जब सांताक्रूज स्कूल के कक्षा 9 की एक छात्रा ने इस साल की शुरुआत में एक सोशल मीडिया साइट पर अपनी सेल्फी अपलोड की, तो उसे पता नहीं था की उसे इंटरनेट पर एक ऐसे व्यक्ति  द्वारा उत्पीड़न का सामना करना पड़ेगा जिसे वो जानती भी नहीं है।

उस व्यक्ति ने उस छात्रा की सेल्फी से छेड़छाड़ की, और फिर उन्हें ऑनलाइन धमकी देने और यौन उत्पीड़न के लिए इस्तेमाल किया। जिसके बाद छात्रा ने आखिरकार पुलिस में शिकायत दर्ज कराई जिसके बाद आरोपी को गिरफ्तार किया गया ।

ऑनलाइन स्टाकिंग और साइबर क्राइम में बढ़ोतरी

जैसा की ऑनलाइन स्टाकिंग काफी बढ़ गयी है इसलिए मुंबई पुलिस ने अपने स्कूल के आउटरीच कार्यक्रम, पुलिस दीदी को फिर से शुरू कर दिया है जिसमे बच्चों को सोशल मीडिया पर उत्पीड़न से सुरक्षित रखने के तरीके भी सिखाए जायेंगे। पुलिस दीदी अभियान 2016 में शुरू किया गया था, शहर भर में स्कूलों में यौन उत्पीड़न के कई मामलों के बाद। इस अभियान में देखा गया कि महिला पुलिस अधिकारी स्कूल और कॉलेज की लड़कियों से “गुड टच और बैड टच” के बारे में बात करती हैं और उन्हें सिखाती हैं कि इसके खिलाफ कैसे बोलना है।

यह अब केवल गुड टच और बाद टच के बारे में नहीं है, बल्कि इंटरनेट पर अच्छे दोस्त और बुरे दोस्त के बारे में भी है,” पुलिस उपायुक्त (बंदरगाह क्षेत्र) डॉ. रश्मि करंदीकर ने कहा।

मामले की जांच करने वाले एक पुलिस अधिकारी ने कहा, “अगर सांताक्रूज छात्रा को साइबर क्रैकिंग और उत्पीड़न से निपटने के तरीके के बारे में पता होता तो उसे इतने महीनों तक इस सब से नहीं गुजरना पड़ता।” “वह अपने माता-पिता को तुरंत बताती और उत्पीड़न को रोक सकती थी ।” जैसा कि पुलिस विभाग को साइबर क्राइम के बहुत ज़्यादा मामले मिलने लगे है, पुलिस आयुक्त संजय बर्वे ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों को साइबर अवेयरनेस को पुलिस दीदी कैंपेन में शामिल करने के निर्देश दिए। पुलिस दीदी अभियान में महिला अधिकारी न केवल अब स्कूलों और कॉलेजों में जाती हैं, बल्कि शहर भर में रेजिडेंशियल सोसाइटियों और बस्तियों में भी जाती हैं। एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी ने कहा, “जैसे कि आजकल हर एक के पास स्मार्टफोन है इसलिए जोखिमों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है।” अधिकारी ने कहा, “माता-पिता अपने बच्चों को उनके जीवन को सुविधाजनक बनाने के लिए और उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए मोबाइल फोन देते हैं, लेकिन वे अपने बच्चों को यह नहीं सिखाते हैं कि ऑनलाइन होने के खतरे से कैसे निपटें।”

पुलिस दीदी ट्रेनिंग

पुलिस दीदी को कैसे ट्रैन किया गया? “मुंबई के सभी 94 पुलिस स्टेशनों से 200 से अधिक महिला पुलिस कर्मियों (अधिकारियों और कांस्टेबल सहित) को साइबर विशेषज्ञों, बाल मनोचिकित्सकों और सलाहकारों द्वारा प्रशिक्षण दिया गया। डॉ। रश्मि करंदीकर ने कहा कि ये महिलाएं स्कूलों, कॉलेजों, रेजिडेंशियल सोसाइटियों, चॉलों और बस्तियों का दौरा करने से पहले अपने सहयोगियों को पुलिस स्टेशनों में ट्रेनिंग देती हैं।

Email us at connect@shethepeople.tv