राजस्थान ब्लैक फंगस महामारी  – एक ऐसी बीमारी है जो कोरोना से ठीक हुए लोगों को हो रही है। इसके मामले इंडिया में अब बढ़ने लगे हैं खास कर कि कुछ हिस्सों में जैसे कि राजस्थान। इसके चलते राजस्थान के डॉक्टर ने इस बीमारी को महामारी भी घोषित कर दिया है।

राजस्थान स्टेट गवर्नमेंट का ब्लैक फंगस को लेकर क्या कहना है ?

स्टेट गवर्नमेंट ने ब्लैक फंगस को ठीक करने वाली दवाई का 2500 वाइल्स आर्डर कर दिया है। हेल्थ मिनिस्टर रघु शर्मा ने इस बात कि पुष्टि की है। अभी फ़िलहाल जयपुर के अस्पताल में इसके पेशेंट को इलाज चल रहा है।

ब्लैक फंगस को राजस्थान एपिडेमिक एक्ट 2020 के अंतर्गत महामारी घोषित किया गया है। राजस्थान के स्टेट प्रिंसिपल हेल्थ सेक्रेटरी अखिल अरोरा का कहना है कि कोविद और ब्लैक फंगस दोनों का इलाज साइड बाई साइड होना सही समय पर जरुरी है।

जिस दवाई का इस्तेमाल इस दवाई के इलाज के लिए किया जाता है वो अभी इतनी ज्यादा क्वांटिटी में मौजूद नहीं है। राजस्थान के अलावा दिल्ली में भी इसके कई मामले सामने आ रहे हैं। दिल्ली सर्कार पूरी कोशिश कर रही है कि इसका इलाज बिना किसी भेद भाव के सभी के लिए सामान रूप से हो सके।

ब्लैक फंगस क्या होता है ?

ब्लैक फंगस एक तरह का फंगल इंफेक्शन है जो कि कमजोर शरीर वाले मरीजों में तेजी से फैल रहा है। इस इंफेक्शन को Mucormycosis भी कहा जाता है। फंगस ज्यादातर नाक, फेफड़ों, त्वचा, आंखें और मस्तिष्क पर असर डालती है।

किस किस को ध्यान रखने की जरुरत है ?

डायबिटीज से पीड़ित और स्टेरॉइड्स ज्यादा लेने वाले मरीजों में ब्लैक फंगस का ज्यादा खतरा है। इससे बचने के लिए अपनी शुगर को नियंत्रित रखना होगा। स्टेरॉइड्स के अलावा कोरोना की कुछ और दवाइयां भी मरीज की इम्युनिटी पर असर डालती है। खासकर कोरोना से हाल ही में ठीक हुए लोगों को अपनी सेहत का खास ख्याल रखना होगा क्योंकि वे भी इस फंगल इंफेक्शन से अधिक असुरक्षित हैं।

Email us at connect@shethepeople.tv