समय बदल गया हैं और इसी तरह हमारी भारतीय देवियों की प्रतीकात्मकता भी बदल गयी है. देवियों के विभिन्न लक्षणों के बारे में जानने के लिए पढ़ते रहे जिन्हें आधुनिक भारतीय महिलाओं को अपनाना चाहिये.

द्रौपदी

पौराणिक काल में पितृसत्तात्मक समाज के ख़िलाफ महिलाओं का आवाज़ उठाना असामान्य था. लेकिन द्रौपदी ने जब भी उन्हें मौका मिला तब उन्होंने अपनी गरिमा से समझौता नही किया बल्कि आवाज़ उठाई. इसके अलावा, वह अपने पतियों के राजनीतिक मामलों में भाग लेने से कभी भी दूर नहीं गई. उन्होंने खुलेआम कौरवों को शर्मिंदा करने के लिए श्राप दिया जिसकी वजह से राजा को अपने तीन वरदान देने को मजबूर होना पड़ा. द्रौपदी आधुनिक दुनिया की महिलाओं की तरह है जो सामाजिक मानदंड तोड़ने की कोशिश कर रही है जिसमें लगातार उनकी आवाज़ को दबाने की कोशिश की जा रही है.

दुर्गा

बाहरी राक्षसों के अलावा आधुनिक महिलाओं के सामने बहुत सारे आंतरिक राक्षस भी हैं जो उन्हें स्वतंत्रता से दूर रखना चाहते है. भय, आत्म-संदेह, कम आत्म-सम्मान, आत्मविश्वास की कमी कुछ राक्षस हैं जो उन्हें अंदर से खाते हैं. दुर्गा से प्रेरणा लेते हुए, महिलाओं को अपने साथ के राक्षसों को एक-एक करके मारना शुरू कर देना चाहिए. उन्हें किसी को भी अपने बचाव में आने की उम्मीद करना बंद कर देना चाहिए और अपने राक्षसों के साथ युद्ध करना चाहिये और विजयी होना चाहिए.

काली

यदि आप अपनी दुनिया में प्रचलित महिलाओं से संबंधित किसी हिंसा के उदाहरण के बारे में नही जानते है तो आप एक अलग ही दुनिया में रहते है. उपाय? दूसरों के आने और अपराध से बचाने के लिए निर्भर हैं? नहीं. महिलाओं के लिए यह जरुरी है वह अपने अंदर की काली को पहचाने, अपने अंदर की आंतरिक शक्ति को बाहर लायें और खुद की रक्षा करने की कला सीखने का समय है. यह केवल तब ही होगा जब वे जीवित और आध्यात्मिक मुक्ति पाने में सक्षम होंगी. संदेश यह है कि उन्हें नीचे रखने वालों से संघर्ष करना है ताकि वह अपनी ख़ुद की पहचान बना सकें.

लक्ष्मी

सदियों से महिलाओं ने अपनी मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अपने परिवार के पुरुष सदस्यों पर भरोसा किया है, जो बदले में उन्हें खुद की पहचान बनाने से रोकते और उनके लिये सभी दरवाज़े बंद कर देते.

आधुनिक महिला आज बाहर जा रही है, शिक्षा मांग रही है और पैसों की बात कर रही है. और क्यों नहीं? सशक्तिकरण और आत्म-पर्याप्तता की ओर पहला मुकाबला वित्तीय मुक्ति है. ऐसी दुनिया में रहना जो जीवन के हर पल में महिलाओं और उनकी क्षमताओं पर संदेह करता है, वित्तीय आजादी लोगों के मुंह को बंद करने का सबसे अच्छा तरीका हो सकती है. धन खुशी नहीं खरीदता है लेकिन यह स्वतंत्रता देता है, जो खुशी का एक महत्वपूर्ण स्रोत है।

पार्वती

पार्वती ने हमेशा यह सुनिश्चित किया कि उन्हें समानता और सम्मान के साथ रखा जायें न कि एक सहायक पत्नी के रूप में. जबकि विवाह एक पवित्र संस्था है – जहां पर पति और पत्नी दोनों को खुद को विकसित करने के बराबर मौका देना होता है. बहुत कम विवाह होते हैं जहां दोनों साथी समान रूप से एक-दूसरे से व्यवहार करते हैं.  मिसाल के तौर पर, बहुत से लोग अपने साथी के लिये बलिदान देते हैं. यह रिश्ते की नींव कमजोर करता है और किसी भी उद्देश्य की पूर्ति नही करता है. साझेदारों को यह महसूस करना चाहिए कि यह समानता है और अहंकार नहीं है जो रिश्ते को पोषण देता है.

सरस्वती

हम लिंग के आधार पर कितनी बार लोगों को रूढ़िवादी बनाते हैं? अक्सर. लेकिन हम अपने लिंग के आधार पर किसी व्यक्ति की शक्ति का आकलन कैसे कर सकते हैं? यह दुख की बात है कि हम भूल जाते हैं कि हम पहले इंसान हैं और फिर “पुरुष” और “महिला” हैं. हमें लिंग से परे एक-दूसरे को देखने की कोशिश करनी चाहिए, क्योंकि यह तब होता है जब ऐसा होता है कि हम सभी लिंगों को सम्मान के साथ पेश करना शुरू कर देंगे और सभी को अपना देय दे देंगे. विशेष रूप से, महिलाओं को अपने आप में विश्वास करना शुरू करना चाहिए, अपनी शक्तियों पर काम करना चाहिए और जितना संभव हो सके उतना हासिल करना चाहिए.

शक्ति

क्या आपके आस-पास के लोग आत्म-सीमित मान्यताओं के साथ आपको आकर्षित करने का प्रयास करते हैं? इस तरह के मामलों में, यह समय है कि आप अपनी “शक्ति” का उपयोग करें और अपने लिए सीमाएं निर्धारित करें. महिलाओं में बहुत ताकत है. उन्हें सिर्फ अपनी सीमाओं को पार करने और आकाश को छूने का लक्ष्य रखना होगा. और एक बार ऐसा करने के बाद, उन्हें अन्य महिलाओं को ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए. इस तरह वे हर किसी में “शक्ति” को फिर से जगा सकती हैं.

सीता

सीता को अपने बेटों को अकेले संभालना पड़ा और यह उन्होंने बख़ूबी किया. उसके बच्चे अच्छी तरह से संतुलित और पुण्यपूर्ण मनुष्य बन गए जो सांसारिक कामों में विश्वास करते थे. आज के समय में भी जब अलगाव, तलाक और एकल अभिभावक के उदाहरण बढ़ रहे है तो हमें कई जिम्मेदारी निभा रही सिंगल माताओं को शर्मिंदगी या सहानुभूति दिखाना बंद कर देना चाहिए. एकल मां अद्वितीय शक्ति का प्रतीक हैं. वे अपने बच्चों की देखभाल अकेले करने की चुनौती स्वीकार करती हैं.

 

Email us at connect@shethepeople.tv