फ़ीचर्ड

जानिए अपने पिता से क्या क्या सीखते हैं हम

Published by
Ayushi Jain

एक बच्चे के जीवन में उसके लिए उसके माता -पिता दोनों ही एहम भूमिका निभाते है और एक बच्चे की परवरिश में दोनों ही अपना -अपना कर्त्तव्य निभाते है । जहाँ एक माँ अपने बच्चे को नौ महीने कोख में पालती है, उसे जन्म देती है वहीं एक पिता उसे अपने दिल में पालता है । बहुत सारे  विवाहिक जोड़े यह जानते  होंगे की माता -पिता बनना जीवन का कितना अनोखा अनुभव होता है । उसी तरह हर बच्चे के पास अच्छे माता -पिता होना जो उसमे संस्कारो की पूर्ती करें कितना ज़रूरी है । कहते है दुनिया में माँ से बढ़कर कोई नहीं पर दुनिया में पिता से ज़्यादा बढ़ानेवाला कोई नहीं क्योंकि पिता सिर्फ इकलौता ऐसा शख्स होता है जो खुद अपनी मेहनत की कमाई , अपनी रोज़ी- रोटी , अपनी जमा पूँजी अपनी औलाद पर न्योछावर कर देता है । खुद दिन  भर धूपमें पसीना बहाता है ताकि उसके बच्चे सुकून का जीवन बिताएं ।

पिता वह वृक्ष है जो खुद धुप, गर्मी सर्दी हर तरह की परिस्थितियों को सेहन करता है पर अपनी औलाद को सिर्फ छाया और शीतलता ही देता है । यह पिता नामक वृक्ष हम सबको सुरक्षित होने का एहसास देता है की चाहे जीवन में कुछ भी हो, कोई भी परिस्थिति आये वो हैं और सब कुछ संभाल लेंगे । पिता सख्त ज़रूर होते है क्योंकि वो इस खोखली दुनिया की कड़वी सच्चाई बखूबी जानते है और नहीं चाहते की उनके नाज़ुक दिल के टुकड़े को ये ज़ालिम दुनिया नोच -नोच कर खा जाए ।

प्यार और देखभाल

जब हम पैदा होते हैं तब तक हम अपनी माँ पर निर्भर रहते हैं, हमारे पिता हमारी सभी जरूरतों को पूरा करते हैं। जब हम बड़े हो जाते हैं, तो वे इस बात का ध्यान रखते हैं कि अगर पेरेंट्स टीचर्स मीट में कुछ अच्छा नहीं हुआ है, तो हम निराश महसूस न करें । वे यह सुनिश्चित करते हैं कि जब हमारी माँ हमें गन्दी की हुई रसोई के शेल्फ के लिए डांटती है तो वह चुपचाप उसे साफ़ कर देते है और हमे पता भी नहीं चलता क्योंकि हम तो अपने फ़ोन में व्यस्त होते हैं।

जैसे-जैसे हम बड़े होते हैं, वे हमारे साथ कॉलेजों की ओर बढ़ते हैं, लाइन में खड़े होते हैं, फॉर्म प्राप्त करते हैं और लोगों से बात करते हैं जैसे आप नए कॉलेज के चारों ओर घबराते हैं। वे हमें अजनबियों से सावधान रहने के लिए कहते है , जीवन की कठिन परिस्थितियों के लिए मजबूत करते है और अपने दिल की बात उनसे कहने के लिए कहते है तांकि वो हमे समय समय पर गाइड कर सकें।

मेहनत ही शॉर्ट कट है

हर सुबह अपनी नीली शर्ट और टाई में, एक हाथ में नाश्ते के साथ, और दूसरे में फोन के साथ आपको ये याद दिलाता है कि वह इस परेशानी में हैं , ताकि आप खुश रह सकें। आप उन्हें यह कहते हुए पा   सकते हैं कि सफलता पाना मुश्किल नहीं है। हर बार जब आप अच्छा स्कोर नहीं करते हैं, तो वह आपको कड़ी मेहनत करने और असफलता से न डरने के लिए कहते है। हर बार जब आप चाहते हैं कि आप अपने सहपाठी से बेहतर हो, तो वह आपको बताते है कि आपकी लड़ाई खुद से है। वह आपको हर परीक्षा में खुद को आगे बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करते है और जब आप पूरी मेहनत करते हैं, तो वह यह नहीं दिखाते है की उन्हें आपकी कितनी फ़िक्र है या कुछ कहते नहीं है; वह आपको केवल एक गिलास पानी देंगे और आपसे कुछ खाने के लिए कहेगा।

