फ़ीचर्ड

क्या दिल्ली विश्वविद्यालय में लगते हैं नारीवाद के नारे?

Published by
Jayanti Jha

दिल्ली विश्वविद्यालय जहां हर राज्य और यहां तक कि कुछ देशों से बच्चे पढ़ने आते है, वहां काफी सोच विचार एवं हर मुद्दे को लेके बेहेस छिड़ती है। एक ऐसा ही एहम मुद्दा नारीवाद का है। नारीवाद यानी कि पुरुष और औरत में समानता। न कोई किसी से कम, न कोई किसी से ज्यादा। पूरे जहां में जहां नारीवाद एक काफी उभरता हुआ विषय बन गया है, वही ये देखना ज़रूरी है, की क्या भारत का उच्च विश्यविद्यालय इसके अधीन है, या पराधीन।

दिल्ली विश्वविद्यालय में नारीवाद

यूं तो इस विश्वविद्यालय में कई महिला कॉलेज है जहां नारीवाद पे कई बार बेहेस होती है पर दिल्ली विश्वविद्यालय में नारीवाद को लेकर काफी लोगो की अलग मत है ।

यूनियन की दिक्कत

कुछ लोगो का ये मनना है कि अगर नारीवाद के बारे में इतनी ही बेहेस होती है तो लड़कियों के कॉलेज में इलेक्शन में दिल्ली यूनिवर्सिटी का स्टूडेंट्स यूनियन क्यों नही होता, क्यों इन कॉलेज के अपने खुद के यूनियन होते है? ये राजनीतिक तौर से नारीवाद के सोच को खत्म कर देता है।

होस्टल के समय

कुछ लोगो का ये कहना है कि लड़कों और लड़कियों के होस्टल समय अलग अलग क्यों है?लड़को के लिये आने और जाने पे कोई पाबंधी नही पर लड़कियों के लिए ये नियम बनाये गए कि 7 बजे के बाद कोई लड़की बाहर नही जा पाएगी। यहां भी नारीवाद के सोच का उलंघन होता है।

चुनाव का समय

चुनाव के समय जहा लड़कियों को पूरे विश्वविद्यालय की लड़कियों के लिए खड़ा होना चाहिए, वही ये देखा जाता है कि काफी कम लड़कियां इस चुनाव का हिस्सा बनती है और जो बनती है उन्हें कई मुसीबतों का सामना करना पड़ता है। लेफ्टिस्ट संघठन की ओर से खड़ी हुई एक प्रतिनिधि को किरोड़ी माल कॉलेज में थप्पड़ मारा गया। अगर ऐसी हरकतों को प्रोत्साहित किया गया तो जो दो चार महिलाये चुनाव में खड़ी होती है, सुरक्षा से डर से वो भी नही होगा। नारीवाद का उलंघन यहां भी होता है।

आंदोलन में

पिंजरा तोड़ जैसे आंदोलन में जोकि लड़कियों के ही फायदे में है, देखा जाता है कि लड़कियों की आबादी ही इन आंदोलनों में कम होती है।

उपाय

ऐसा नही है कि दिल्ली यूनिवर्सिटी के कॉलेज महिलाओं की तरफ ध्यान नही देते । लड़कियों के कॉलेज में नारीवाद के ऊपर बेहेस होते है एवं इसका पालन भी किया जाता है। कई कॉलेजों में लड़कियों ने “वीमेन डेवेलपमेंट सेल” यानी कि “महिला सुधार सेल” खोले और कई ऐसे संगठन शुरू किए जोकि समलैंगिक तौर से सहायक है।  अगर पूरे विश्वविद्यालय को देखा जाए तो विद्यार्थियों एवं शिक्षकों को मिलके इस समानता को लाना होगा ।

Recent Posts

Delhi Cantt Rape Case: लाश के नाम पर महज़ जले हुए दो पैर से कैसे पता लगाएगी पुलिस कि बच्ची के साथ रेप हुआ था या नहीं ?

पुलिस के मुताबिक़ मामले की जांच जारी है ,उन्होंने भारतीय दंड संहिता (IPC) की संबंधित…

6 hours ago

Big Boss 15 : पति Karan Mehra संग विवादों के बाद क्या Nisha Rawal बिग बॉस 15 शो में नज़र आएगी ?

अभिनेत्री और डिजाइनर निशा रावल जो पति करण मेहरा के साथ अपने विवाद के बाद…

9 hours ago

क्या आप Dial 100 फिल्म का इंतज़ार कर रहे हैं? इस से पहले देखें ऐसी ही 5 रिवेंज थ्रिलर फिल्में

एक्ट्रेस नीना गुप्ता की जल्दी ही नयी फिल्म आने वाली है। गुप्ता और मनोज बाजपेयी…

9 hours ago

Viral Drunk Girl Video : पुणे में दारु पीकर लड़की रोड पर लेटी और ट्रैफिक जाम किया

इस वीडियो में एक लड़की देखी जा सकती है जिस ने दारु पी रखी है…

9 hours ago

Tokyo Olympic 2021 : क्यों कर रहे हम टोक्यो ओलंपिक्स में महिला एथलिट को सेलिब्रेट?

इस बार के टोक्यो ओलिंपिक 2021 में महिला एथलिट ने साबित कर दिया है कि…

10 hours ago

TOKYO ओलंपिक्स 2020 : अदिति अशोक कौन हैं? क्यों हैं यह न्यूज़ में?

भारतीय महिला गोल्फर अदिति अशोक पहली बार सबकी नज़र में 5 साल पहल रिओ ओलंपिक्स…

11 hours ago

This website uses cookies.