माता-पिता होने के नाते, वे कहते हैं, हमे बच्चों को दो चीजें देनी चाहिए -सपने और पंख। उन लोगों के बीच संतुलन बनाए रखना जो कार्य को अविश्वसनीय रूप से कठिन बनाता है। गलत धारणाओं और अनुचित धारणाओं से हमारे बच्चे जूझ रहे हैं, जो जंग खाए औज़ार की तरह हैं, और जैसा कि सभी जानते हैं कि यह हानिकारक हैं। यह एक उत्तराधिकार है जिससे हम अपने बच्चों को आगे के लिए तैयार करेंगे, एक दुष्चक्र बनाते हैं जो कभी समाप्त नहीं होता है।

वास्तव में, जल्दी शुरू करें, और पता करें ऐसी 5 बाते जो आपको आपकी बेटी को कभी नहीं कहनी चाहिए।

अपनी उम्मीदों को कम करें

आपको अपनी बेटी की क्षमता को जल्दी पहचानना सीखना चाहिए, और कभी भी अपने किसी भी भ्रम के लिए उसकी प्रतिभा की महानता को  गलत नहीं कहना चाहिए। अगर किसी भी तरह से, आपकी बेटी कुछ विशिष्ट और असामान्य बनने की इच्छा के साथ आगे आती है, जैसे कि एक चित्रकार, एक घोड़ा सवार या एक मनोवैज्ञानिक, इसका मतलब केवल यह है कि उसके सोच अलग है और उसके उत्साह असाधारण हैं। अपनी अपेक्षाओं को कम करने और एक बच्चे होने के लिए गुस्सा करने की बजाय, उसे उसके स्वभाव का पता लगाने में सक्षम करें। उसकी इच्छाओं के बारे में अधिक जानने में उसकी मदद करें और स्वयं पता करें कि वह उन्हें साकार करने के लिए काबिल है या नहीं.

यह आदमी का काम है

कभी भी अपनी बेटी से यह मत कहे की यह काम तुम नहीं कर सकती क्योंकि तुम इसके लिये नहीं बनी हो, यह काम सिर्फ पुरुषों के लिए है बल्कि हमेशा यह कहकर उसका होंसला बढ़ाएं की वह सब कुछ कर सकती है ऐसा कोई काम नहीं है जो उसके लिए नहीं बना वो हर रूप से सशक्त हैक्योंकि वो एक लड़की है तो उसमे वो हर काम पुरुषों से बेहतर तरीके से करने की क्षमता है क्योंकि वो एक लड़की है तो उसमे वो हर काम पुरुषों से बेहतर तरीके से करने की क्षमता है।

तुम अपना समय बर्बाद कर रही हो

ऐसे बहुत से काम है जिनमे यह ज़रूरी नहीं है की हमे ज़रूर सफलता मिलेगी, कभी हमे सफलता मिलेगी तो कभी असफलता उसके मुश्किल वक़्त में उसे सिखाये की सुख और दुःख जीवन के दो पहलूँ है और हमे हर बात का सामना खुली बाहों से करना चाहिए अपनी बेटी की हिम्मत यह कहकर कभी न तोड़े की वो इस कार्य को करके अपना समय बर्बाद कर रही है । नहीं, किसी भी काम को करने से कभी समय बर्बाद नहीं होता बल्कि हम हर कार्य से कुछ सीखते है । उसे यह समझाए की महनत और लगन से सब कुछ संभव है। हर बच्चे सक्षम होता है अपने सपनो को पूरा करने के लिए बस उसे ज़रूरत है अपने माता-पिता के साथ की।

तुमसे यह उम्मीद नहीं थी

अपने जीवन में सभी माँ-बाप के लिए उनके बच्चे बहुत अज़ीज़ होते है। वो न चाहते हुए भी उनसे उम्मीदें जोड़ लेते हैं। बच्चे बहुत गलतियां करते है, उस समय उनसे गुस्सा होने के बजाये उन्हें प्यार से समझाएं, उन्हें उनकी गलतियों से सबक सीखने के लिए प्रोत्साहित करें।

कोशिश करें कि कम खाएं

युवावस्था की बात करें, तो माता-पिता को कभी भी उपेक्षा नहीं करनी चाहिए एक लड़की अपने शरीर के लिए बढ़ती भावना है। किशोरावस्था उम्र के पड़ाव के साथ परिचित होने का एक चरण है, और एक लड़की के लिए, इसका मतलब है कि लोकप्रिय संस्कृति द्वारा लगाए गए चित्रों के साथ निरंतर संघर्ष। यह असुरक्षा, आत्म-संदेह और आत्मविश्वास की कमी का समय है। आखिरी चीज़ जो एक महिला की ज़रूरत होती है, वह उसके सबसे करीबी है। इसलिए, उसके शरीर के मुद्दों पर सबसे बड़ी सावधानी और विचारशीलता के साथ संपर्क करें।

लडकियां वह कलियाँ होती है जो समय के साथ सुन्दर फूल भी बन सकती हैं और मुरझा भी सकती है ।तो उनका ख्याल रखे और उन्हें खूब प्यार दे ।

Email us at connect@shethepeople.tv