शूटर राही सरनोबत ने एशियाई खेलों में अपने प्रदर्शन से सब का ध्यान आकर्षित किया है. उन्होंने 22 अगस्त को एशियाड में 25 मीटर पिस्टल इवेंट में गोल्ड जीत कर पहली भारतीय महिला बनकर इतिहास लिख डाला. उन्होंने जिस वक़्त जीत हासिल की उस वक़्त उन्होंने फाइनल में 34 पाइंट का स्कोर बनाया और थाईलैंड की नाफास्वान यांगपाइबून को बांधे रखा.

हालांकि सभी नज़रे 16 वर्षीय शूटर मनु भाकेर पर थीं, जिनके पास पहले से ही 593 का रिकॉर्ड था, सरनोबत 580 के स्कोर के साथ छठवीं सर्वश्रेष्ठ के रूप में क्वालीफाई कर चुकी थी. लेकिन 27 वर्षीय ने अपना दमख़म दिखा कर अंतिम दौर में भारत के लिए चौथा स्वर्ण जीता. यह सरनोबत की सर्वश्रेष्ठ जीत और उनके करियर का सबसे बड़ा पदक है.

सरनोबत अब 2020 में अगले टोक्यो ओलंपिक में सभी रिकॉर्ड तोड़ने के लिए तैयार नज़र आ रही है.

इंडोनेशिया के पालेम्बैंग में जीत के बाद शूटर ने कहा,”यह जीत मेरे दिमाग को खोलने के लिए मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण थी. यह मुझे उस समय में ले गया जब मैं पदक जीत रही थी. “

आइयें इस कुशल शूटर के बारे में और जानें:

उन्होंने शूटिंग कैसे चुनी

सरनोबत कोल्हापुर, महाराष्ट्र से है.  शूटिंग करने की प्रेरणा उन्हें 50 मीटर राइफल प्रोन विश्व चैंपियन तेजस्विनी सावंत से मिली. उन्होंने चंगवोन में 2013 में आईएसएसएफ विश्व कप में 25 मीटर पिस्टल इवेंट में स्वर्ण पदक जीता. सरनोबत को छह बार के ओलंपियन कोच मुंकबायर दोर्जसुरन द्वारा प्रशिक्षित किया गया.

उन्होंने फर्स्टपोस्ट को बताया, “ऐसी चीजें हैं जो आसानी से मेरे पास आती हैं और उनमें से धैर्य एक है. मैं कुछ गहरी सांस लेती हूं और मैं अपने दिल की धड़कन को नियंत्रित कर सकती हूं. दूसरों के लिए  यह एक अभ्यास कौशल है. लेकिन मुझे में यह स्वाभाविक रूप से आता है. ”

करियर की मुख्य बातें

  • सरनोबत पुणे में 2008 राष्ट्रमंडल युवा खेलों की स्वर्ण पदक विजेता हैं.
  • उन्होंने 2010 में राष्ट्रमंडल खेलों में दो स्वर्ण पदक भी जीते.
  • यह शूटर 2012 ओलंपिक में 25 मीटर पिस्टल स्पर्धा में भाग लेने वाली पहली भारतीय महिला भी थी. वह 19वें स्थान पर रही.
  • 2014 में ग्लासगो में राष्ट्रमंडल खेलों में, उन्होंने महिलाओं के 25 मीटर पिस्टल में स्वर्ण जीता.
  • उसी वर्ष, उन्होंने इचियोन में 2014 एशियाई खेलों में 25 मीटर पिस्तौल टीम इवेंट में कांस्य पदक जीता.

पुरस्कारों की बारिश

उनकी उपलब्धि का जश्न मनाते हुए, महाराष्ट्र सरकार ने बुधवार को राही सरनोबत के लिए 50 लाख रुपये का नकद पुरस्कार घोषित किया है.  मुख्यमंत्री देवेंद्र फडनवीस ने ट्वीट किया, “मुझे यह घोषणा करते हुये प्रसन्नता हो रही है कि महाराष्ट्र सरकार स्वर्ण पदक विजेताओं को 50 लाख रुपये, रजत पदक विजेताओं को 30 लाख रुपये और महाराष्ट्र से एशियाई गेम्स 2018 के कांस्य पदक विजेताओं को 20 लाख रुपये देगी।”

 

Email us at connect@shethepeople.tv