स्मृति मंधाना, भारतीय क्रिकेट टीम में तेज़ी से आगे बढ़ती क्रिकेट खिलाड़ी है. बाएं हाथ की बल्लेबाज़, स्मृति मंधाना कई मैचों में भारतीय टीम की जीत की वजह बन चुकी है. इनके पिता और भाई भी क्रिकेट के खिलाड़ी रह चुके है. इनके भाई ने महाराष्ट्र अंडर 16 में भी खेला है.

मुंबई में जन्मी स्मृति ने 2014 में टेस्ट क्रिकेट की शुरुआत इंग्लैंड के ख़िलाफ खेलते हुये की. उन्होंने इस मैच में 22 और 51 रनों की पारी खेल कर टीम की जीत में मदद की थी. दूसरी पारी में उन्होंने ओपनिंग करते हुये 182 रनों का पीछा करते हुये तिरुश कामिनी के साथ 76 रनों की पारी खेली.

2016 में आस्ट्रेलिया के दौरे में गई भारतीय टीम के दूसरे वनडे मैच में स्मृति ने 109 गेंदों में 102 रन बना कर अपना पहला शतक जमाया. मंधाना अकेली देश की खिलाड़ी थी जिन्हें आईसीसी वुमेंस टीम आफ द इयर 2016 में जगह मिली है.

स्मृति की ख़ासियत यह है कि 9 साल की उम्र में ही इन्हें महाराष्ट्र की अंडर 15 टीम में मौका मिल गया था. वही 11 साल की उम्र तक पहुंचते पहुंचते वह महाराष्ट्र की अंडर 19 टीम में शामिल हो गई थी.

2013 में इन्होंने सिर्फ 17 साल की उम्र में वेस्ट जोन अंडर 19 क्रिकेट मैच में गुजरात के खिलाफ दोहरा शतक लगा कर बता दिया कि वह किस स्तर की खिलाड़ी है. इस पारी में इन्होंने 150 गेदों में 224 रनों की पारी खेली.

स्मृति का नाम महिला विश्वकप में शतक लगाने वाली सबसे कम उम्र की भारतीय महिला खिलाड़ी है. इन्होंने 2017 में वेस्टइंडीज के खिलाफ 103 रनों की पारी खेली थी और यह रिकार्ड बनाया था.

स्मृति मंधाना ने वुमेन बिग बैश लीग के साथ अनुबंध किया. इसके साथ ये लीग क्रिकेट खेलने वाली पहली महिला क्रिकेट खिलाड़ी बन गई. इस साल जून में क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने इन्हें बेस्ट वुमेन इंटरनेशनल क्रिकेट खिलाड़ी घोषित किया था.

लेकिन स्मृति का दख़ल न सिर्फ क्रिकेट में है बल्कि सोशल मीडिया पर भी है. सोशल मीडिया पर उन्हें फालो करने वाले लोगों की तादाद लाखों में है.

Email us at connect@shethepeople.tv