मणिपुर की बहादुर मुक्केबाज, इम्फाल वेस्ट की 16 वर्षीय बॉक्सिंग स्टार अंजू देवी ने हाल ही में जर्मनी के विलेनिंग, श्वेननिंगन में ब्लैक फॉरेस्ट कप के पांचवें एडिशन में गोल्ड मैडल जीता है। इस प्रकार, उन्होंने राज्य का गौरव बढ़ाया । अंजू (50 किग्रा) उन पांच भारतीय जूनियर महिला बॉक्सर में से है जिन्होंने इंटरनेशनल बॉक्सिंग रिंग में गोल्ड मैडल जीता है। अंजू कहती है कि वह विश्व चैंपियन एमसी मैरी कॉम से बहुत प्रेरित है। अब वह अपने अंतिम लक्ष्य की और बढ़ रही है जो की  2024 में पेरिस में होने वाले ओलंपिक खेलों के लिए लगातार तैयार होती जा रही है।

अंजू ने इतनी कम उम्र में सफलता पाने के बारे में शीदपीपल.टीवी से बात की, और बतया की जिस जुनून और कड़ी मेहनत से उन्होंने सफलता हासिल की है।

सफलता की राह में चुनोतियाँ

मुझे लगता है कि मेरे लिए पहली चुनौती थी मेरे माता-पिता को खेल की मेरी पसंद के बारे में समझाना। यह मेरे लिए काफी बड़ा पल था क्योंकि मैं वास्तव में चाहती थी कि वे मेरा समर्थन करें और अपनी बेटी पर गर्व महसूस करें। इसके अलावा, मैं हर दिन खुद को बेहतर बनाने के लिए खुद को चुनौती देना पसंद करती हूं।

मैं खुद से प्रेरित हूं। मैं प्रत्येक दिन बेहतर होने के लिए खुद को चुनौती देना पसंद करती हूं और यही मुझे आगे बढ़ाता है। बॉक्सिंग इस समय मेरे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है, आप कह सकते हैं कि यह लगभग मेरा जीवन है।

प्रेरणा

बचपन के दौरान, मैं बहुत चुस्त थी और हमेशा खेलना चाहती थी। मेरा परिवार काफी गरीब था, इसलिए हमारे पास अपना मनोरंजन करने के लिए बहुत कुछ नहीं था।

एक बार जब मैं बहुत छोटा था, मेरे शहर में एक बॉक्सिंग प्रतियोगिता में गयी थी और मैंने मैरी कॉम और सरिता दीदी (सरिता देवी) जैसे बॉक्सर्स को इसमें भाग लेते देखा। तब से, मैं बॉक्सिंग करने के लिए उत्सुक थी।

जीवन का सबसे यादगार पल

मुझे लगता है कि जिस समय मेरे माता-पिता ने बॉक्सर बनने के मेरे फैसले का समर्थन किया वह मेरे जीवन का सबसे यादगार पल था। इसने मुझे अपने सपनों को पूरा करने में सक्षम होने के लिए उन्होंने मुझे बहुत भरोसा दिया और खेल में बढ़ने के साथ-साथ मेरी मदद की और यहां तक ​​कि आईआईएस में ट्रेनिंग के लिए घर छोड़ना पड़ा।

बाकी लड़कियों को सन्देश

मैं सिर्फ उन्हें बताना चाहती हूं कि उन्हें अपनी प्रतिभा में विश्वास रखे और हिम्मत करे। कड़ी मेहनत करो और उन सभी चीजों पर बिकुल ध्यान मत दो जो लोग कहते हैं। उन आवाजों को बाहर निकालें जो आपसे कहती हैं कि आप जो चाहते हैं वह नहीं कर सकती हैं और अपने लक्ष्य की ओर बढ़ते रहिये।

Email us at connect@shethepeople.tv