हमने भारत में कई एथलीट्स के बारे में सुना है जैसे की दुती चंद और हिमा दास पर आज हम एक ऐसी एथलीट के बारे में बात करेंगे जिसने अपने जीवन के संघर्षों का अद्भुत तरीके से सामना किया है और अपनी मेहनत और बहादुरी के दम पर सफलता की ऊंचाइयों तक पहुंची है।

अपने करियर में ढेर सारी सफलता हासिल करने से लेकर गरीबी को खत्म करने तक ओपी जैशा के भारत के मराठा चैंपियन बनने की बाधाओं पर काबू पाने की प्रेरणादायक यात्रा।

ओपी जैशा जो की भारत की मैराथन चैंपियन है, उन्होंने 33 साल की उम्र में रियो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया। काफी सालों से, इस प्रेरक एथलीट ने अपने करियर में गरीबी, चोटों, गालियों के साथ-साथ चुनौतीपूर्ण ट्रैक घटनाओं पर काबू पाया। जैशा ने अपने रास्ते में आने वाली हर बाधा का मुकाबला किया, एक होनहार एथलीट के रूप में उभरने के लिए।

एथलीट बनने की प्रेरणा

एक टीनएजर के रूप में, जैशा अपने शहर से 3 किमी दूर एक स्पोर्ट्स कल्चरल फेस्टिवल में हिस्सा लेने के बारे में अडिग थी। उन्होंने अपनी मां को इसके लिए मनाने के लिए जी जान लगा दी थी । उनकी माँ उन्हें मना करते हुए थक गई थी । जैशा की मां ने उन्हें कहा  , “करो जो तुम्हे  करना है ।”

यह पहला ऐसा मौका था जब जैशा ने अपनी मां की इच्छाओं को टाला था। वह त्यौहार पर एक दर्शक के रूप में गई थी, लेकिन एक टीम के आखिरी मिनटों के मुकाबलों को जीतने  के लिए संघर्ष कर रही एक कोच द्वारा 800 मीटर की दौड़ में भाग लेने के लिए मान गयी थी।

वह उनकी पहली ऐसी दौड़ थी जिसमे वह नंगे पांव भागी थी, राष्ट्रीय स्कूल गेम्स चैंपियन के साथ उन्होंने कम्पीट किया और उन्होंने पूरे राष्ट्रीय स्कूल चैंपियनशिप में 100 मीटर की अविश्वसनीय जीत हासिल की।

वह घर गई और गर्व से अपने परिवार को विजेता प्रमाण पत्र दिखाया। उनकी माँ को उनकी इस जीत पर बहुत ख़ुशी हुई ।

फिर उन्होंने फैसला किया कि वह एक दिन ज़रूर कुछ हासिल करेंगी  और अपने परिवार को गरीबी से बाहर निकालने के लिए मेहनत कर कुछ बांके दिखाएंगी ।

उनके जीवन के संघर्ष

इतने संघर्ष करने के बावजूद उन्हें और भी बहुत कुछ सहना पड़ा जैसे की खाना न होने के कारण  उन्हें कई बार कीचड़ खाकर ज़िंदा रहना पड़ा, चावल का पानी उनके लिए लक्जरी था । वह बस दौड़ने में  अपना इंटरेस्ट बढ़ाती गई।

एक बच्चे के रूप में, वह सुबह 5 बजे उठती थी, अपनी मां द्वारा खरीदी गई किराए की  गायों का दूध निकालती थी और फिर दूध बेचने के लिए स्थानीय दुग्ध समाज में एक मील पैदल चलकर घर वापस आती थी। फिर वह दो किलोमीटर पैदल चलकर स्कूल जाती थी।

लंच ब्रेक के दौरान वह खाना खाने के लिए घर वापस आती थी, और खुद को भाग्यशाली समझती थी अगर उन्हें  कुछ भी खाने को मिल जाता था। शाम को, वह एक बार फिर दुग्ध समाज के लिए दो किलोमीटर की वापसी यात्रा करेगी। बड़े होने के दौरान इन्होने जैशा की हाई ट्रेनिंग के लिए काम किया।

स्पोर्ट्स स्किल्स के साथ करियर की ओर सफर तय करने के लिए स्पोर्ट्स कॉलेज की फीस देने में असमर्थता भी उनकी बाधा थी।

एथलेटिक्स के क्षेत्र में फिर से प्रवेश करने की उनकी क्षमता के बारे में लगातार संदेह के बावजूद, उन्होंने एक बार फिर भारत के लिए दौड़ने के अपने दृढ़ संकल्प को फिर से बढ़ाया।

जैशा की उपलब्धियाँ

ओरचात्तेरी पुठिया वीतील जैसा  ने लगातार राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़े हैं। पिछले साल जब वह बीजिंग में वर्ल्ड चैंपियनशिप के मैराथन इवेंट में 2:34:४३ के समय पर पहुंची थी और उस साल के शुरू में उन्होंने  हासिल किए गए 2:37:29 समय के अपने ही रिकॉर्ड को तोड़ दिया।

अपनी पहली पूर्ण मैराथन उपस्थिति में, उन्होंने 19 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा।

उन्होंने 1,500 मीटर, 3,000 मीटर और 5,000 मीटर के इवेंट में कुछ सबसे चुनौतीपूर्ण ट्रैक इवेंट में अपनी पहचान बनाई है। वह 3,000 मीटर स्टीपलचेज इवेंट में एक पूर्व राष्ट्रीय रिकॉर्ड धारक है, जिसे दौड़ के दौरान धावक को पानी सहित बाधाओं पर कूदने की आवश्यकता होती है।

वह उन कुछ भारतीय महिला एथलीटों में से हैं जिन्होंने अपनी दूसरी पारी में सफलता हासिल की।

Email us at connect@shethepeople.tv