इतनी तेज़ गर्मी में क्या आप बिना पंखे और ऐसी के रहने के बारे में सोच सकते है? हरगिज़ भी नहीं क्योंकि यह बिलकुल नामुमकिन है ।आइये आज जानते है डॉ. हेमा साने, के बारे में जो की  79 वर्षीय पूर्व प्रोफेसर है । जीवन भर वह बुधवर पेठ, पुणे में बिना बिजली के घर में रही हैं और बिजली का उपयोग न करने के पीछे का कारण प्रकृति और पर्यावरण के प्रति उनका प्रेम है। आइये उनके बारें में कुछ बातें जाने

  1. उनका कहना है की भोजन, आश्रय और कपड़े बुनियादी जरूरतें हैं। पहले , बिजली नहीं हुआ करती थी, बहुत बाद में बिजली का अविष्कार हुआ , मैं इसके बिना रह सकती  हूं, ”उन्होंने कहा।
  2. डॉ हेमा साने ने कहा कि यह संपत्ति उनके कुत्ते, दो बिल्लियों, एक नेवले और बहुत सारे पक्षियों की है।

उनका कहना है यह उनकी संपत्ति है, मेरी नहीं। मैं केवल उनकी देखभाल करने के लिए यहां हूं।

  1. वह कहती है “लोग मुझे मूर्ख कहते हैं, मैं पागल हो सकती हूं लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि यह मेरा जीवन को देखने तरीका है। मैं जैसा चाहती हूं, वैसे रह सकती हूं। ”साने ने दृढ़ता से कहा।
  2. वह एक छोटी सी झोपड़ी में रहती है या हम उसे पुणे के बुधवर पेठ इलाके में एक छोटा सा घर भी कह सकते है। उनका घर विभिन्न प्रकार के पेड़ों और पक्षियों से घिरा हुआ है। उसकी सुबह पक्षियों के मधुर शोर के साथ शुरू होती है और उसके घर को रोशनी देने वाले चमकदार लैंप के साथ समाप्त होती है।

डॉ.साने ने वनस्पति विज्ञान और पर्यावरण पर कई किताबें लिखी हैं, जो पहले से ही बाजार में प्रकाशित हैं।

  1. आज भी, जब भी वह अपने घर में अकेली होती है तो वह नई किताबें लिखती रहती है। पर्यावरण पर उनकी रिसर्च ऐसी है कि शायद ही कोई पक्षी या पेड़ होगा जो उसके लिए अज्ञात हो।
  2. डॉ.साने ने आगे कहा, “मैंने अपने पूरे जीवन में कभी बिजली की आवश्यकता महसूस नहीं की। लोग अक्सर मुझसे पूछते हैं कि आप बिना बिजली के कैसे रहते हैं और मैं उनसे पूछता हूं कि आप बिजली के साथ कैसे रहते हैं? “

“ये पक्षी मेरे दोस्त हैं और जब भी मैं अपना घर का काम करती हूं तो वे आते हैं। लोग अक्सर मुझसे पूछते हैं कि आप इस घर को क्यों नहीं बेचते, आपको इतने पैसे मिलेंगे! मैं हमेशा कहती हूं कि इन पेड़ों और पक्षियों की देखभाल कौन करेगा? मैं बाहर नहीं जाना चाहती। मैं उनके साथ रहना चाहती हूं।

Email us at connect@shethepeople.tv