डिजिटल महिला पुरस्कार 2018 विजेताओं की घोषणा कल रात बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में एक शानदार समारोह में हुई. ये महिला उद्यमी अलग-अलग डिजिटल उद्यमों से आयी और इनके पास बड़े बड़े आइडिया है जिन्हें चुनने में इन्हें डर नही लगता है. हम इनकी यात्रा के बारे में जानने को उत्सुक थे, जितना हम उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाना चाहते थे. इन शानदार महिलाओं ने साझा किया जो उन्हें प्रेरित करता था और सफलता प्राप्त करने के लिए उन्हें किस तरह की कठिनाइयों का सामना करना पड़ा.

पुरुषों और परिवार का सहयोग आवश्यक है

नेक्समनी की निदेशक शबनम प्रवीण ने ई-कॉमर्स श्रेणी में एक पुरस्कार जीता,  उनका कहना है कि उनके आस-पास के पुरुष सौभाग्य से उनके लिए बहुत ही सहायक हैं. अपने पिता से, जिन्होंने प्राणीशास्त्र में स्नातक होने के बाद एमबीए करने के उनके निर्णय का समर्थन किया और फिर अपने व्यापार में भागीदार बनाया. पुरुषों हमेशा से उनके साथ खड़े हुये. प्रवीण ने एक घटना को याद किया कि कैसे 2014 में वह एक निवेशक से मिलने के लिये जा रही थी, जब एक मध्यस्थ ने उन्हें बैठक में भाग लेने से मना किया था. उनके अनुसार, उनकी उपस्थिति विदेश के रूढ़िवादी निवेशकों को पसंद नही आयेंगी, जो काम करने वाली महिलाओं को पसंद नही करते थे. इसके जवाब में उनका पार्टनर उनसे मिलने इनके साथ नही गया. इस घटना पर प्रवीण पर बड़ा प्रभाव पड़ा।

“उसके बाद, मैं और अधिक दृढ़ हो गया कि मुझे अच्छा करना है. क्योंकि जब मैं झारखंड से बाहर निकलने के लिए अपने परिवार को प्रेरित करने और यहां तक कि अपने समाज को मनाने में कामयाब रही, तो मैं अब किसी को भी कैसे रोक सकती हूं? “- शबनम प्रवीण

हार न मानें जबतक कि आपको अपना लक्ष्य न मिल जायें

स्कोलरस्ट्रेटिजी की संस्थापक निषा त्रिपाठी ने कंटेट क्रियेशन श्रेणी में एक पुरस्कार जीता. लेकिन इस आवेदक-अनुकूल सलाहकार सेवा में सफलता पाने से पहले त्रिपाठी ने कई अन्य उद्यमों में अपना हाथों अज़माया. वह कहती है, “मैंने कई अन्य स्टार्टअप में भी कोशिश की. मैंने फैशन और अन्य उत्पाद स्टार्टअप में कुछ भी करने की कोशिश की. लेकिन मैंने इसमें हाथ इसलिये अज़माया क्योंकि इसमें मेरी विशेषज्ञता थी. जब मैंने कुछ छात्रों के साथ काम किया तो मुझे फीडबैक मिला कि मैं वास्तव में अच्छी थी.” त्रिपाठी के अनुसार महिलाओं को हार नहीं माननी चाहिए.

“आपके पीछे बहुत सारी असफलताएं हैं, लेकिन अंततः आपको अपन स्थान मिल जाएगा, जो आपके लिए काम करता है. और यदि आप अपनी व्यावसायिक आकांक्षाओं को अपने साथ जोड़ते हैं और आप बने रहते हैं, तो आपको अंततः सफलता मिल जाएगी. “-निष्ठा त्रिपाठी

डिजिटल स्पेस में महिलाओं के लिए चीजें बेहतर हो रही हैं.

ई-कॉमर्स श्रेणी में एक पुरस्कार जीता अमीरिया फैशन की संस्थापक एमी अरीबम ने. उन्होंने कहा कि वह उत्तर-पूर्व से अनजान जनजातीय की बुनाई को स्पॉटलाइट में लाने के एक मिशन पर हैं. वह कहती है कि दोनों जेंडर बराबर की जगह पाने की कोशिश में लगे हुये है. “आज चुनौतियां जिनका सामना महिलायें कर रही है वह अधिक व्यक्तिगत हैं. यदि व्यक्ति, चाहे वह मर्द हो या औरत, सीखना चाहते हैं और वे डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म पर आना चाहते हैं, तो कोई भी चीज़ उन्हें रोक नहीं सकती है. ”

“तो यदि आप सीखना चाहती है और कड़ी मेहनत करने और मजबूत इच्छा रखने के लिए तैयार हैं, तो आप आगे बढ़ सकती हैं और आप किसी भी जेंडर के हो, अपना सर्वश्रेष्ठ दें.” – एमी अरीबम

डिजिटल उद्यमी के तौर पर अपनी यात्रा शुरू करने वाली महिलाओं को उनकी सलाह है? “कल के लिए इंतजार मत करो. आप कभी नहीं जानते कि कल आएगा या नहीं. तो यदि आपके पास कोई विचार है, तो उसे आज लाएं और उस पर काम करना शुरू करें. ”

इनोववेव बायोकेयर की निदेशक जिन्होंने व्यवधान श्रेणी में एक पुरस्कार जीता, मानसी कुलकर्णी ने कहा कि महिलाओं को खुद के लिए समय सीमा तय करनी चाहिए.

Email us at connect@shethepeople.tv