“मेरी यात्रा पाँच साल पहले ग्रेटर नोएडा में बौद्ध इंटरनेशनल सर्किट की यात्रा के बाद शुरू हुई थी। मुझे वास्तव में वहाँ के बाइक सवारों से प्रेरणा मिली और तब से मैं एक डुकाटी 899 पैनिगेल और लड़कों के साथ सड़को पे दौड़ रही हूँ, ”नेहरिका यादव कहती हैं। वह लगभग 40 पुरुषों में एकमात्र महिला सुपरबाइकर हैं जो हर साल सुपरबाइक चैलेंज में भाग लेती हैं।

उनकी प्रेरणा                        

बाइक चलाने की अपनी प्रेरणा के बारे में बात करते हुए, वह कहती है कि पहले दिन जब वह बाइक चलाने वालों को ट्रैक करने के लिए गई तो उन्होंने उन्हें प्रेरित किया। यह थ्रोटल की आवाज थी। ईंधन ने उनके जुनून को प्रज्वलित किया जो उन लोगों को एक साथ लाया और यही उन्हें  प्रेरित करता है और तब से उन्होंने वापस मुड़के नहीं देखा है।

कुछ करते समय हम अपने स्वयं के लिंग के जैसे एक भी व्यक्ति को नहीं पाकर भयभीत हो सकते हैं, लेकिन यादव को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता

वह लड़कों के बीच खुद की प्रतिभा की सराहना करती है क्योंकि वह सभी लड़के उनकी प्रतिभा की सराहना करते हैं और वह उनके साथ बहुत कुछ सीखती है। “लोग वास्तव में बहुत अच्छे हैं, वे मेरी मदद करते हैं, मुझे सिखाते हैं, मुझे प्रेरित करते हैं इसलिए मैं कहती हूं कि यह एक प्रतियोगिता की तरह है। लेकिन यह मजेदार है कि वह पुरुषों में एकमात्र महिला रेसर है। मुझे वास्तव में अपने आप को और भी अधिक प्रोत्साहित करना  है। यादव कहते हैं कि जिस तरह की टाइमिंग पुरुषों की पहुंच रही है, उसे देखते हुए यह मुझे और भी बेहतर प्रदर्शन करने और अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देने में मदद करता है।

माता-पिता का साथ

पारंपरिक मानसिकता महिलाओं को बाइक चलाने की अनुमति देने से माता-पिता को मना करती है, लेकिन यादव की सेना की पृष्ठभूमि उस चुनौती को पार कर जाती है। “मेरे माता-पिता मेरे द्वारा किए गए कार्यों का बेहद समर्थन करते हैं। लेकिन मेरी माँ ने मेरी दौड़ के बीच आना बंद कर दिया है क्योंकि पहली बार जब उन्होंने ऐसा किया था, उन्होंने  एक बाइक दुर्घटना देखी और वह आखिरी बार थी जब उन्होंने ऐसा किया । वह यादव के बारे में बेहद घबराहट महसूस करती है।

वह कहती है की  कम से कम महिलाओं को अपने जीवनकाल में एक बार दोपहिया वाहन चलाने की कोशिश करनी चाहिए। यादव बताती हैं कि एक बार जब कोई व्यक्ति दो पहियों पर होता है, चाहे वह ट्रैक रेसिंग हो या सड़क पर,यह एक सराहनीय अनुभव  हैं, वे अकथनीय हैं। “मैं सभी महिलाओं को बाइक पर आने के लिए प्रेरित करूँगी।”

Email us at connect@shethepeople.tv