भारतीय ट्रांससेक्सुअल नाज़ जोशी को पोर्ट लुइस, मॉरीशस में मिस वर्ल्ड डाइवर्सिटी 2019 का ताज पहनाया गया है। इसके साथ ही वह लगातार तीन वर्षों तक खिताब जीतने वाली पहली व्यक्ति बन गई हैं क्योंकि उन्होंने 2017 और 2018 में दो बार पहले भी यह खिताब जीता था।

“ताज जीतने से मुझे समाज के प्रति शक्ति और जिम्मेदारी मिलती है। इतनी बड़ी जिम्मेदारी के साथ, मेरा लक्ष्य ट्रांसजेंडर लोगो को मुख्यधारा में लाने की दिशा में काम करना है। टीऍनआईइ ने बताया कि नाज़ चाहती हैं कि हर कोई हमें बिना किसी भेदभाव के स्वीकार करे। उन्होंने खुद को एक शक्तिशाली भारतीय देवी के रूप में पेश करने के लिए एक नीला लहंगा और चोली पहनी थी, जो  शक्ति का प्रतीक होती है । वह 14 अन्य अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगियों के खिलाफ थी।

नाज़ का जन्म दिल्ली के मालवीय नगर में आइज़ा नाज़ जोशी के रूप में हुआ था। उन्होंने कहा कि तथ्य यह था  कि वह एक अलग लिंग में पैदा हुई थी। उसके माता -पिता भी उसे अपना नहीं सके थे इसलिए उन्होंने उसे अपने मामा के परिवार के साथ रहने के लिए मुंबई भेज दिया। वह ऍनआईएफटी में एक कोर्स में शामिल हुईं और उन्होंने टॉप किया जिसके बाद उन्होंने करेस्पोंडेंस के माध्यम से आईएमटी  से मार्केटिंग में एमबीए कोर्स ज्वाइन किया क्योंकि संस्थान ने उन्हें रेगुलर कोर्स में एडमिशन नहीं दिया था ।

ताज जीतने से मुझे समाज के प्रति शक्ति और जिम्मेदारी मिलती है। इतनी बड़ी जिम्मेदारी के साथ, मेरा लक्ष्य है ट्रांसजेंडर को मुख्यधारा में लाने की दिशा में काम करना। मैं चाहती हूं कि हर कोई हमें स्वीकार करे वो भी बिना किसी भेदभाव के। – नाज जोशी

उन्होंने कुछ वर्षों तक फैशन उद्योग में काम किया लेकिन जल्द ही नौकरी छोड़ दी। “जब मैंने एक बदलाव से गुजरने का फैसला किया, तो मेरे  दोस्तों ने मुझे छोड़ दिया। मैंने पैसे कमाने के लिए रात में एक कैबरे डांसर के रूप में भी काम किया। मैं इतने भावनात्मक संकट से गुज़री कि मैंने तीन बार आत्महत्या करने की कोशिश की, लेकिन असफल रही, ”उन्होंने ट्रांसजेंडर फ़ीड को बताया।

2013 में, नाज़ अपनी सेक्स रिअसाइनमेंट सर्जरी के लिए गई और अपने मॉडलिंग करियर की शुरुआत की। “उज्ज्वल पक्ष तब आया जब डोनाल्ड ट्रम्प (जो 2015 तक मिस यूनिवर्स पेजेंट के मालिक थे) ने 2012 में नियमों को बदल दिया जिससे ट्रांससेक्सुअल को मिस यूनिवर्स ब्यूटी कम्पटीशन में भाग लेने की अनुमति मिली। तभी मैंने मॉडलिंग में हाथ आजमाने का फैसला किया। ”

उज्ज्वल पक्ष तब आया जब डोनाल्ड ट्रम्प (जो 2015 तक मिस यूनिवर्स पेजेंट के मालिक थे) ने 2012 में नियमों को बदल दिया जिसने ट्रांससेक्सुअल को मिस यूनिवर्स ब्यूटी पेजेंट में भाग लेने की अनुमति दी। तभी मैंने मॉडलिंग में हाथ आजमाने का फैसला किया। – नाज जोशी

एक फैशन डिजाइनर, एक मॉडल बनने के बाद, यह उनके लिए एक कवर गर्ल बनने का समय था – एक मैगज़ीन के कवर पर आनेवाली भारत की पहली ट्रांसजेंडर। बहुत कम ट्रांसवोमेन मुख्यधारा के मैगज़ीन कवर पर विश्व स्तर पर आई हैं और नाज़ उनमें से एक है। जून 2015 में, वह तहलका पत्रिका के कवर पर थीं और उनकी कहानी भारतीय और विश्व पेजेंट वेबसाइट द्वारा दिखाई गई थी।

ब्यूटी पेजेंट विजेता एक भावुक सामाजिक कार्यकर्ता भी है जो हमारे भारतीय समाज में ट्रांस लोगों के ऊपर लगे कलंक को कम करने की कोशिश कर रही  है। उन्होंने डॉ. उदित राज के साथ, गाँवों में लड़कियों को उनके अधिकारों के बारे में शिक्षित करने पर काम किया है। मिस वर्ल्ड डायवर्सिटी के अलावा, नाज़ को मिस रिपब्लिक इंटरनेशनल ब्यूटी एंबेसडर 2017 और मिस यूनाइटेड नेशनल एंबेसडर का ताज भी पहनाया गया है।

 

Email us at connect@shethepeople.tv