एमसी मैरी कॉम बाकी दुनिया से अलग  कैसे है? वह एक कामयाब महिला मुक्केबाज है ,लगभग दो दशकों के शानदार करियर के बाद उन्होंने सफलता प्राप्त की हैं। लेकिन क्या इतना बहुत है?  मैरी निश्चित रूप से इससे अधिक है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि मैरी कॉम, जिन पर बॉलीवुड बायोपिक बनाया गया है, भारत के बेहतरीन एथलीटों में से एक रहीं  है। इस साल उन्होंने अकेले, तीनों बच्चो की मां होने के बावजूद  प्रतिष्ठित राष्ट्रमंडल खेल, इंडिया ओपन बॉक्सिंग टूर्नामेंट और अब विश्व चैम्पियनशिप में स्वर्ण जीता है।

नवीनतम उपलब्धि के साथ,मैरी कॉम विश्व चैंपियनशिप में सबसे सफल महिला मुक्केबाज बन गयी है – इस आयोजन में उन्होंने छह स्वर्ण पदक जीते हैं।उन्होंने ओलंपिक पदक जीतकर भारत की पहली महिला मुक्केबाज बनने के बाद 2012 ओलंपिक में अपने ट्रेनिंग और भी  मजबूत की है।

ऐतिहासिक स्वर्ण पदक

कॉम ने सप्ताहांत में इतिहास बनाया है। सोशल मीडिया पर सभी बहुत उत्साहित थे जब उन्होंने अपना छठा विश्व चैंपियनशिप जीता । वह एक ओलंपिक रजत पदक विजेता और एशियाई खेलों में भी स्वर्ण पदक विजेता रही हैं। 35 वर्षीय मैरी ने विश्व चैंपियनशिप के इतिहास में केटी टेलर के पांच विश्व खिताबों को पार कर लिया है और क्यूबा के फेलिक्स सावन से  सबसे सफल मुक्केबाज (पुरुष और महिला मुक्केबाजी संयुक्त) के रूप में बराबरी की  है। किसी और महिला मुक्केबाज ने पहले ऐसा नहीं किया है।

अर्जुन पुरस्कार, पद्मश्री और पद्म भूषण की विजेता,मैरी कॉम कोई साधारण महिला नहीं है। राज्यसभा सांसद रहकर वह समाज के लिए भी काम करती है।

अपनी जीत के बाद पत्रकारों से बात करते हुए, उत्साहित मैरी कॉम ने कहा: “मैं इस देश को अपनी जीत को समर्पित करना चाहती हूं।”

उन्हें 2018 महिला विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप का सर्वश्रेष्ठ मुक्केबाज होने का सम्मान दिया गया है। 35 वर्षीय एथलीट के लिए प्रमुख खिताब जीतना वो भी दो बार प्रसव पीड़ा सहन करने क़े बाद  इतना आसान नहीं था।

अजेय मैरी कॉम

मैरी कॉम जैसी बॉक्सर की शक्ति सराहनीय है। मणिपुर के खेल मंत्री लेटपाओ हाकीप ने छठे विश्व चैंपियनशिप में गोल्ड जीतने पर कॉम को बधाई दी। “मणिपुर के लोगों की ओर से और मेरी व्यक्तिगत तरफ से, मैं छठी बार एआईबीए महिला विश्व मुक्केबाजी चैम्पियनशिप खिताब में प्रतिष्ठित स्वर्ण पदक जीतने के लिए एमसी मैरी कॉम को  हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं। मैरी कॉम ने विशेष रूप से हमारे देश – भारत और मणिपुर के लिए पुरस्कार जीतें हैं।खेल  मंत्री ने कहा कि भगवान उन्हें उनके सभी प्रयासों में उनको सफलता  दे।

मणिपुर के चुराचंदपुर जिले के कंगटेल गांव से रही, कॉम हमेशा रिंग में आक्रमकता का प्रदर्शन करती है। हां, निश्चित रूप से उनके प्रयास  सराहनीय है, लेकिन उन्हें नयी पीढ़ी के साथ प्रतिस्पर्धा करने के लिए, ऊर्जा को जीवित रखना चाहिए और ज़्यादा परिश्रम करना चाहिए।

अभी निवृत्ति नहीं

पहले, उनकी संभावित सेवानिवृत्ति के बारे में अफवाहें आ रही थीं, लेकिन उन्होंने इस पर साफ़ इंकार किया है।

उन्होंने  सभी अफवाहों को हँसक़े टाल  दिया, “मैंने कभी सेवानिवृत्ति के बारे में सोचा नहीं है, वे सिर्फ अफवाहें थीं। मैं भी अचंभित थी जब मैंने इन अफवाहों को सुना।

जाहिर है कि सफल  मुक्केबाज 2020 टोक्यो ओलंपिक में  अपना आजीवन सपना देख रही  है। रियो ओलंपिक 2016 के लिए अर्हता प्राप्त करने की निराशा से जूझ रही मैरी कॉम वर्तमान खेलों में तीन बच्चो की मां एक प्रमुख कलाकार थीं।

“किसने कहा कि मेरी उम्र एक कारक है? आओ और मैं दिखाऊंगी  कि मैं क्या कर सकती  हूं, “उन्होंने कहा जब उनसे उनके तीसरे दशक में मुक्केबाजी के बारे में पूछा गया।

“यह (उम्र मुद्दा) दिमाग से बाहर निकाल देना  चाहिए। मुझे वक़्त क़े साथ पता चल जायेगा जब मेरा शरीर मुझे आगे बढ़ने की इजाजत नहीं देगा। ”

“मैंने 35 या ३६ की उम्र में लड़ने के लिए यह चुनौती ली है। कोई भी जीतने या हारने की गारंटी नहीं दे सकता है, लेकिन जब मैं ट्रेनिंग करती  हूं तो कोई भी मुझे आसानी से हरा नहीं सकता है।”

ओलिंपिक स्वर्ण पदक पर नज़र

एक ओलंपिक पदक वह है जिसका  मैं अभी भी सपना देख रही हूं। यह एक अपूर्ण सपना बना हुआ है। 

ऐतिहासिक जीत के बाद, हमने मैरी कॉम को भावनाओं में खोते हुए  देखा। भीड़ उनका  नाम का ज़ोर से नारा लगते  हुए उत्साहित थी, सारे अधिकारी उसके पास ही खड़े थे। तिरंगे में लिपटी , उन्होंने  अपने प्रशंसकों को उनके “अविश्वसनीय” समर्थन के लिए धन्यवाद दिया। “मैं आज थोड़ी  भावनात्मक हूँ। ओलंपिक खेलों में कोई (48 किलो) वजन श्रेणी नहीं है। आपके प्यार और समर्थन के कारण, मुझे लगता है कि मैं 2020 टोक्यो ओलंपिक के लिए अर्हता प्राप्त करने में सक्षम हुई  हूं। चार साल पहले, मैं रियो के लिए मैं क्वालीफाई होने में सक्षम नहीं थी । मुझे अभी भी उस बात का खेद  है, “उन्होंने कहा।

 

Email us at connect@shethepeople.tv