सुभाश्री बासु अच्छे भोजन की अहमियत को समझती हैं. उन्होंने निगेल स्लेटर, साइमन होपकिंसन और निगाला लॉसन की किताबों से सामग्री के महत्व के बारे में सीखा। लेकिन वह राजमा चावल को सड़क के किनारे मिल रहे राजमा चावल या एक सरल केरल साध्याय का आनंद लेना पसंद करती हैं. कॉरपोरेट नौकरी के कई सालों के बाद, उन्होंने अपना ब्रांड “हंगरी कैट किचन” शुरू किया.

वह कहती हैं, “हम घर जैसे बने भोजन को बढ़ावा दे रहे हैं. वह भोजन जिसकी आप एक रविवार की दोपहर पर परिवार और दोस्तों के साथ खाने की कप्लना करते हैं. जब आप ऐसे भोजन के बारे में सोचते हैं, तो आप महसूस करते हैं कि चीजें एक पल में नहीं होती हैं। इसके लिए धैर्य और प्रेम की आवश्यकता होती है इसलिए धीमी गति से खाना पकाना ही मेरे लिए उपयक्त है.

पढ़िए : जानिए बीना राव हजारों बच्चों की जिंदगी कैसे बदल रहे हैं

सुभाषश्री कोलकाता में जादवपुर विश्वविद्यालय से इकोनॉमिक्स में ग्रेजुएट हैं। वह 2003 में मुंबई चली गयी और उन्होंने एक दशक से अधिक समय तक प्रिंट और टेलीविज़न स्पेस में काम किया। वह एक ऐसे परिवार से आती है जहां सभी ने सेवा उद्योग में काम किया है। एक शेफ बनना एक स्पष्ट विकल्प था क्योंकि सुभाश्री को खाना बनाना पसंद है.किताबें, इंटरनेट और टेलीविजन उनके शिक्षक रहे हैं.

“मेरी पेशकश में पोर्क करी, पाई, कैसरोल और घरेलू खाना पकाने की सभी चीजें शामिल हैं। यह कहने के बाद, मैं केवल पोर्क नहीं बनाती. मैं अन्य मांस, समुद्री भोजन और सब्जियों भी पकाती हूं।”

वह बताती है, “एक ग्राहक के पास अपनी प्लेट पर बहुत से विकल्प हैं और दुर्भाग्य से वहाँ कुछ उद्योग लोग हैं जो सही कीमत पर चार्ज नहीं करते हैं जिससे न केवल वह खुद को नीचे खींच लेते हैं, वह दूसरों को अपने साथ भी खींचते हैं।”

पढ़िए : कामकाजी माताओं को सदा दुःख और दोषिता की भावनाओं से गुज़ारना पढ़ता है : मंदिरा सेन

अनजाने में, यह आपको अपनी विफलताओं और कमियों के लिए भी जिम्मेदार बनाता है. लेकिन सुभाश्री दृढ़ हैं और वह एक ऐसे मुकाम तक पहुंचना चाहती है जहां वह मुम्बई में हर विवेकी भोजन की डिलीवरी और केटरिंग विकल्पों की सर्वोत्तम पांच की सूची में हो.

वह कहती हैं, “इस व्यवसाय में मुझको ग्राहकों से लगातार प्रतिक्रिया लेनी होती है और अपनी कमज़ोरिओं पर काम करना होता है.”

यदि एन्त्रेप्रेंयूर बनने के पीछे एक प्रेरणा शक्ति है तो यह जुनून होना चाहिए। आप पैसे कमाने के लिए एन्त्रेप्रेंयूर नहीं बन सकते हैं या कुछ अंतराल को भरने के लिए जो आप बाजार में देखते हैं। आप अपने काम पर जाने के लिए और दैनिक समस्याओं का सामना करने के लिए अपने आप को धक्का नहीं दे सकते यदि आप वास्तव में अपने काम से प्यार नहीं करते हैं.

पढ़िए :“इनोवेशन एन्त्रेप्रेंयूर्शिप का दिल है” – सुरभि देवरा

Email us at connect@shethepeople.tv