कई महिलाएं अपने वित्तीय जीवन को ख़ुद ही संभाल रही है. जबकि कुछ पैसों के प्रबंधन की बात करते हुये सही दिशा की तरफ बढ़ रही हैं, वही अन्य धीरे-धीरे सीख रही हैं. हालांकि, अभी भी एक बड़ा हिस्सा है जो वित्तीय निर्णय लेने से पूरी तरह से वंचित है – कुछ अपनी पसंद की वजह से और कुछ परिस्थितियों की वजह से नही ले पा रही है.

लॉन्ग आइलैंड विश्वविद्यालय में नेशनल सेंटर फार वुमेन एंड रिटायरमेंट रिसर्च(एनसीडब्लयूआरआर) की एक स्टेडी ने बताया है कि एक महिला के व्यक्तित्व लक्षणों और उनकी वित्तीय आदतों के बीच सीधा सहसंबंध है. अध्ययन बताता है, “जब धन प्रबंधन की बात आती है तो महिलाएं पीछे रह जाती है. केवल 43% महिलाओं ने एक आपातकालीन निधि के बारे में बताया है और आधे से ज्यादा गैर-बंधक ऋण की मात्रा (पुरुषों के 71% की तुलना में) के साथ अपने आप को ठीक पा रही है.”

शुरू करने के लिए कोई उपयुक्त समय जैसी चीज नहीं होती है. कोई भी साल के किसी भी समय इसे शुरु कर सकता है. महिलओं के लिए शीर्ष दस सबसे प्रभावी पैसों के टीप यहां दिये जा रहे हैं:

  1. अपने पति या परिवार पर पूरी तरह से भरोसा न करें: स्वयं को शिक्षित करें

  • ज्यादातर लोगों के लिए, पैसा भी एक भावनात्मक मुद्दा होता है. यह शक्ति, प्रेम या नियंत्रण का प्रतिनिधित्व भी करता है, खासकर जब संबंधों की बात आती है. एक पति / पत्नी या किसी अन्य महत्वपूर्ण या परिवार को वित्तीय सुरक्षा सौंपने से महिला अपने वित्तीय ज्ञान पर नियंत्रण खो देती है. किसी और को आपके सभी पैसे के मामलों को संभालने की अनुमति देना आपको वित्तीय ज्ञान से दूर ले जाता है.
  • पैसा प्रबंधन और निवेश के बारे में खुद को शिक्षित करें. बाजार में वित्तीय किताबों और पॉडकास्ट की एक बड़ी संख्या है. जिस तरह से आपके जीवन को आकार देने वाले मामलों का ज्ञान महत्वपूर्ण है. वित्तीय ज्ञान भी उसी तरह का है. चाहे आप लोन के चक्कर से बाहर आना चाहती हो या फिर पैसों के साथ मजबूत संबंध विकसित करना चाहती हो, आपके लिए वित्तीय संसाधन उपलब्ध है. समय निकाल कर हर महीने कम से कम दो घंटे धन निर्माण, ऋण उन्मूलन, निवेश, और अचल संपत्ति के बारे में जानकारी हासिल करें. किताबें या लेख पढ़ें और संगोष्ठियों में भाग लें. उन लोगों से सीखें जो अपने पैसे को अच्छी तरह से संभालते हैं.
  1. अपने लक्ष्यों को सेट करें और पहले व्यवस्थित हो जाएं: शुरू करें

