नए मोबाइल फोन न केवल स्वयं के संचार और सेल्फी के लिये उपयोग हो रहे है बल्कि वह दुनिया भर के कई लोगों को खासतौर पर विकासशील देशों में महिलाओं को भी अर्थ प्रदान करते हैं. हालांकि, ये लाभ अभी भी विकासशील देशों में लगभग 1.7 बिलियन महिलाओं को नही मिल पा रहा हैं जिनके पास मोबाइल फोन नहीं है. यह हालात दक्षिण एशिया में सबसे खराब है. एक अध्ययन से पता चला है कि भारत का मोबाइल फोन में जेंडर गेप 33 प्रतिशत है, जो दुनिया में सबसे ज्यादा है.

भारत में इस मोबाइल जेंडर गेप के कई कारण हैं. एक प्रमुख कारण यह है कि कई समुदायों और क्षेत्रों में, महिलाओं के मोबाइल फोन के उपयोग को नियंत्रित कर रहे हैं. अध्ययनों से पता चला है कि महिलाओं को अभी भी अपने पासवर्ड परिवार के सदस्यों के साथ साझा करना होता है और अपने फोन अपने परिवारों से छिपा नहीं सकते हैं. यह निगरानी कई कारणों से युवा लड़कियों और महिलाओं के बीच विभिन्न स्तरों तक फैली हुई है. आइए इस सिद्धांत में गहराई से नजर डालें.

मोबाइल फोन के महिलाओं के उपयोग के लिए बाधाओं के रूप में लिंग मानदंड

हार्वर्ड केनेडी स्कूल के अध्ययन का अनुमान है कि भारत में आज 71 प्रतिशत पुरुष मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं, जबकि 38 प्रतिशत महिलाएं हैं जिन्हें यह उपलब्ध है. औसतन 33 प्रतिशत तक महिलाओं की तुलना में पुरुषों के पास फोन होने की संभावना अधिक है. हम 38 प्रतिशत की बात करते है जो फोन का उपयोग कर रहे है, उनमें से अधिकतर आमतौर पर फोन के उपयोग के तरीके पर नियंत्रण रखते हैं.

कई युवा लड़कियों ने इस बारे में बात की है कि उन्हें किस तरह से अन्य पुरुष सदस्यों के साथ अपने पासवर्ड को साझा करना पड़ता है. लेकिन वास्तव में, क्या यह सुरक्षा सुनिश्चित करने का तरीक़ा है? यहां कुछ प्रमुख कारण बताए गए हैं कि क्यों महिलाओं पर यह नियंत्रण, मोबाइल फोन के उपयोग के साथ आज भी प्रचलित है:

• विशेष रूप से ग्रामीण पृष्ठभूमि में लड़कियों को बताया जाता है कि मोबाइल फोन केवल परिवार से बात करने, यात्रा के दौरान सतर्क करने या कुछ हद तक काम या अध्ययन पर चर्चा करने का उद्देश्य प्रदान करते हैं.

• मोबाइल पर सोशल मीडिया के उपयोग की बात आती है तो 60 प्रतिशत जेंडर गेप देखा जाता है. जबकि सोशल मीडिया एक तरफ कई महिलाओं को सशक्त बना रहा है, वही कुछ को यह बताया जा रहा है कि सोशल मीडिया उन पर बुरा प्रभाव डालता है.

• फोन का उपयोग करने वाली 47 प्रतिशत महिलाएं उसकी मालिक होने की बजाय फोन उधारकर्ता हैं, जबकि पुरुषों में यह प्रतिशत 16 है.

इन मानक बाधाओं का निर्माण क्यों होता है?

कई महिलाओं को अक्सर उन्हें अपने पासवर्ड और मोबाइल फोन गतिविधियों को साझा करने के लिए कहा जाता है क्योंकि उन्हें लगातार बताया जाता है कि उनके पास जटिल कार्य करने की तकनीकी क्षमता नहीं है. इसके अलावा, प्रतिष्ठा सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि कई लोग मानते हैं कि महिलाओं का स्क्रीन समय कम होना चाहिए. मोबाइल फोन गतिविधियों को एक तरह से काम को प्रभावित करने वाला माना जाता है इसलिये ज्यादातर महिलाओं को यह भी सलाह दी जाती है कि फोन का उपयोग “अधिक महत्वपूर्ण” कार्य में करें और ज्यादा समय घर की जिम्मेदारी में लगायें.
शायद कई जगह बातों में यह बात सामने आई है कि मोबाइल फोन महिलाओं और लड़कियों की प्रतिष्ठा को कम करते है. इस खतरे को फिर से विभिन्न कारणों से अलग किया जा सकता है जैसे पितृसत्तात्मक विचार, अनैतिकता, डिजिटल उत्पीड़न आदि.

