पिछले महीने फिल्म उद्योग में कई आरोप सामने आये जो #MeToo आंदोलन के तहत लगाये गये थे. अब अधिक महिलाएं कैमरे के पीछे काम कर रही हैं, #MeToo आंदोलन के बाद एक फिल्म तकनीशियन कैसा महसूस करती है?  SheThePeople.TV ने विशेष रूप से एक सहायक निदेशक सिमरन गुरसाहनी से बातचीत की, जो हाल ही में कुछ प्रमुख प्रोडक्शन कंपनियों के साथ काम कर रही है. 21 साल की यह मुंबई निवासी कालाकंदी, लखनऊ सेंट्रल, सत्यमेवा जयते और नयी फिल्म बाजार में काम कर चुकी है.

एक सहायक निदेशक का काम सतह पर बहुत आसान लगता है. लेकिन गहराई में जायेंगे तो समझ में आयेंगा कि यह किताना मुश्किल काम है. सहायक निदेशक दृश्यों के पीछे के अदृश्य हाथ होते हैं, जो फिल्म के बाकी हिस्सों और दल के रूप में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.  तो सेट पर एक युवा महिला सहायक निदेशक होने का मतलब क्या है?

धर्मा प्रोडक्शंस की एक फिल्म में काम कर रही सिमरन का मानना है कि सहायक निदेशक के रूप में काम करना ही एक जीवनशैली है. उन्होंने एनीमेशन, स्टोरी टैलिंग के उनके प्यार और कैमरे की पीछे के अनुभव के बारे में बात की. वही उन्होंने बताया कि वह दबाव से कैसे निपटती है और अभी चल रही #MeToo लहर का क्या असर है.

“यह आंदोलन मेरे जैसी युवा लड़कियों और कई अन्य लोगों के लिए इतना महत्वपूर्ण है जो इस पेशे में आगे बढ़ाने की इच्छा रखती हैं. बहादुर महिलाएं जो आगे आ गई हैं और अपनी कहानियों को सुनाया है, उन्होंने सिस्टम से लड़ने के लिए दूसरी महिलाओं को प्रेरित किया है ”

उन्होंने बताया कि किस तरह से इस आंदोलन ने उद्योग में प्रगतिशील बदलाव किया है प्रोडेक्शन हाउस के कर्मचारियों के साथ. यह अब अपने कर्मचारियों के लिये यौन उत्पीड़न कार्यशालाओं का आयोजन कर रहे है. “बस कुछ दिन पहले, हमारे पास धर्म में एक सूचनात्मक यौन उत्पीड़न कार्यशाला आयोजित की गई जिसमें पूरी टीम ने भाग लिया. ”

स्टोरी टैलिंग का प्यार 7 साल में ही शुरु हो गया था

सिमरन सात वर्ष की थी जब उनके माता-पिता ने गर्मी की छुट्टी में एनीमेशन कार्यशाला में उनका दाखिला करवा दिया था. उन्होंने बताया, “यह तब हुआ जब मैंने कक्षाओं में जाना शुरू कर दिया कि मुझे एनीमेशन के तरफ जा रही भीड़ के बारे में पता चला. मैंने तीन साल तक शेड्यूल के अनुसार इन कक्षाओं में भाग लिया और आश्चर्यजनक रूप से मुझे 10 साल की उम्र में एक छोटी एनीमेशन फिल्म बनाने का मौका मिला. “वह इन कक्षाओं को मूलभूत शिक्षा का श्रेय देती है कि कैसे एक कहानी को एक से अधिक तरीकों से बताया जा सकता है.”

फिल्म निर्माण के बारे में सोचा

सिमरन ग्रेड 10 में थी जब उन्होंने अपने एनीमेशन शिक्षक को बुलाया और बताया कि वह कक्षाओं में लौटना चाहती है. यह तब हुआ जब उनके एनीमेशन शिक्षक ने उन्हें एक स्कूल में एक एनीमेशन कार्यशाला आयोजित करने में उनकी मदद मांगी. “मेरे एनीमेशन शिक्षिका के पति एक विज्ञापन फिल्म निर्माता थे. उन्होंने मुझे पारले-जी के विज्ञापन के लिए इंटर्नशिप की पेशकश की, जो मेरा पहला अनुभव था. मुझे याद है कि मैं 16 वर्षीय की उम्र में कैसे शामिल हुई और यह तब था जब मुझे पता था कि फिल्म निर्माण ही मेरा जुनून है. ”

फिल्म परियोजनायें

वह अंततः कॉलेज में दाखिल हो गईं और फिल्मों से संबंधित कुछ छोटे कोर्सस किये. इसके तुरंत बाद, उन्होंने फिल्म निर्माता निखिल आडवाणी के प्रोडक्शन हाउस, एम्मे एंटरटेनमेंट में नौकरी के लिए आवेदन किया, लेकिन वह अपनी परीक्षाओं की वजह से जा नही पाई. कुछ महीने बाद, जब वह अपना अगला कदम उठा ही रही थी, तो उनके पास इंटर्न का आफर उसी प्रोडेक्शन हाउस से आया.

