सबसे खराब सेक्स रेश्यो के लिया मशहूर राज्य, हरियाणा फिर से अपने पुरुष प्रधान विचारों को संसदीय चुनावों में महिला उम्मीदवारों की संख्या में प्रदर्शित करता है। 10 सीटों के लिए चुनाव लड़ने वाले 223 उम्मीदवारों में से केवल 11 महिला उम्मीदवार हैं।

1.80 करोड़ मतदाताओं में से 83, 40,173 महिलाएं हैं। मतदाताओं के रूप में महिलाओं की विशाल भूमिका के बावजूद, इस क्षेत्र की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी इंडियन नेशनल लोकदल के पास कोई महिला उम्मीदवार नहीं है। आम आदमी पार्टी (आप) जो कि जननायक जनता पार्टी (जे जे पी) के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ रही है, वह भी बिना किसी महिला उम्मीदवार के साथ इस समूह में शामिल हुईं।

छठे चरण में, हरियाणा में 12 मई को 10 सीटों पर मतदान होगा। भाजपा की एकमात्र महिला उम्मीदवार सिरसा की पूर्व इंडियन रेवेन्यू अफसर (आईआरएस) सुनीता दुग्गल हैं।

 छठे चरण में, हरियाणा में 12 मई को 10 सीटों पर मतदान होगा। भाजपा की एकमात्र महिला उम्मीदवार सिरसा की पूर्व भारतीय राजस्व अधिकारी (आईआरएस) सुनीता दुग्गल हैं। जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) की भी हरियाणा में सात सीटों में से एक पर एक अकेली महिला उम्मीदवार है। बाकी तीन सीटों पर आम आदमी पार्टी चुनाव लड़ रही है।

दुष्यंत चौहान के नेतृत्व वाली जेजेपी में भिवानी, महेंद्रगढ़ से एक अकेली महिला उम्मीदवार स्वाति यादव है। प्रमुख पार्टियों से चुनाव लड़ रही महिलाओं में वह सबसे छोटी हैं। 30 वर्षीय यादव एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर हैं, जो क्लेम्सन यूनिवर्सिटी से पास आउट हैं और उन्होंने जॉर्जिया टेक यूनिवर्सिटी से एमबीए भी किया है। जब राजनीति में शामिल होने की बात आई, तो उन्होंने आईएएनएस से कहा, “मैं भारत को पुरुषों और महिलाओं दोनों को समान अवसर प्रदान करते हुए देखना चाहता हूं।”

कांग्रेस ने अंबाला से कुमारी शैलजा और भवानीमहेंद्रगढ़ से श्रुति चौधरी नाम की दो महिला उम्मीदवार  हैं। दिलचस्प बात यह है कि दोनों महिला उम्मीदवार राजनीतिक राजवंशों से हैं।

कांग्रेस ने अंबाला से कुमारी शैलजा और भवानी-महेंद्रगढ़ से श्रुति चौधरी नाम की दो महिला उम्मीदवार उतारे हैं। दिलचस्प बात यह है कि दोनों महिला उम्मीदवार राजनीतिक राजवंशों से हैं। बसपा और लोकतांत्रिक सुरक्षा पार्टी गठबंधन में कांग्रेस के साथ, सोनीपत से राज बाला सैनी और कुरुक्षेत्र से शशि सैनी को चुनावी मैदान में उतारा।

कुल मिलाकर, कुमारी सैलजा, श्रुति चौधरी और सुनीता दुग्गल राष्ट्रीय राजनीतिक दलों द्वारा नामित केवल तीन उम्मीदवार हैं। 2009 में अधिकतम 14 महिलाओं ने चुनाव लड़ा था, जबकि सबसे काम तीन ने 1989 में चुनाव लड़ा था। इसके अलावा, अब तक, केवल पांच महिलाएं हरियाणा से लोकसभा के लिए चुनी गई हैं। दिलचस्प बात यह है कि इस बार, छह महिलाएं अपने परिजनों के कारण राजनीतिक दलों में शामिल हुई हैं। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री बंसीलाल की पोती, श्रुति चौधरी उनमें से एक हैं। अन्य लोग आशा हुड्डा और कांता चौटाला हैं – वे क्रमशः भूपिंदर सिंह हुड्डा और ओमप्रकाश चौटाला की अच्छी तरह से स्थापित राजनीतिक राजवंशों से आते हैं।

Email us at connect@shethepeople.tv