी शिकायत दर्ज कराने के लिए एक महिला पर 50,000 रुपये का जुर्माना लगाया है और उसके लगाए हुए इल्ज़ामो को चुनौती देते हुए उसकी याचिका खारिज कर दी।

अदालत ने कहा कि महिला की याचिका में कोई मेरिट नहीं थी, जिसमें उसने इंटरनल कंप्लेंट समिति (आईसीसी) के 2012 के आदेश को चुनौती दी है और यह निर्देश दिया है कि पुरुष के रिटायरमेंट लाभ को रोक दिया जाए।

जस्टिस जेआर मेधा ने कहा, “इस लिखित  याचिका में कोई मेरिट नहीं है, जिसे याचिकाकर्ता [महिला] द्वारा दिल्ली उच्च न्यायालय के वेलफेयर  ट्रस्ट के साथ चार सप्ताह के भीतर जमा करने की 50,000 रुपये की लागत के साथ खारिज किया जाता है।

मामले की पड़ताल

अदालत ने कहा कि वह संगठन जहाँ महिलाएं काम कर रही थी, कानून के अनुसार पुरुष के खिलाफ “गलत शिकायत दायर करने” के लिए उसके खिलाफ उचित कार्रवाई शुरू करने की स्वतंत्रता पर है।

अपनी याचिका में, महिला ने कंपनी  से उस व्यक्ति के खिलाफ इंडिपेंडेंट डिपार्टमेंटल इन्क्वारी शुरू करने और उसके खिलाफ मुकदमा चलाने की भी मांग की थी।

अपनी शिकायत में महिला ने 2011 में अपने सीनियर द्वारा यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। उसने आरोप लगाया था कि उस व्यक्ति ने उसके साथ गलत व्यवहार किया और उसके साथ यौन उत्पीड़न किया।

शिकायत की जांच करने के लिए, एक आईसीसी का गठन किया गया था, जहां उस व्यक्ति ने उस आरोप से इनकार किया था और दावा किया था कि महिला की अनुपस्थिति में उसके द्वारा किये गए कुछ आधिकारिक कार्यों के कारण उसके खिलाफ शिकायत की गई है।

समिति ने देखा कि उस घटना में कोई ठोस सबूत सामने नहीं आया है।

इसने महिला और पुरुष दोनों को अपनी वर्तमान पोस्टिंग से ट्रांसफर देने की सिफारिश की थी।

हाई न्यायालय ने जांच की कार्यवाही के रिकॉर्ड के माध्यम से जाने के बाद कहा कि उस महिला की शिकायत झूठी है।

इसमें कहा गया है कि महिला ने दावा किया था कि यह घटना स्टाफ और कंपनी के अन्य सदस्यों की मौजूदगी में हुई थी, लेकिन पूछताछ की कार्यवाही के दौरान, वह उस समय मौजूद किसी भी व्यक्ति का नाम नहीं दे पाई थी।

Email us at connect@shethepeople.tv