“मैंने लखनऊ सेंट्रल फिल्म के लिए इंटर्नशिप की. कई बार हमारे पास रात के शेड्यूल होते थे और मैं सीधे सुबह कॉलेज के लिये लोकल ट्रेन लेती थी. इस व्यस्त कार्यक्रम ने मुझे परेशान नहीं किया क्योंकि मैं काम से बहुत प्रभावित था. लखनऊ सेंट्रल के बाद बाजार में एक और मौका मिला. “

उन्होंने कहा, “मेरे पिता ने मुझे हमेशा बताया कि हर अवसर का लाभ लिया जायें और इसके लिये उन्होंने प्रोत्साहित भी किया. सत्यमेवा जयते के साथ, मैंने पोस्ट प्रोडक्शन भी सीखा. मेरा इंटरेस्ट वीएफएक्स में भी विकसित हुआ. ”

सिमरन अपने आस-पास मौजूद लोगों की वजह से अपने आप को भाग्यशाली मानती है, जो उनके काम को सराहते है, विशेष रूप से ऐसे उद्योग में जहां कभी-कभी बहुत से काम होते है और वही कई बार ऐसा मौका आता है जब लंबे समय तक कोई काम नहीं होता है.

सहायक निदेशक के रूप में उनके सीखने और अनुभव पर

लखनऊ सेंट्रल के लिये सहायक निदेशक के रुप में काम करने से पहले, उन्होंने पंचमी घावरी के मुख्य कास्टिंग सहायक के तौर पर कालकांडी में काम किया. सिमरन ने अपनी भूमिका के लिये घवरी को श्रेय दिया, जिन्होंने उन्हें निर्देशित किया और उन्हें बताया कि एक महिला के रूप में काम करने के लिए कौन सी आवश्यक बातें है.

चुनौतिया, सेक्सिज़म और समान अवसर

फिल्म सेट पर एक जवान लड़की के रूप में, सिमरन का मानना है कि “यह एक चुनौती है जिसे उसने सामना करना सीखा है”. उसने बताया कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि महिलाओं को भी आज भी गंभीरता से लेने के लिए अतिरिक्त प्रयास करना पड़ता है.

“लोगों के पास ये पूर्वकल्पनाएं हैं कि लड़कियां या तो फिल्म स्टार, कास्टयूम स्टाइलिस्ट या उद्योग में मेकअप आर्टिस्ट बनना चाहती हैं. उनके लिए यह पचाने में इतना मुश्किल क्यों है कि बहुत सारी लड़कियां सिनमेटोग्राफर, एडिटर और निर्देशकों के रूप में भी काम करना चाहती हैं? ”

समानता के बारे में बात करते हुए, सिमरन ने कहा कि वह सकारात्मक हैं क्योंकि नई पीढ़ी युवा लोगों को बराबर अवसर प्रदान करने के लिए तैयार है.

सिमरन ने बताया कि उन्हें प्रत्यक्ष और परोक्ष रुप से सेक्सिज़म का सामना करना पड़ा,  जहां उनके आस-पास के लोगों ने उन्हें यह बताया कि एक लड़की होने के नाते  वह नौकरी के लिए उपयुक्त नहीं है. “मुझे पता है कि इन लोगों के मुंह कैसे बंद कराने है. साथ ही, कभी-कभी अनदेखा करना सबसे अच्छा होता है. मेरा विश्वास है कि मेरा काम बोलेंगा.”

इच्छुक लोगों को सलाह

सिमरन ने कहा कि इसमें आने वाले लोग पहले नौकरी को समझे और फिर इसे सीखने का प्रयास करें. “हर नौकरी को सम्मान करना महत्वपूर्ण है. साथ ही, समझें कि आपका सपना क्या है, कहानी कहने, प्रबंधकीय काम और एकाग्रता का निर्माण करने के बारे में जानें. ये कुछ संकेतक है जो फिल्म सेट पर आगे बढ़ने में मदद करते हैं. ”

“आप जिस पर विश्वास करते हैं उस पर जमें रहें”

सिमरन ने कहा कि लड़किया जिस बात पर भी विश्वास करती है, उस पर वह अडिग रहे. उन्होंने कहा कि यह हर प्रोफेशन में आवश्यक है. उन्होंने यह भी व्यक्त किया कि युवा लड़कियों को अपना स्पोर्ट ग्रुप रखना चाहिये जो परिवार के सदस्यों, दोस्तों, सहयोगियों या सलाहकारों के समूह में से हो सकता है जिनसे वह अपनी बात कर सकें. उन्होंने बताया,  “एक और महत्वपूर्ण चीज़ आजादी है. हर लड़की के लिए वित्तीय आजादी आज बहुत महत्वपूर्ण है. यह एक अद्भुत भावना और एक अलग आनंद देती है.”

सिमरन  कड़ी मेहनत की बात जानती है जिसके बाद ही फिल्म के क्रेडिट में आपको अपना नाम दिखाई देता है. “मुझे अपनी प्रगति और तथ्य मालूम है और मुझे कितना अभी सिखना है इसका भी अंदाजा है. मैं हर दिन को एक दिन के रुप में लेती हूं और अभी भी एक लंबी यात्रा है जब मैं अपनी कहानी को बताने में सक्षम हो जाउंगी. “

Email us at connect@shethepeople.tv