छह दिनों में 1,700 किलोमीटर की यात्रा पूरी की दिल्ली की नीरू गांधी और उनके दोस्तों मोनिका चानना और प्रतिभा सभरवाल ने फुत्सोलिंग में भारत-भूटान सीमा को पार किया । यह एक साहसिक कार्य है जिसे उन्होंने चार राज्यों से गुजरते हुए पूरा किया । थिम्पू पहुंचने पर इस तिकड़ी ने अपने आपको नानीस ऑन द हाईवे कहलवाना पसंद करती है ।  उन्होंने तीरंदाजी (राष्ट्रीय खेल) में अपना हाथ आज़माया, वहां की स्थानीय मक्खन चाय पी और एक बहुत ही योग्य ब्रेक लिया। फिर वे पारो वैली पे गई जहा वो एक डांस फेस्टिवल में जाएंगी ।

image

चुनौतियां

नीरू ने उनके सामने आई कई चुनौतियों को याद करते हुए कहा कि वे अकेले यात्रा करने वाली तीन बड़ी महिलाएं थीं। लेकिन वह नानियां अच्छी तरह से अनुभवी रोड ट्रिपर हैं। 2016 में, उन्होंने दिल्ली से रामेश्वरम तक एक बड़ी ड्राइव पर जाने का फैसला किया। यह समझाते हुए कि एक अच्छी कंपनी उनके ट्रिप को यादगार बना देगी, वह अपने दोस्तों के पास पहुंची और फिर उन्होंने अपनी बहन, सरिता मनोचा और मोनिका को अपनी यात्रा में अपने साथ  पाया।

आज, नीरू और उसके दोस्तों ने चुनौतियों का सामना कर , चार सड़क यात्राएं पूरी की हैं। दूसरी ड्राइव पर – अयोध्या के रास्ते से वाराणसी जाते हुए उनके साथ एक दुर्घटना घटी जिसमे  मोनीका का बटुआ जिसके अंदर उनके सभी एटीएम कार्ड और ड्राइविंग लाइसेंस शामिल थे, वह चोरी हो गया और  जब तक कि वह लाइसेंस की डुप्लिकेट कॉपी प्राप्त नहीं कर पाते  तब तक वह कही जा नहीं सकते थे । “इसके अलावा, अयोध्या से वाराणसी तक सड़के बहुत खराब स्थिति में थी ,” नीरू कहती हैं। “उस वजह से, हमें शाम को देर से ड्राइव करना पड़ा, और रात में भी, जो की उनकी मर्ज़ी के खिलाफ था ।”

ट्रेवल का शेड्यूल

आमतौर पर, महिलाएं सुबह 8 बजे से पहले अपनी यात्रा शुरू कर देती थी  और एक दिन में कम से कम 160 किलोमीटर की दूरी तय करने की कोशिश करती थी । वह अब तक 560 किलोमीटर तक चली हैं। अपनी पहली तीन यात्राओं के लिए उन्होंने सुजुकी एर्टिगा का इस्तेमाल किया उसके बाद वह दिल्ली में स्थित एक मारुति सुजुकी की डीलरशिप वाले  शोरूम डीडी मोटर्स द्वारा फाईनैन्स की गई एक एस क्रॉस नेक्सा में घूमे और क्योंकि उनकी यात्रा किसी एक जगह तक पहुंचने के बारे में नहीं थी, वे आमतौर पर कई शहरों में एक रात से अधिक समय बिताते थे , ऊंट की सवारी, रेगिस्तान सफारी और राफ्टिंग जैसी स्थानीय गतिविधियों में भी भाग लेते थे । वे नेविगेशन के लिए गूगल की सहायता लेते थे , लेकिन जब हाईवे पर इंटरनेट नहीं मिलता था, तो वह किसी अजनबी से रास्ता पूछती थीं।

यात्रा का अनुभव

“जैसे ही हम दिल्ली से दूर जाते हैं, लोग स्टीयरिंग व्हील महिलाओं के हाथों में देखकर चौंक जाते थे ,” मोनिका ने कहा। यहां तक ​​कि होटलों में चेक-इन करते समय, एक से अधिक बार रिसेप्शनिस्ट ने उनसे पूछा कि उनके ड्राइवर ने कार कहां खड़ी की है, तब वह बताती की गाडी वह लोग खुद चलाकर आयी हैं।

“पिछली तीन यात्राओं में, मैं अधिक आत्मविश्वासी और सक्षम हो गयी हूं,” नीरू कहती हैं. रास्ते में अलग -अलग लोगो से मिलना एक ट्रिप के लिए बहुत आकर्षित रहा है। इन महिलाओं का कहना है कि तीन स्कूली शिक्षकों के एक समूह ने उन्हें उनकी गाडी का टायर बदलने में मदद की और जोधपुर के बिश्नोई ग्रामीणों को अमरावती से अजंता एलोरा गुफाओं में भी घुमाया और वहाँ उन्होंने  ब्लॉक प्रिंटिंग और पॉटरी बनाना भी सीखा.

भूटान के रास्ते और गुवाहाटी वापस जाने के बाद, यह तीनो नानियाँ दिल्ली वापस आ गई हैं और अब अपनी अगली यात्रा की योजना बना रही हैं।

Email us at connect@shethepeople.tv