वे अपने जीवन के साथ कुछ अलग करना चाहती थीं और इसलिए उन्होंने पहाड़ों पर चढ़ना चुना, जिससे वे उन भारतीय महिलाओं में शामिल हो गई जिन्होंने अपने जीवन में कुछ अलग  किया है। और यह करते हुए, उन्होंने दुनिया में जुड़वां भाई-बहनों के लिए एक नया लेवल तय किया। एक के बाद एक वे गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाती रही जो 2013 में माउंट एवरेस्ट पर पहुंचने वाली पहली जुड़वां बहनें बनने से शुरू हुआ । उनका मानना ​​है कि उन्हें ऐसा करना था और वह भी एक- दूसरे के साथ। नुंग्शी के लिए देश की सबसे ऊंची चोटी तक पहुँचना चुनौती का विषय था और ताशी के लिए, यह उसकी आंतरिक आध्यात्मिकता का विषय था जो उस दोनों ने पहाड़ों में पाया था।

यह जुड़वां बहने पूरे ऑल-मैन क्रू में केवल दो लड़कियों थी , जिस कारण इन्हे काफी मतभेदों का सामना करना पड़ा । इन्हे बहुत -सी बातें सुननी पड़ी जैसे की आप इतनी ऊंचाई पर नहीं जा सकती , आप इतना वजन नहीं उठा सकती ।

हरियाणा में रिटायर्ड भारतीय सेना अधिकारी कर्नल वीरेंद्र सिंह मलिक के घर जन्मी ताशी और नुंग्शी को हमेशा से पहाड़ बहुत पसंद थे । उन्होंने छुट्टियों के दौरान खुद को व्यस्त रखने के लिए माउंटेनियरिंग करने का मन बनाया । उनके पिता ने उन्हें हमेशा साधारण स्पेस से बाहर निकलने के लिए प्रोत्साहित किया। उनके पहले ट्रेक में तकनीकी, वित्तीय और मानसिक बाधाओं पर काबू पाने में लगभग तीन साल लगे। हालांकि उसके बाद, उन दोनों ने दुनिया के सभी सात सबसे ऊंची चोटियों की चढ़ाई की ।

जुड़वा लड़कियों ने ट्रेकिंग करते हुए बताया की उन्हें बहुत ही ज़्यादा भेदभाव का सामना करना पड़ा क्योंकि सभी पुरुषों के क्रू में वो दोनों ही लड़कियाँ शामिल थी और उन्हें बहुत कुछ सुन्ना पड़ता था जैसे की आप इतनी लंबी दूरी तय नहीं कर सकती हैं और आप इतना वज़न नहीं उठा पाएंगी । उन्होंने उन सभी को गलत साबित कर दिया और सभी बेटियों के माता-पिता के लिए एक मिसाल कायम की। वे उत्साहित होकर कहती हैं कि अब वे जहां भी जाती हैं, सभी माता-पिता उन्हें “अपनी बेटियों” के रूप में देखते हैं और उनसे मिलने के लिए “उत्साहित महसूस करते हैं”।

दो साल से भी कम समय में, दो बहनों ने सबसे ऊंची चोटियों पर कब्जा कर लिया और ऐसा करने वाली वे एकमात्र जुड़वां बहनें बन गईं। वे कहती हैं कि उनका प्यार पहाड़ों में रहता है और जो कोई भी यह सोचता है कि लड़कियां ऐसा नहीं कर सकती हैं, “ठीक है, पहाड़ आपको पुरुष या महिला के रूप में नहीं देखता है। वे आपको एक इंसान के रूप में देखते हैं, “दोनों बहनों ने मुस्कुराते हुए कहा ।

Email us at connect@shethepeople.tv