  • महिलायें, प्यार, देखभाल और बलिदान की वजह से अपने आप को पीछे रखती है. इसलिए, उनके सुरक्षित भविष्य के लिए लक्ष्य निर्धारित करने का विचार पीछे चला जाता है. इसे बदलने की जरूरत है. आपको अपने लिए विशिष्ट लक्ष्यों और महत्वाकांक्षाओं को निर्धारित करने की आवश्यकता है. लक्ष्यों के बिना पैसा बेकार है. वर्तमान और भविष्य के लिए उचित उद्देश्य होने पर धन का प्रबंधन स्पष्ट और आसान होगा.
  • महत्वपूर्ण यह है कि स्पष्ट हो कि करना क्या है. सही योजना बनाने के लिये यह जरुरी है कि समय-सीमा और राशि दोनों होनी चाहिए. एक बार जब आप अपने लक्ष्यों को सूचीबद्ध और प्रमाणित कर लेती हैं, तो आपको उन्हें प्राथमिकता देने की आवश्यकता होती है. यह पता लगाना भी महत्वपूर्ण है कि आज के समय और आपके लक्ष्य तक पहुंचने के दौरान कितने सप्ताह या महीने लगेंगे. ध्यान रखें कि प्रत्येक लक्ष्य की समयसीमा होनी चाहिए, आपको इसके साथ-साथ धन मामलों के प्रबंधन की कला को निपुण करने की आवश्यकता है.
  1. अपने आप में निवेश करें: अपनी ताक़त को जानें

लक्ष्यों को स्थापित करने के बाद, खुशी और सफलता के बीच संतुलन आता है. आपने सपनों को पूरा करने की कोशिश ही आपको खुशी और सफलता देंगी. महिलाओं को पहले खुद में निवेश करना चाहिये. यह प्रोफेशनल ट्रेनिंग, दोस्तों से जुड़ कर और नेटवर्क विकसित कर किया जा सकता है.

  1. आत्म-नियंत्रण का अभ्यास करें: स्मार्ट खरीदारी करें

  • पैसे खर्च करते समय एक आत्म-नियंत्रण रखें. वित्तीय दिक्क़तों के दौरान, खरीददारी करते समय यह जानना महत्वपूर्ण है कि आपको वास्तव में उत्पाद की आवश्यकता है या नहीं. सुनिश्चित करें कि खरीद आपके जीवन में फायदा पहुंचायेंगी. यदि आवश्यक हो, तो अपनी जीवनशैली में बदलाव करें. आगे बढ़ने के लिये कठिन विकल्प चुनें.
  • हम डिजिटल दुनिया में रहते हैं. विभिन्न कारकों, माध्यमों और संसाधनों को देखने के बाद अपने पैसों को बुद्धिमानी से खर्च करें. खरीदारी करने के लिए कई सस्ता और बेहतर विकल्प के बारे में शोध करें, और अतिरिक्त पैसे बचाएं. नए रुझानों और ऑफ़र के बारे में जानने के लिये कनेक्शन का उपयोग करें.
  1. एक इमरजेंसी फंड बना कर रखें

स्थिर वित्त रखने का सबसे महत्वपूर्ण पहलू है इमरजेंसी फंड बना कर रखें. इसलिए, बड़े निवेश करने से पहले, सुनिश्चित करें कि आपको आवश्यकता के समय में आपकी सहायता के लिए आपातकालीन निधि में कुछ महीने का खर्च मौजूद है. इसे रखने से यह सुनिश्चित होगा कि आपके पास हमेशा विकल्प है पैसे जल्दी से प्राप्त करने का. यदि आपको यह तय करने में कठिनाई हो रही है कि आपको कितना हाथ में रखना है, तो एक महीने के खर्च के हिसाब से आप भविष्य में आपके पास होने वाले सभी खर्चों का अनुमान लगाएं.

  1. परिवार के वित्त के निर्णय में पूरी तरह से शामिल रहें, राय साझा करें

ज्यादातर महिलाएं अपने परिवार के वित्तीय मामलों से दूर रहती हैं. यह न केवल उसके निर्णय को ले लेता है बल्कि फिर उसे वित्त की जानकारी भी नही मिल पाती है. मामलों पर अपने साथी या परिवार से बात करना और समेकित प्रयासों के माध्यम से कठिनाइयों को हल करना बहुत मददगार हो सकता है. अपने साझा लक्ष्यों पर चर्चा करें और वहां से, एक रोडमैप बनाएं. अपनी योजनाओं का खुलासा करें और सुझाव लें.

