फ़ीचर्ड

वाराणसी बाइकिंग क़्वींस वाराणसी से लंदन तक एक मिशन पर निकली

Published by
Ayushi Jain

एक मिशन पर निकली भारत की बाईकर्स से मिलिए जिन्हे अपने जूनून को पूरा करना है और अपने लक्ष्य को प्राप्त करना है । यह तिकड़ी बहुत बिंदास है। डॉ. सारिका मेहता, जिनल शाह, और रुतल पटेल तीन महिलाएं हैं जो खुद को बाइकिंग क्वींस ’कहती हैं और वे दुनिया भर में नारी गौरव‘ (महिला गौरव) का संदेश फैलाने के लिए तैयार हैं।

सामूहिक बाइकिंग क्वींस की स्थापना करने वाली मेहता, अभियान के लिए और महिलाओं के अधिकारों की वकालत करती हैं। वास्तव में, उन्होंने अपने अभियानों के माध्यम से देश भर में पीएम मोदी के बेटी बचाओ बेटी पढाओ पहल को बढ़ावा दिया है । यहां तक ​​कि उनकी बेटी धनश्री मेहता ने 17 जून, 2017 को सात समिट्स में से एक, माउंट एल्ब्रस की चढ़ाई की, जो शिखर पर पहुंचने वाली भारत की सबसे युवा पर्वतारोही बन गयी।

डॉ. सारिका मेहता, जिनल शाह, और रुतल पटेल तीन महिलाएं हैं जो खुद को बाइकिंग क्वींस ’कहती हैं और वे दुनिया भर में नारी गौरव‘ (महिला गौरव) का संदेश फैलाने के लिए तैयार हैं।

“हमने अतीत में कई ऐसे समिट किए हैं, जिनमें मेरे साथ देश भर में 45 युवा लड़कियाँ भी शामिल थी । लेकिन एक मनोवैज्ञानिक और एक पर्वतारोही के रूप में, मुझे लगता है कि जब तक लोग महिलाओं का सम्मान करना शुरू नहीं करेंगे, तब तक हम बदलाव नहीं ला सकते। यह सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया भर की सच्चाई है। महिलाओं को अपनी काबिलियत का अहसास कराना होगा ताकि वह खुद को और अन्य महिलाओं को कम आंकना बंद करें। मुझे इस बात का अहसास हुआ की महिलाओं को लगता है कि वे अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए पर्याप्त नहीं हैं। वे अभी भी समर्थन की तलाश में हैं और मैं बस उन्हें समझना चाहती हूं कि उन्हें कुछ करने से रुकना नहीं चाहिए, ”डॉ। सारिका ने शीदपीपल .टीवी को बताया। वह यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में वाराणसी से अपनी यात्रा की शुरुआत करेंगी।

डॉ. सारिका ने अभियान के दौरान भारतीय परिवारों, बाइकिंग समुदायों, भारतीय एम्बेसी और हाई कमीशन  के साथ सहयोग किया है।

डॉ सारिका के परिवार को उनके अभियानों को समझने में कुछ समय लगा, लेकिन जब से उन्होंने उन्हें आगे बढ़ते  देखा और महिलाओं को वास्तव में उनके प्रयासों से लाभ हुआ, वे समझ गए । देश भर में बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान को सफलतापूर्वक बढ़ावा देने के अभियान को पूरा करने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने उनके पूरे परिवार से मुलाक़ात भी की।

मुझे लगता है कि जब तक, लोग महिलाओं का सम्मान करना शुरू नहीं करेंगे, तब तक हम बदलाव नहीं ला सकते हैं। यह सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया भर की सच्चाई है। महिलाओं को अपनी पूर्ण क्षमता का एहसास कराना होगा न कि खुद को और अन्य महिलाओं को कम आंकना चाहिए।

अभियान में भारत, नेपाल, भूटान, म्यांमार, लाओस, चीन, किर्गिस्तान, उजबेकिस्तान, कजाकिस्तान, रूस, लातविया, लिथुआनिया, पोलैंड, चेक रिपब्लिक , जर्मनी, ऑस्ट्रिया, स्विट्जरलैंड, फ्रांस, नीदरलैंड, बेल्जियम, स्पेन, मोरक्को और यूनाइटेड किंगडम शामिल होंगे ।

Recent Posts

कौन है पूजा रानी बोहरा ? जीत कर पहुंची क्वार्टर फाइनल्स में

भारतीय बॉक्सर पूजा रनी ने एक कदम और आगे रखते हुए क्वार्टर फाइनल्स में जगह…

3 mins ago

Pfizer और AstraZeneca वैक्सीन की एंटीबॉडीज़ 3 महीने में 50 % कम हो सकती हैं

जब यह वैक्सीन लगती हैं तब इनका असर बहुत ज्यादा रहता है और उसके बाद…

28 mins ago

कौन है दीपिका कुमारी ? यूएसए की जेनिफर फर्नांडेज को मात देते हुए 6-4 से आगे दीपिका

2009 से ही दीपिका  ने आर्चरी में अपना नाम कमाना शुरू किया जिसके बाद उन्हें…

38 mins ago

टोक्यो ओलिंपिक 2020: भारतीय बॉक्सर पूजा रानी पहुंची क्वार्टर फाइनल में

इंडियन बॉक्सर पूजा रानी (75 किग्रा) ने बुधवार को टोक्यो में अपने पहले ओलंपिक खेलों…

39 mins ago

उर्मिला कोठारे कौन है ? कृति सैनन की “मिमी” ओरिजनल मराठी फिल्म में निभाया था “मिमी” का किरदार

कृति सेनन की फिल्में एक सरोगेसी की कहानी के इर्द-गिर्द घूमती है जिसमें कृति का…

1 hour ago

पाक एक्ट्रेस सोमी अली हुई पोर्न बैन पर हैरान, कहा यहां हुआ है कामसूत्र ओरिजनेट

बॉलीवुड अभिनेत्री सोमी अली ने भी विवाद के बारे में बात की है। उनका कहना…

1 hour ago

This website uses cookies.