विंग कमांडर अंजलि सिंह ने देश की सेना में इतिहास रचा है । अंजलि सिंह, किसी भी भारतीय मिशन के लिए विदेश में तैनात होने वाली पहली महिला बन गई हैं, भारतीय वायु सेना ने उन्हें डिप्टी एयर अटैची के रूप में मॉस्को भेजा है।

कुछ महत्वपूर्ण बाते:

  1. आईऐएफ विंग कमांडर अंजलि सिंह फर्स्ट वुमन अटैच बनीं।
  2. उन्होंने 10 सितंबर, 2019 को अपने नए पद की जिम्मेदारी संभाली।
  3. वह एक एयरोनॉटिकल इंजीनियर है जिसने अपने 17 साल के सैन्य कैरियर के दौरान लड़ाकू स्क्वॉड्रन के साथ काम किया।
  4. अपनी नौकरी के काम के रूप में, सिंह विदेश में किसी भी भारतीय मिशन में तैनात होंगी।

आईएएफ के दो अधिकारियों ने कहा कि उन्होंने 10 सितंबर को अपने नए कार्यभार की जिम्मेदारी संभाली थी। 41 वर्षीय अधिकारी एक वैमानिकी इंजीनियर है, जिन्होंने अपने 17 साल के सेना में करियर के दौरान फाइटर स्क्वाड्रोन्स के साथ काम किया।

पहली महिला सेना राजनयिका

अब तक, तीनों सेवाओं के केवल पुरुष अधिकारियों को ही विदेशी भारतीय मिशनों में सैन्य अटैचमेंट के रूप में नियुक्त किया जाता था। यह बदलाव निर्मला सीताराम के रक्षा मंत्री होने के कार्यकाल के दौरान हुआ था जब उन्होंने सैन्य महिलाओं को अधिक वैश्विक प्रदर्शन देने के प्रस्ताव का समर्थन किया। चोंइरा बेलियप्पा मुथम्मा दशकों पहले पहली भारतीय महिला राजनयिक बनीं, तब से भारतीय महिलाओं ने विदेशों में अपनी पहचान बनाई है। उन्होंने अपनी पहचान बनाई और विंग कमांडर अंजलि सिंह से मुलाकात की।

सेना और नौसेना महिला अधिकारियों को भी डिफेन्स अटैचेस के रूप में नियुक्त किया जाएगा क्योंकि भविष्य में आवश्यकता को पूरा करने वाले उम्मीदवारों के आधार पर रक्षा अटैचमेंट होंगे।

निजी जीवन

“विंग कमांडर अंजलि सिंह 10 सितंबर को भारतीय एम्बेसी मास्को में डिप्टी एयर अटैच के रूप में शामिल हुईं। मॉस्को में भारतीय एम्बेस्डर ने ट्वीट किया, वह विदेश में किसी भी भारतीय मिशन में सैन्य राजनयिक के रूप में तैनात होने वाली पहली महिला भारतीय सशस्त्र बल अधिकारी होने का गौरव प्राप्त करती है।

सिंह बिहार की निवासी हैं। वह शादीशुदा है और उनका एक आठ साल का बेटा है। मॉस्को जाने से पहले, वह जोधपुर में तैनात थी।

Email us at connect@shethepeople.tv