एक महिला होने के फायदे और नुकसान दोनो है. हम घर और परिवार की देखभाल करती है, लेकिन वित्तीय फ़ैसलों में रुचि नहीं रखती हैं.

हम अक्सर पैसे को संभालने जैसे “जटिल” मामलों से दूर रहती हैं. जब मैं घरेलू कामकाज को सुचारु रूप से चलाने में ख़ुद पर विश्वास करती हूं, तो मुझे वित्त संबंधित फ़ैसले भी लेने चाहिए. यह तो सच है कि अगर एक महिला आर्थिक रूप से स्वतंत्र नहीं है तो जोखिम कई गुना बढ़ जाता है.

महिलाओं का रात के खाने या पार्टी से लेकर छुट्टियां मनाने तक में अच्छा होना अनिवार्य है, महिलाएं चीज़ों का प्रबंधन बेहतर तरीके से करती हैं। तो, पैसे के प्रबंधन से क्यों कतराती है? एक महिला की विचार प्रक्रिया और योजना, उसे खर्च और बचत में संतुलन बनाने व पैसे का उपयोग करने के लिए आदर्श बनाती है.

मैं मानती हूं कि किसी चीज के बारे में स्पष्टता होना महत्वपूर्ण है, एक महिला के रूप में वित्त प्रबंधन के बारे में मैंने जो कुछ सीखा, उसके बारे में यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं:

दूसरों पर अपनी निर्भरता कम करें और अपने वित्त का प्रबंधन करें.  पैसा प्रबंधन अनोखा और मुश्किल कार्य नहीं है.


हम साथ साथ हैं – लेकिन बैंक खाता नहीं

आपके नाम पर आपके पति के साथ संयुक्त खाते के अलावा एक व्यक्तिगत बैंक खाता होना चाहिए. यह वेतन खाता या बचत बैंक खाता हो सकता है, यह आपके ख़र्च पर नज़र रखने में मदद करता है और आपको अपने पैसे के लिए जिम्मेदार भी बनाता है.

ये तेरा घर ये मेरा घर – तो चलो एक साथ ख़र्चा देखते हैं

अगर आप कमा रही हैं, तो घरेलू खर्च के लिए अपने पति के साथ पिच करें. दोनों वेतन का एक अनुपात खर्च के लिए उपयोग किया जाना चाहिए और बाकी का उपयोग बचत और अवकाश के लिए किया जा सकता है.

एक सूत्र तैयार करें जो आप दोनों के अनुकूल हो. आप जो कमाते हैं उसका एक हिस्सा खर्च करके आप अपने पैसे का प्रबंधन कैसे करते हैं, इसके बारे में आपको विवेक पूर्ण नीति बनानी होगी.

दूसरों पर अपनी निर्भरता कम करें और अपने वित्त का प्रबंधन करें.  पैसा प्रबंधन अनोखा और मुश्किल कार्य नहीं है.

(यह आर्टिकल दीपाली जोशी अधिकारी ने अंग्रेज़ी में लिखा है)

Email us at connect@shethepeople.tv