छह बार विश्व चैंपियन रह चुकी मैरी कॉम ने कहा कि वह 2020 टोक्यो ओलंपिक में देश के लिए स्वर्ण पदक जीतने के बाद रिटायर होना चाहती हैं.

छह बार विश्व चैंपियन रह चुकी एमसी मैरी कॉम ने गुरुवार को कहा कि वह टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने के बाद खेल से सन्यास लेने की योजना बना रही हैं।

36 वर्षीय मैरी कॉम ने  भारतीय मुक्केबाजी में एक नया इतिहास बनाया हैं। अपने 18 साल के लंबे शानदार करियर में, उन्होंने छह विश्व चैंपियनशिप, एक ओलंपिक ब्रोंज मैडल और पांच एशियाई चैंपियनशिप जीती हैं।

एक अच्छी और शीर्ष स्तर की मुक्केबाज होने के अलावा, वह राज्यसभा सांसद भी हैं।

“2020 के बाद मैं रिटायर होना चाहती हूँ इसलिए मेरा मुख्य मिशन भारत के लिए एक स्वर्ण जीतना है। मैं वास्तव में (स्वर्ण) जीतना चाहती  हूं,” मैरी कॉम ने कोलगेट द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में कहा।

मैरी कॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में फ्लाईवेट वर्ग में ब्रोंज मैडल जीता था। वह अब अपने मैडल के रंग को सोने में बदलना चाहती है।

मैं हमेशा देश को मैडल दिलाने की पूरी कोशिश करती हूं और अगर संभव हो तो गोल्ड मैडल भी मैं ओलंपिक क्वालीफायर और विश्व चैम्पियनशिप के लिए अपनी तैयारी शुरू करूंगी मैं इस बार स्वर्ण पदक जीतना चाहती हूं।”

बॉक्सिंग बिरादरी को अगले साल ओलंपिक के लिए कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा है। अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आई ओ सी ) ने टोक्यो ओलंपिक में अंतर्राष्ट्रीय आयोजन से अंतर्राष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ (ऐ आई बी ऐ ) को हटा दिया है।

आईओसी ने घोषणा की है कि वह अगले साल जनवरी से मई के बीच ओलंपिक क्वालीफायर के लिए एक नया कैलेंडर तैयार करेगा और इसके कारण वेट काटेगोरिस  में फिर से बदलाव हो सकता है। भारतीय पगिलिस्ट एक दुविधा में फंस गए हैं लेकिन मैरी कॉम को लगता है कि अगले साल क्वालीफायर आयोजित किया जाए तो यह उनके लिए फायदेमंद होगा।

यह वास्तव में मेरे लिए बेहतर है मुझे तैयारी के लिए अधिक समय मिलेगा,” उन्होंने कहा।

“हम न केवल ओलंपिक के लिए बल्कि सभी प्रतियोगिताओं के लिए नियमित रूप से प्रशिक्षण ले रहे हैं। विश्व चैम्पियनशिप में, मुझे पता चल जाएगा कि मेरे विरोधियों की  ताकत और कमजोरियां क्या हैं। फिर मई उसके अनुसार तैयारी कर सकती हूं। क्वालीफायर होने पर मुझे तैयारी के लिए ज़्यादा समय भी मिलेगा।”

रियो खेलों के लिए क्वालीफाई करने में नाकाम रहने के बाद, मैरी कॉम ने दिसंबर 2016 में अपना वजन वर्ग 48 किग्रा में बदल दिया था, लेकिन अब मणिपुर के पुगिलिस्ट 51 किग्रा में  लड़ने के लिए वापस आ गई हैं।

बदलाव के बारे में पूछे जाने पर मैरी कॉम ने कहा: “51 किग्रा वर्ग मेरे लिए नया नहीं है। मैं 4-5 साल पहले इस श्रेणी में लड़ रही थी। यह लगातार  नहीं था क्योंकि मेरा वजन बदलता रहा ।

Email us at connect@shethepeople.tv