  1. ऋण और बोझ से खुद को मुक्त करें

आर्थिक रूप से किसी पर निर्भर रहना भी एक तरह से ऋण लेने की तरह है. अपने क्रेडिट स्कोर का रिकॉर्ड रखें और इसके परिणामस्वरूप अपने कर्ज का भुगतान करने पर ध्यान केंद्रित करें. लंबी अवधि के लिए बड़े क्रेडिट कार्ड ऋण लेना बंद करें क्योंकि इससे स्थिति खराब हो जाती है. समय पर ऋण का भुगतान करें. एक बार जब आप अपने क्रेडिट कार्ड से भुगतान करते हैं, तो उन्हें केवल सुविधा के लिए उपयोग करें, और हर महीने शेष राशि का भुगतान करें.

  1. भविष्य के लिए बचायें

धारणा है कि महिलाएं बचाने में सक्षम हैं सच भी हो सकती हैं. लेकिन वास्तव में, क्या सभी व्यक्तिगत रुप से बचत कर रहे हैं? कई अध्ययन और सर्वेक्षण बताते हैं कि जब रिटायरमेंट बचत की बात आती है तो महिलाएं काफी पीछे होती हैं. बिल्कुल शून्य बचत लंबे समय में मुश्किल पैदा करती है. इसलिए, अधिक बचत और इसे लागू करने की योजना बनाना प्रभावी धन प्रबंधन का एक तरीका है. निश्चित रूप से, आपको ऐसा करने के लिए अपने बजट में कुछ चीजें बदलनी पड़ सकती हैं, लेकिन यह सब आपके काम ही आयेंगी.

  1. विविधता पर बातचीत करें

  • विविधता एक महत्वपूर्ण चीज़ है. महिलाओं को भी पुरुषों की तरह मार्केट समझने की ताक़त होती है. नकदी, स्टॉक और बॉन्ड के बीच विविधता रखें. साथ ही, बचत खातों, स्टाक और मनी मार्केट फंड जैसे सुरक्षित निवेश में अपने अधिकांश पैसे डालने की सामान्य गलती न करें. साथ ही, कर-स्थगित निवेश का लाभ उठाएं.
  • सब कुछ पर बातचीत करें. अपनी जरुरतों को पूछने के लिये शर्मिंदगी महसूस न करें. जब बिल भुगतानों की भी बात आयें तो भी किसी भी तरह से मौजूद सभी सेवाओं पर बातचीत करके बेहतर विकल्प चुनें. बेहतर सौदों की तलाश करें और अतिरिक्त व्यय को कम करने के लिए उनका इस्तेमाल करें.
  1. विफलताओं से सीखें

  • समझें कि पैसा संभालने के लिए कोई परफेंकशन नही हो सकता है. पैसे का प्रबंधन करते समय गलतियां करना सामान्य है, इसलिए यदि आप बजट से उपर जाते हैं या समय पर बिल का भुगतान करना भूल जाते हैं तो परेशान मत हुआ करें. सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि गलती की वजह से आप किसी को भी अपने को नीचे न दिखाने दें.
  • वित्तीय गलती के बाद वापस रास्ते पर आयें और भविष्य में इस तरह की गलतियां करने से बचें. विकल्पों की पहचान करना भी आवश्यक है और उनसे सीखें. ग़लतियों से सीखें और फिर उन्हें किसी भी तरह से न करने की ठान लें.

वित्त प्रबंधन को अच्छी तरह से रखने के कई अन्य तरीके भी हैं. लेकिन याद रखने की सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि पैसे को उचित परिप्रेक्ष्य में रखना है. आख़िर में,  आपकी वित्तीय सुरक्षा आपके आस-पास के दृष्टिकोण और आपके वित्तीय भविष्य को अपने हाथों में लेने की आपकी इच्छा पर निर्भर करता है.  वित्तीय दिक्क़तों को आपके दैनिक जीवन को बर्बाद करने की अनुमति न दें. एक बार में एक ही कदम उठाएं, क्योंकि हर चीज़ को ठीक किया जा सकता है और आप कभी भी नई शुरुआत कर सकते हैं.

Email us at connect@shethepeople.tv