आइये मिलते हैं  बेंगलुरु के 68 वर्षीय जेनेट यग्नेस्वरन से, जिन्होंने अपने स्वर्गीय पति की याद में 73,000 पौधे अकेले लगाए और वो अपना पेड़ उगाने का यह रिकॉर्ड तोड़ने के लिए भी तैयार हैं।

बेंगलुरु मिरर के अनुसार, जेनेट येगेश्वरन ने अपने पति आरएस यंगेस्वरन के निधन के तुरंत बाद 2005 में पौधे लगाना शुरू किया । यह दुखद नुकसान उस समय के साथ हुआ जब बेंगलुरु विकास के नाम पर बड़े पैमाने पर पेड़ों की कटाई से गुजर रहा था।

तब जेनेट ने चीजों को अपने हाथ में लेने का फैसला किया और इसक विरोध करने के  बजाय, उन्होंने एक  रचनात्मक दिशा की और अपना कदम बढ़ाया  और एक वृक्षारोपण अभियान शुरू किया।

जेनेट ने पहले अपने बगीचे में पेड़ लगाना शुरू किया और धीरे-धीरे अपने आसपास के लोगों में जागरूकता फैलाना शुरू किया। जबकि कुछ लोग पेड़ लगाने  के विचार से खुश थे और कुछ पेड़ो की देखभाल अच्छे से भी  कर रहे थे। लेकिन काफी जगहों से उन्हें साथ नहीं मिला, फिर भी जेनेट रुकी  नहीं , उनके होंसले को कुछ भी काम नहीं कर सका ।

उन्होंने  पूरे कर्नाटक और तमिलनाडु के कुछ हिस्सों में पेड़ लगाए । जब उन्होंने पहली बार वृक्षारोपण अभियान शुरू किया, तो उनका खर्चा बहुत ज़्यादा बढ़ गया , लेकिन आज उनकी इस पहल को इतनी बड़ी स्वीकृति मिली है कि वह लोगों द्वारा दिए गए दान पर पेड़ लगाने का खर्चा  करती है।

जेनेट प्राकृतिक मुसीबतो के कारण ख़राब हुए क्षेत्रों को दुबारा बसाने के लिए पेड़ लगाने में मेहनत कर रही है। थेंगजा नाम की उनकी परियोजना में गाजा तूफ़ान से प्रभावित किसानों के लिए 1,000 नारियल के पौधे लगाना शामिल है।

जेनेट येग्नेस्वरन, जिन्होंने लैंडस्केप डिजाइनिंग की पढ़ाई की  है, को इस बात का ज्ञान है कि पेड़ लगाने के लिए किन क्षेत्रों को चुनना है और इसलिए उनकी ड्राइव बेहद व्यवस्थित है। वह कहती हैं कि जो कोई भी वृक्षारोपण करना चाहता है, वह संपर्क में आ सकता है, उनकी एकमात्र  शर्त सिर्फ यह है कि उन्हें लगातार  पौधे की देखभाल करनी पड़ेगी और उसे रोज़ पानी देना पड़ेगा।

जन्मदिन और कई अन्य महत्वपूर्ण अवसरों पर वृक्ष लगाना एक और फायदेमंद काम  है। उन्होंने  बताया, “एक लड़की अपने जन्मदिन पर 111 पौधे लगाने के लिए मुझसे रोज़ संपर्क करती है और उसके पिता उसी के लिए 300 रुपये का योगदान करते हैं।”

इसके अलावा कई कॉर्पोरेट फर्म जैसे केपीजीएम और नोकिया पेड प्लांटेशन ड्राइव चलाते हैं, लेकिन जब निवासियों और किसानों की बात आती है, तो वृक्षारोपण ज्यादातर मुफ्त किया जाता है।

जेनेट यंगेस्वरन ने 107 वर्षीय पर्यावरणविद् साल्लुमरदा थिमक्का से प्रेरणा ली जिन्हें इस वर्ष पद्म श्री से सम्मानित किया गया था।

Email us at connect@shethepeople.tv