2019 के बेंनियाल एरो इंडिया एक्सपो जो कि एलहंका बेस पर मनाया जा रहा है, वहाँ शनिवार को वोमेन्स डे मनाया गया। इस कार्यक्रम में औरतों और उनकी उपलब्धियों पे ध्यान दिया गया। महिला एविएटर्स ने करतब दिखाया और कुछ को उनके योगदान के लिए पुरस्कृत किया गया। 61 एयरक्राफ्ट का प्रदर्शन किया गया और इस बार 403 प्रदर्शनकर्ता इस एरो इंडिया शो में भाग ले रहे हैं।

पी वी सिंधु ने को पायलट बन तेजस से उड़ान भरी

शो का सबसे बड़ा आकर्षण तब बना जब भारत की श्रेष्ठ बैडमिंटन प्लेयर पी वी सिंधु ने लाइट कॉम्बेट एयरक्राफ्ट तेजस की उड़ान भरी को पायलट बनकर । वो पहली भारतीय महिला बनी जिन्होंने ऐसा किया। वो सबसे ज्यादा कम उम्र में एक कॉम्बैट की उड़ान भरने वाले लोगों की श्रेणी में वो भी आगयी।

अपने अनुभव को बताते हुए सिंधु ने एन डी टी वी से कहा कि “ये एक बहुत ही अच्छा अनुभव था, ये एक बहुत बड़ा अवसर था और में धन्य हूँ। कैप्टेन ने मुझे सब कुछ समझाया”।

इंडियन एयर फोर्स की फाइटर पायलट्स ने भरी हॉक 1 एडवांस्ड जेट की उड़ान

इंडियन एयर फोर्स की तीन महिला फाइटर पायलट्स ने हॉक 1 एडवांस्ड जेट ट्रेनर की उड़ान भरी और साथ ही साथ रूस की बनी मिग 21 को भी उड़ाया।

महिला विजेताओं ने की बात

हरप्रीत ऐ दी सिंह जो कि इंडियन वीमेन पायलट एसोसिएशन की अध्यक्ष हैं, उन्होंने शी पीपल टीवी स्व बात करते हुए कहा कि “ये भारती नारी की उड़ान शक्ति का प्रमुख दर्शन है जिसमे की महिला पायलट, इंजीनियर और कंट्रोलर्स हैं। ये एक सच्चा तरीका है ये दिखाने का की भारतीय महिलाओं को कोई नहीं रोक सकता। हम उन्हें इस क्षेत्र में आने के लिए प्रोत्साहित करते हैं”।

कप्तान नम्रता पाल जो कि भारतीय वायु सेना में है उन्होंने कहा, “मैं यहाँ पे होना और मुझे पुरस्कृत किये जाने पर मुझे गर्व है। मैं एक डाइवर और पर्वतारोही हूँ। मैं इनका शुक्रियादा करना चाहती हूँ कि इन्होंने मेरी सारी मुसीबतों और अड़चनों को मेरी ताकत बना दिया। मैं सभी औरतों से ये कहना चाहती हूँ कि कभी भी हार मत मानिए। आप पुरुषों के सामान हैं और कभी भी उनसे कंधा मिला के चलने में झिजकिये मत”।

“ये भारती नारी की उड़ान शक्ति का प्रमुख दर्शन है जिसमे की महिला पायलट, इंजीनियर और कंट्रोलर्स हैं। ये एक सच्चा तरीका है ये दिखाने का की भारतीय महिलाओं को कोई नहीं रोक सकता। हम उन्हें इस क्षेत्र में आने के लिए प्रोत्साहित करते हैं”। – हरप्रीत ऐ दी सिंह

अनुराधा रेड्डी जो कि एक विमानन इतिहासकार हैं, उन्होंने कहा कि “ ये बहुत ज़रूरी है कि इस बात और इस दिन को याद रखा जाए और इतिहास में ये दर्ज हो ताकि कोई भी इसे अनदेखा न कर पाए। महिलाओं को अतीत में पाई गई उपलब्धियो से ही आज की औरते प्रेरित होती है। आज जहाँ महिलाएं हैं, मैं बहुत खुश हूँ क्योंकि मेरे समय में ये सब नहीं होता था। मैं आशा करती हूँ कि लोग इसे आगे लेके जाएं”।

पाँच दिन तक चलने वाला बीएननियाल एयर शो फेबुरारी 24 को खत्म होगा और इसपे एक किताब और फ़िल्म बनेगी जिसका नाम होगा “वीमेन इन एविएशन”।

Email us at connect@shethepeople.tv