जहाँ महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठाये जा रहे हैं वहीँ केंद्रीय मंत्री और पटना साहिब के सांसद रविशंकर प्रसाद ने हाली में बिहार के प्रथम महिला डाकघर का उद्घाटन किया। उनके अनुसार यह कदम महिलाओं को स्वावलम्बी और सशक्त करेगा। यह पूरी तरह से महिला डाक कर्मियों द्वारा संचालित होगा।

इस डाकघर में सभी कर्मचारी महिला होगी, चाहे वो पोस्टमास्टर हो, क्लर्क हो या पोस्टमैन हो. यह बिहार का पहले और देश का दूसरा महिला डाकघर है.

केंद्रीय मंत्री और पटना साहिब के सांसद रविशंकर प्रसाद के अनुसार यह कदम महिलाओं को स्वावलम्बी और सशक्त करेगा। यह पूरी तरह से महिला डाक कर्मियों द्वारा संचालित होगा।

केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने यह भी कहा कि अब देश के हर पोस्टल डिवीजन में महिला डाकघर खुलेगा | देश की बेटियों और उनकी उपलब्धियों की सराहना करते हुए उन्होंने यह भी कहा कि देश की बेटियां अब फाइटर प्लेन उड़ा रही हैं और यह कदम नारी शक्ति के मुद्दे को आगे लेकर जाने में सहायक है.

महिला सशक्तिकरण की दिशा में सरकार ने कई साहसिक कदम उठाए हैं। यह महिला डाकघर उसका एक अच्छा उदाहरण हैं ”, भारत के आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा।

भारत में डाक विभाग महिलाओं के लिए एक बड़ा नियोक्ता है। वर्तमान में, भारत में डाक सर्किल के कुल 1,81,477 कर्मचारी हैं, जिनमें से 33488 महिलाएँ हैं। मंत्री ने देश के सभी डाक प्रभागों में कम से कम एक महिला डाकघर खोलने का वादा किया।

यह महिला डाक घर पारंपरिक और आधुनिक दोनों सेवाएं देगा। भारत में डाकघरों का उपयोग केवल डाक वस्तुओं और पत्रों या दस्तावेजों को पोस्ट या गति देने के लिए नहीं किया जाता है बल्कि यह बिलों का भुगतान करने, डाक योजनाओं के तहत सावधि जमाओं को पंजीकृत करने के लिए एक केंद्र है। इस डिजिटल दुनिया में भी डाकघरों का महत्व काम नहीं हुआ है.

Email us at connect@shethepeople.tv