मशहूर साहित्यकार और शिक्षावादी नबनीता देव सेन का गुरुवार शाम उनके दक्षिण कोलकाता स्थित घर पर लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया।

वह 81 साल की थीं और उनकी दो बेटियां हैं – लेखिका अंतरा और अभिनेत्री नंदना।

परिवार के सूत्रों ने बताया कि साहित्य अकादमी पुरस्कार की विजेता और पद्म श्री, देव सेन लंबे समय से कैंसर से पीड़ित थी और पिछले 10 दिनों के दौरान उनकी हालत बिगड़ गई।

एक कवि, एक उपन्यासकार, एक कोलुमनिस्ट और लघु कथाओं और ट्रवेलोगइस की लेखक, देव सेन को रामायण पर उनकी रिसर्च के लिए भी जाना जाता था।

उन्होंने अमेरिका में ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी और कोलोराडो कॉलेज में एक शिक्षिका के रूप में काम किया। देव सेन ने यहां जादवपुर यूनिवर्सिटी में तुलनात्मक साहित्य भी पढ़ाया।

उनका  शुरूआती जीवन

उनका जीवन 13 जनवरी, 1938 को कोलकाता में कवि-युगल नरेंद्रनाथ देव और राधारानी देवी के यहाँ जन्मी, उन्होंने यहाँ प्रेसीडेंसी कॉलेज से ग्रेजुएशन किया।

देव सेन ने 1958 में नोबेल पुरस्कार विजेता अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन से शादी की। 1976 में उनका तलाक हो गया।

इस साल नोबेल जीतने वाले अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी ने पिछले महीने शहर में अपने अल्प प्रवास के दौरान देव सेन से उनके घर पर मुलाकात की थी।

शोक का माहौल

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने देव सेन की मृत्यु पर दुख व्यक्त किया।

“प्रसिद्ध साहित्यकार और अकादमिक नबनेता देव सेन के निधन से दुखी। कई पुरस्कारों के प्राप्तकर्ता, उनकी अनुपस्थिति उनके असंख्य छात्रों और शुभचिंतकों द्वारा महसूस की जाएगी। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदना,” उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा। ।

प्रेसीडेंसी एलुमनाई एसोसिएशन, जिसकी अध्यक्ष देव सेन थी, उन्होंने एक बयान में कहा, “हम प्रेसीडेंसी एलुमनी एसोसिएशन की प्रिय अध्यक्ष नबनेता देव सेन के निधन पर अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करते हैं। वह पूर्व छात्र संघ की पहली महिला अध्यक्ष थीं। ”

लेखक सिरशेंदु मुखोपाध्याय ने कहा, “खबर सुनने के बाद मैं स्तब्ध हूं। मैंने एक महान मित्र को खो दिया।”

Email us at connect@shethepeople.tv