  • अधिकांश लड़कियों पर अध्ययनों से पता चलता है कि उन्हें फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग न करने के लिए कहा जाता है, जो खुली सेवाएं हैं. उन्हें केवल व्हाट्सएप तक उनके उपयोग को सीमित करने के लिए कहा जाता है और अन्य प्लेटफार्मों के ज़रिये कुछ के मुताबिक, उनकी छवि खराब हो सकती है.
  • विवाह से पहले आयु समूह की लड़कियों के बीच यह धारणा बहुत आम है. उदाहरण के लिए, अध्ययन में कहा गया है कि ग्रामीण मध्य प्रदेश में एक रूढ़िवादी क्षेत्रीय जगह में, अधिकांश व्यक्तियों ने कहा कि “महिलाओं के पास विवाह से पहले फोन नहीं होना चाहिए: एक युवा विवाहित ने बताया कि इसकी वजह यह है कि वह बिगड़ जायेंगी और बॉयफ्रेंड बना लेंगी.”
  • कई जगहों पर, महिलाओं को विवाह से पहले फोन रखने की इजाजत है, लेकिन उन्हें कई तरह के प्रतिबंधो का सामना करना पड़ता है जैसे वह फेसबुक पर अपनी तस्वीरों को अपलोड नही कर सकती, अपने फोन पर बहुत अधिक समय तक बात नही कर सकती है या यहां तक कि अपने फोन का सार्वजनिक रूप से इस्तेमाल नही कर सकती हैं.
  • यह इंगित करता है कि एक महिला की प्रतिष्ठा को बहुत नाजुक माना जाता है और उसे सुरक्षा की आवश्यकता होती है, जबकि एक व्यक्ति की प्रतिष्ठा को मजबूत माना जाता है और इन बातों से उसे कोई फक्र नही पड़ता है. उदाहरण के लिए, शोध में कैसे एक अविवाहित पुरुष ने इस तरह के प्रतिबंध का समर्थन किया क्योंकि महिलाओं की प्रतिष्ठा एक प्रमुख कारण है. उन्होंने कहा कि उनके समुदाय में ऐसा कहा जाता है कि लड़कियां मिट्टी के बर्तनों की तरह हैं और लड़के धातु के बर्तन की तरह हैं. लड़के मजबूत बने रहते हैं, लेकिन लड़कियों को तोड़ना आसान होता है.”
  • विवाह पूर्व मोबाइल के स्वामित्व को चिंता का विषय माना जाता है. ग्रामीण समुदायों में बहुत से लोग मानते हैं कि जब कोई लड़की फोन पर बात कर रही है तो बातचीत शायद लड़के के साथ ही हो रही होगी. स्कूल की बात, दोस्ताना बात या यहां तक कि एक दोस्त के साथ एक सामान्य चर्चा को भी इस स्थिति में अस्वीकार कर दिया गया है.
  • कुछ मामलों में, युवा महिलाओं ने स्वयं इस पाबंदी को स्वीकार किया और मोबाइल के ज्यादा उपयोग को अनुचित बताया. रिपोर्ट में एक उदाहरण दिया गया है जहां महाराष्ट्र में एक अविवाहित महिला ने सोशल मीडिया के लिए फोन का उपयोग करने को ग़लत बताया, “अगर वह फोटो अपलोड करते हुये पाई जाती है तो वह अपनी शादी की संभावनाओं को नुकसान पहुंचा रही है.”

तो इस लिंग आधारित पूर्वाग्रह को कैसे सही किया जा सकता है?

यहां चिंता का कारण यह है कि मोबाइल जेंडर गेप एक से अधिक तरीकों से समस्या पैदा कर रहा है. यह विशेष अंतर असमानता के अन्य रूपों को बढ़ा सकता है और इसका मतलब महिलाओं के लिए कम नेटवर्किंग अवसर. यह समय महिलाओं के लिये है ताकि वे अपने डिजिटल क्षितिज का विस्तार कर सकें और सशक्त हो सके. पहले लिंग आधारित मानदंडों को झुकाव करना महत्वपूर्ण है, इसलिए महिलाओं को समान अवसर प्रदान किए जाते हैं. हां, डिजिटल सुरक्षा महत्वपूर्ण है, लेकिन महिलाओं को इस डिजिटल स्पेस का उपयोग करने में सक्षम होने का मौका भी है.

Email us at connect@shethepeople.tv