वर्क फ्रॉम होम कैसे मैनेज करें? यहाँ हैं 6 टिप्स

वर्क फ्रॉम होम कैसे मैनेज करें

सुबह के काम जैसे बच्चों को नहलाने, खाना बनाने और खिलाने का काम कर लें। बच्चों को किताबें या आर्ट बनाने वाली किताबें दें, खेलन दें, टीवी, लैपटॉप और मोबाइल पर कुछ समय बिताने  दें।

Read More
Second Child की प्लानिंग
Read More

क्या आप भी Second Child की प्लानिंग करना चाहते हैं ? ध्यान रखिये ये 8 बातें

सेकंड प्रेगनेंसी के दौरान अधिक सहायता महत्वपूर्ण हो जाती हैं। क्योंकि उस समय आपके पहले बच्चें  की देखभाल की भी आवश्यकता होती  हैं। इसलिए जरूरी है कि आप ऐसी सिचुएशन में उन लोगों के साथ रहें जो आपकी अच्छे से देखभाल कर सकते हैं।

Read More
बच्चों की शादी की प्लानिंग
Read More

बच्चों की शादी की प्लानिंग कर रहे हैं? यहाँ हैं 5 टिप्स

सभी पेरेंट्स को ये राय है कि शादी की प्लानिंग से पहले बेटी की फाइनेंशियल सिक्योरिटी की प्लानिंग करें व दिखावे के खर्चों पर कण्ट्रोल करें। दिखावे के खर्चों की जगह बच्चों के एजुकेशन पर खर्चा करें।

Read More
बच्चों की देखरेख में पिता को शामिल करने के टिप्स
Read More

बच्चों की देखरेख में पिता को शामिल करना चाहती हैं ? अपनाइये ये 6 टिप्स

अगर आप खाना बना रही है तो बच्चे के साथ बैठकर उसे खाना खिलाने की ज़िम्मेदारी पति को दी जा सकती  हैं। इस तरह से वह बच्चे के साथ तसल्ली और प्यार से काम करना सीखेंगे।  बच्चे के साथ खाना खाते हुए समय बिताना दोनों में प्यार को भी बढ़ाएगा।

Read More
बेटी का कॉन्फिडेंस कैसे बढ़ाये
Read More

बेटी का कॉन्फिडेंस कैसे बढ़ाये ? पढ़िए ये 6 टिप्स

विश्वास को बढ़ाएं उसके विश्वास को बढ़ाएं इससे उसके अंदर प्रोत्साहन बढ़ेगा। लेकिन अपनी बेटी के उन विशवास या सोच को बढ़ावा दें जिस में सच्चाई हो। उसे गलत और सही में फर्क सिखाएं।

Read More
लव मैरिज के लिए पेरेंट्स को कैसे मनाये
Read More

लव मैरिज के लिए पेरेंट्स नहीं हैं राजी ? तो इन 5 तरीकों से उन्हें मनाएं

अगर आपके पेरेंट्स आपके कहने पर लव मैरिज के लिए तैयार नहीं हो रहे तो उन्हें एक बार अपने पार्टनर से मिलने के लिए मनाएं। अपने पैरेंट्स से आप कह सकती हैं  | कि एक बार वे उस शख्स से मिल लेंगे तो उनके मन की शंकाएं दूर हो जाएंगी।

Read More
शादी के कितने दिनों बाद करनी चाहिए बच्चे की प्लानिंग
Read More

शादी के कितने दिनों बाद करनी चाहिए बच्चे की प्लानिंग ? जानिए ये 3 टिप्स

जब 25-30 साल के बीच हो शादी: अगर आपकी शादी 25 से 30 साल के बीच होती  हैं तो आप शादी के तुरंत बाद बच्चे की प्लानिंग कर सकते हैं। ज्यादातर कपल्स का मानना    हैं कि बच्चे के जन्म के लिए यह सबसे सही उम्र  होती  हैं। हालांकि स्वास्थ्य के लिहाज से देखें तो यह उम्र आते-आते महिलाओं की  फर्टिलिटी कम होने लगती है और महिला के प्रेग्नेंट होने के चांसेज कम होने लगते हैं। जहां तक पुरुषों के स्पर्म क्वॉलिटी का सवाल है तो यह पूरी तरह से उनके लाइफस्टाइल पर निर्भर करता हैं। अगर पुरुष शराब और सिगरेट का सेवन करता हैं या उन्हें कोई स्वास्थ्य से जुड़ी समस्या है तो इसका उनके स्पर्म पर भी असर पड़ता  हैं।

Read More
बच्चों की देखरेख में पिता को शामिल करने के टिप्स
Read More

कैसे करे बच्चो के भविष्य और पढाई की फाइनेंशल प्लानिंग ? जानिए 7 जरुरी टिप्स

भविष्य में कितने फंड की जरूरत होगी अनुमान लगाए 
आंकडों के अनुसार एजुकेशन की महंगाई दर 10 से 12 फीसदी सालाना हैं । इसके अनुसार आने वाले सालों में अगर औसतन 6 फीसदी प्रति वर्ष की दर से बढ़ता है तो 15  से 16 साल बाद जिस इंजिनियरिंग कोर्स की फीस आज 6 लाख रुपए है वही 15 लाख रुपये तक हो जायेगी |

Read More
बच्चों की देखरेख में पिता को शामिल करने के टिप्स
Read More

5 बातें जो आपको बुरे माता पिता बनाती हैं

हमेशा आलोचना करना : बच्‍चे की उपलब्धियों की तारीफ न करना और उसकी मेहनत पर गर्व महसूस न करना। बच्‍चा जो भी करे उसकी आलोचना करना या उसे डांटना। ये दोनों ही चीजें बैड पेरेंटिंग का संकेत होती हैं।

Read More
क्यों ज़रूरी है सेक्स एजुकेशन
Read More

कैसे बिताये बच्चों के साथ क्वालिटी टाइम ? जानिए ये 8 टिप्स

वीकेंड बच्चों की चॉइस : हर हफ़्ते शनिवार की शाम या रात बच्चों की इच्छानुसार बिताएं। फिर चाहे वो कोई मूवी देखना हो या बाहर डिनर करना या फिर रविवार को पिकनिक ही मनाना क्यों न हो। इससे बच्चों के साथ आपकी बॉन्डिंग भी मज़बूत होगी और सभी एनर्जेटिक भी महसूस करेंगे।

Read More

हमारे बारे में

शीदपीपल.टीवी भारत का पहला महिला-केंद्रित मीडिया प्लेटफार्म है. हम महिलाओं की जर्नी, और उनकी कहानियों को बढ़ावा देने के लिए समर्पित हैं. हम उन्हें एक ऐसे अद्बुद्ध नेटवर्क से जोड़ते हैं जो उन्हें सशक्त बनाता है,उन्हें प्रेरित करता है और उन्हें आगे बढ़ने का बढ़ावा देता है।

भारत में प्रत्येक गुज़रते साल के साथ महिलाएं ऑनलाइन आ रही हैं. उन्हें एक ऐसे प्लेटफार्म की ज़रुरत है जो उन्हें समझ पाए. हम उन महिलाओं से जुड़ते हैं जो नए विचारों और प्रेरणा के साथ दुनिया को समृद्ध करते हैं.

पुरस्कार विजेता पत्रकार शैली चोपड़ा द्वारा स्थापित, शीदपीपल.टीवी वो आवाज है जो भारतीय महिलाओं को आज चाहिए।