फ़ीचर्ड

एक कैंसर रिसर्चर 4,000 किमी साइकिल रेस जीतने वाली पहली महिला बनी

Published by
Ayushi Jain

एक जर्मन कैंसर रिसर्चर 4,000 किमी साइकिल रेस जीतने वाली पहली महिला बनीअपनी पहली अल्ट्रा-डिस्टेंस इवेंट में दुनिया की सबसे मुश्किल साइकिल रेस जीतने वाली पहली महिला बन गई है।

ड्रेसडेन की 24 साल की फियोना कोलबिंगर ने कहा कि वह ट्रांसकॉन्टिनेंटल को जीतकर “इतनी हैरान” थी। उन्होंने बुल्गारिया के बर्गास से फ्रांस के ब्रेस्ट तक 2,485 मील (4,000 किमी) की दूरी तय की।

चुनौती को पूरा करने में उन्हें 10 दिन, दो घंटे और 48 मिनट लगे, जिसमें लगभग 40,000 मीटर (131,000 फीट) की चढ़ाई शामिल थी।

कॉल्बिंगर दौड़ के सातवें एडिशन में हिस्सा लेनेवाली वह 265 सवारों में से एक थी। इस रेस को 2013 में ब्रिटिश साइकिल चालक माइक हॉल द्वारा शुरू किया गया था, जिन्होंने 2017 में ऑस्ट्रेलिया में एक दौड़ के दौरान दुनिया को अलविदा कह दिया था।

अपने चुने हुए रस्ते के आधार पर, प्रतिभागी ऑस्ट्रिया, बुल्गारिया, बोस्निया-हर्ज़ेगोविना, क्रोएशिया, फ्रांस, इटली, कोसोवो, सर्बिया, स्लोवेनिया और स्विट्जरलैंड से गुजर सकते हैं।

राइडर्स अपना रास्ता चुनने के लिए स्वतंत्र हैं, लेकिन उन्हें चार नियंत्रण बिंदुओं से गुजरना होगा। हर चेकपॉइंट एक मुश्किल चुनौती होती है, जिसमें बजरी की पटरियों से लेकर उच्च-ऊँचाई तक चढ़ने और खड़ी ढाल हैं।

इनमें इटली और ऑस्ट्रिया के बीच की सीमा पर साउथ टायरॉल में 2,474-मीटर टिम्मेल्सज़ोचपास पर चढ़ना और 2,645-मीटर कर्नल डु गैलीबियर को पार करना शामिल है, जो फ्रांसीसी आल्प्स में सबसे ऊंचे पक्के रास्तों में से एक है।

कोलबिंगर, हीडलबर्ग में जर्मन कैंसर रिसर्च सेंटर में बाल चिकित्सा ऑन्कोलॉजी यूनिट में एक मेडिकल छात्रा है वह दौड़ में हिस्सा लेनेवाली 40 महिलाओं में से एक थी।

“जब मैं दौड़ में आ रही थी, तो मुझे लगा कि शायद मैं महिलाओं के मंच पर जा सकती हूं, लेकिन मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं पूरी दौड़ जीत सकती हूं… मुझे लगता है कि यह और मुश्किल हो सकता था। मैं कम सो सकती थी, ”उन्होंने मंगलवार को फिनिश लाइन पर कहा।

28 जुलाई को बर्गास से प्रतियोगियों के जाने के बाद उनका समय शुरू हो जाता है। प्रतियोगी चुनते हैं कि कब, कहां और क्या वे आराम करना चाहते हैं। राइडर्स केवल वही सामान उपयोग कर सकते हैं जो वे अपने साथ लाते हैं, या जो वे व्यावसायिक रूप से उपलब्ध सेवाओं में रास्तों पर ढूंड सकते हैं, और वे दोस्तों या अजनबियों से मदद नहीं ले सकते।

 

Recent Posts

अर्ली इन्वेस्टमेंट: जानिए जल्दी इन्वेस्टिंग शुरू करने के ये 5 कारण

अर्ली इन्वेस्टमेंट प्लान्स को स्टार्ट करने से ना सिर्फ आप इन्वेस्टमेंट और सेविंग्स के बीच…

10 mins ago

लैंडस्लाइड में मां बाप और परिवार को खो चुकी इस लड़की ने 12वीं कक्षा में किया टॉप

इसके बाद गोपीका 11वीं कक्षा में अच्छे मार्क्स नहीं ला पाई थी क्योंकि उस समय…

1 hour ago

जिया खान के निधन के 8 साल बाद सीबीआई कोर्ट करेगी पेंडिंग केस की सुनवाई

बॉलीवुड लेट अभिनेता जिया खान के मामले में सीबीआई कोर्ट 8 साल के बाद पेंडिंग…

2 hours ago

दृष्टि धामी के डिजिटल डेब्यू शो द एम्पायर से उनका फर्स्ट लुक हुआ आउट

नेशनल अवॉर्ड-विनिंग डायरेक्टर निखिल आडवाणी द्वारा बनाई गई, हिस्टोरिकल सीरीज ओटीटी पर रिलीज होगी। यह…

3 hours ago

5 बातें जो काश मेरी माँ ने मुझसे कही होती !

बाते जो मेरी माँ ने मुझसे कही होती : माँ -बेटी का रिश्ता, दुनिया के…

3 hours ago

This website uses cookies.