नवंबर 2016 में, 23 वैज्ञानिकों की एक टीम भारत के नार्मल मौसम से निकलकर अंटार्कटिका की ज़बरदस्त ठंड का सामना करने के लिए पहुंच गई। वहां उन्हें भारतीय रिसर्च स्टेशन, भारती को ऑपरेट करने के लिए भेजा गया था और उन्हें इसरो की सॅटॅलाइट के लिए डाटा भी इकट्ठा करना था। 23 सदस्यीय इस टीम में मंगला मणि शामिल थीं।

हैदराबाद में एक युवा लड़की के रूप में, मंगला को जियोग्राफी के प्रति काफी आकर्षण था और वो एनालिटिकल रीजनिंग में भी आगे बढ़ना चाहती थी । उनका सबसे बड़ा सपना मानव सेवा के लिए किसी भी तरह के काम का हिस्सा बनना था।

अंत में एक अंतरिक्ष संगठन में शामिल होने की उनकी इच्छा तब पूरी हुई जब उन्होंने नासा के एक आर्टिकल पर अपनी सोच बांटी जिसमें मिशन मंगल की बात कही गई थी।

उनके माता-पिता, जिन्होंने उनके शोंक को पहचाना और उन्हें तकनीशियनों के लिए एक मॉडल डिप्लोमा-रेडियो अप्लायन्सेज (एमडीटी-आरए) में दाखिला लिया, जहाँ वह 80 पुरुषों में  इकलौती महिला छात्रा थी। इतने मुश्किल सिलेबस का मतलब था कि चार साल की ग्रेजुएशन करने के बाद  ईसीआईएल, एचएएल और निश्चित रूप से इसरो जैसे स्थानों में लगना।

वह अंटार्टिका में 23 सदस्यों की टीम में इकलौती महिला थी ।

द हिंदू के साथ बातचीत में, मंगला ने इसरो में अपना प्रवेश याद करते हुए कहा, “यह शुरू में सुचारू नहीं था। अपने डिप्लोमा के तुरंत बाद, मैंने शिक्षुता के लिए एचएएल, बालनगर में प्रवेश लिया। वहां, मुझे शार / इसरो में एक इंटरव्यू में भाग लेने के लिए बुलाया गया। मेरे पिता द्वारा ज़ोर देने पर मैंने भाग लिया और उसे शॉर्टलिस्ट हुई। मई बहुत आश्चर्यचकित थी क्योंकि तीन सप्ताह के भीतर, मुझे इसरो में शामिल होने के लिए एक अपॉइंटमेंट आर्डर मिला! ”

हालाँकि, एक महिला होने के नाते, उनका परिवार उन्हें इस तरह के पुरुष-प्रधान क्षेत्र में भेजने के लिए इच्छुक नहीं था। यह उनके चाचा के ज़ोर देने के बाद ही संभव हो पाया था  (जो पुलिस बल में थे) उन्होंने अपने माता-पिता को मना लिया, कि उन्होंने अंततः स्पेस रिसर्च के लिए भारत के प्रमुख संस्थान इसरो में अपना पहला कदम रखा।

वर्षों बाद, उन्हें अंटार्कटिका के लिए एक अनिश्चित अभियान के लिए चुना गया जिसमे वह 23 सदस्यों की टीम में इकलौती महिला थी।

Email us at connect@shethepeople.tv