अभिनेत्री विद्या बालन अपनी अगली बायोपिक फिल्म में शकुंतला देवी का किरदार निभाने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। अनु मेनन द्वारा निर्देशित और विक्रम मल्होत्रा ​​द्वारा निर्मित, एक “ह्यूमन कंप्यूटर” पर यह फिल्म 2020 की गर्मियों में रिलीज होने के लिए तैयार है।

विद्या बालन ने इससे पहले 2012 की फिल्म कहानी में विक्रम मल्होत्रा ​​के साथ काम किया था। डायलॉग्स इशिता मोइत्रा द्वारा लिखे जाएंगे, जबकि स्क्रीनप्ले  मेनन और नयनिका महतानी द्वारा लिखी गई है।

“मैं  “ह्यूमन कंप्यूटर” शकुंतला देवी का किरदार बड़े पर्दे पर निभाने के लिए बेहद उत्साहित हूं।”, विद्या ने कहा

उन्होंने कहा था कि शकुंतला देवी के बारे में जो बात उन्हें सबसे ज्यादा रोमांचित करती है, वह यह है कि उन्होंने गणित के बारे में लोगों की सोच को बदला है।

विद्या बालन ने कहा, “मैथ जीनियस, ह्यूमन कंप्यूटर, एक छोटे शहर की भारतीय लड़की थी, जिसने दुनिया में तहलका मचा दिया ।”

शकुंतला देवी भारत की अब तक की सबसे बेहतरीन माथेमैटिशिएंस में से एक थीं। वह अपने दिमाग  में 13 अंकों की संख्याओं को मल्टीप्लाई और जोड़ने में सक्षम थी। इसके अलावा वह अपने दिमाग में विभिन्न बड़ी संख्याओं की क्यूब रुट निकालने में सक्षम थी। उन्होंने कभी किसी कॅल्क्युलेशन के लिए कैलकुलेटर का इस्तेमाल नहीं किया। यह गणित
की जादूगर थी। वह अपने दिमाग में मुश्किल से मुश्किल कैलकुलेशन करने बहुत सक्षम थी।

कोई औपचारिक शिक्षा प्राप्त नहीं करने के बावजूद, वह 1982 के गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में अपना नाम लिखवाने में कामयाब रही हैं।

5 साल की उम्र में, वह 18 साल के बच्चों के लिए गणित की समस्याओं को हल करके लोगों को चकित करने में सक्षम थी।

वास्तव में, 1990 में वह लंदन के इंपीरियल कॉलेज में सभी को आश्चर्यचकित करने में भी सक्षम रही थी। शकुंतला देवी केवल 28 सेकंड के समय सीमा में दो, 13 अंकों की संख्या को सही ढंग से मल्टीप्लाई करने में सक्षम थी। इस बार 26 अंकों के उत्तर को सबसे तेज़ सॉल्व के लिए लिया गया समय शामिल था।

एक शानदार गणितज्ञ होने के अलावा, वह समलैंगिक लोगों के अधिकारों के लिए लड़ने वाले भारत के पहले लोगों में से एक थीं। उन्होंने पुस्तक – समलैंगिकों की दुनिया भी लिखी। उसे पता चला था कि उनके पति समलैंगिक थे । उसके बाद, उन्होंने  एक समलैंगिक के जीवन को समझने के लिए लोगों का इंटरव्यू लिया। फिर उन्होंने एक पुस्तक में अपने सीखने और विचारों को इकट्ठा किया।

जब लोगों ने समलैंगिकता पर उनकी  किताब पर सवाल उठाया तो उन्होंने  बस इतना ही कहा, “इस किताब को लिखने के लिए मेरी एकमात्र योग्यता यह है कि मैं एक इंसान हूँ”।

इसके अलावा उन्होंने  गणित और ज्योतिष पर कई किताबें लिखी हैं। सुपर प्रेरणादायक शकुंतला देवी पर यह फिल्म निश्चित रूप से उनके लिए लोगों का सम्मान बढ़ाने वाली है।

Email us at connect@shethepeople.tv