बहुत बचत करें, लेकिन खर्च करने पर पछतायें नहीं

पिता धन को अच्छे से जानते हैं। कमी होने पर वे आपको कभी नहीं बताएंगे और आपको तब भी आपकी पसंद की चीज़ मिलेगी । जब आप छोटे होते हैं तो यह जादू जैसा लगता है। आप चीजें मांगते रहते हैं और वे आती रहती हैं। लेकिन जैसे-जैसे आप बड़े होते हैं आप चुपचाप उन्हें  अपनी जरूरतों में कटौती करते हुए देखते हैं और आपकी सभी इच्छाओं को पूरा करते हैं। आपको एहसास होता है कि यह जादू नहीं है और यह सब कुछ एक कीमत पर आता है। जब आप पहली बार कमाना शुरू करते हैं और महीने खत्म होने से पहले ही यह सब खत्म हो जाता है , तो आपको एहसास होता है कि यह कभी जादू नहीं था। वह आपसे कहते है कि जितना हो सके उतना बचाएं और तभी खर्च करें जब आपको लगता है कि इसकी ज़रूरत है। यही कारण है कि जब आप महसूस करते हैं कि जिस खुशी को आप चाहते हैं, उसके लिए कुछ मूल्य भी चुकाना पड़ता है।

हमेशा सही रहें चाहे कुछ भी हो

दर्द से निपटने के लिए दर्द महसूस करना और दूसरों को चोट पहुंचाना आसान है। जब आपको नहीं समझता है, तो गुस्सा आना आसान है। लेकिन पिता कभी भी आसान तरीका चुनने के बारे में नहीं थे। वे हमेशा आपको बताते हैं कि जितना अधिक आप गलत देखते हैं, उतना ही आप सीखते हैं कि क्या करना सही है। दूसरों की तरह मत बनो। अपनी नैतिकता से चिपके रहें, ईमानदार रहें और आगे बढ़ते रहें। कोई बात नहीं अगर आपके दोस्त आपको निराश करते हैं, तो आपको कभी भी ऐसा नहीं करना चाहिए। कोई बात नहीं अगर आपका बॉस आपके काम की सराहना नहीं करता है, तो भी काम में अपना सौ प्रतिशत देना बंद न करें। ईमानदारी और दया का महत्व वही है जो हम अपने पिता से सीखते हैं।

Recent Posts

शालिनी तलवार कौन है? हनी सिंह की पत्नी जिन्होंने उनके खिलाफ घरेलू हिंसा का मामला दर्ज कराया है

यो यो हनी सिंह की पत्नी शालिनी तलवार ने उनके खिलाफ 3 अगस्त को दिल्ली…

8 hours ago

हनी सिंह की पत्नी ने दर्ज कराया उनके खिलाफ घरेलू हिंसा का केस, जाने क्या है पूरा मामला

बॉलीवुड के मशहूर सिंगर और अभिनेता 'यो यो हनी सिंह' (Honey Singh) पर उनकी पत्नी…

9 hours ago

यो यो हनी सिंह पर हुआ पुलिस केस : पत्नी ने लगाया घरेलू हिंसा का आरोप

बॉलीवुड सिंगर और एक्टर यो यो हनी सिंह की पत्नी शालिनी तलवार ने उनके खिलाफ…

9 hours ago

ओलंपिक मैडल विजेता मीराबाई चानू पर बनेगी बायोपिक : जाने बायोपिक से जुड़ी ये ज़रूरी बातें

वे किसी ऐसे व्यक्ति की तलाश में हैं जो ओलंपिक मैडल विजेता की उम्र, ऊंचाई…

10 hours ago

मुंबई सेशन्स कोर्ट ने गहना वशिष्ठ को अंतरिम राहत देने से किया इनकार

मुंबई की एक सत्र अदालत ने अभिनेत्री गहना वशिष्ठ को उनके खिलाफ दायर एक पोर्नोग्राफी…

10 hours ago

ओलंपिक मैडल विजेता मीराबाई चानू पर बायोपिक बनने की हुई घोषणा

लंपिक सिल्वर मैडल विजेता वेटलिफ्टर सैखोम मीराबाई चानू की बायोपिक की घोषणा हाल ही में…

10 hours ago

This website uses cookies.