विश्व बैंक द्वारा “विवाहित महिलाओं के सामाजिक जीवन” पर की गई  एक नयी रिसर्च में सामने आया है कि अधिक सामाजिक रूप से जागरूक दोस्तों वाली महिलाएं बेटियों को बेहतर तरीके से बड़ा करती हैं। यह रिसर्च ‘महिलाओं के व्यवहार और बच्चों में निवेश’ में ‘ दोस्तों की भूमिका  के बारे में बताता है। रिसर्च से महत्वपूर्ण बाते हैं:

image
  1. रिसर्च में उत्तराखंड के बेसिक आकड़ों का इस्तेमाल किया गया था, जहां एक महिला के केवल तीन दोस्त पाए गए थे और लगभग 80 प्रतिशत लोगो  के कोई और दोस्त नहीं थे।
  2. इस रिसर्च में एक महिला पर एक दोस्त के सशक्तीकरण के प्रभाव के बारे में बताया जा रहा है, भौतिक गतिशीलता जैसे पहलुओं को ध्यान में रखते हुए, सामाजिक सुरक्षा जाल तक पहुंच और घर के बाहर रोजगार; कथित सामाजिक मानदंड; और घरेलू सौदेबाजी का एक परिणाम: उसके बच्चों में निवेश।
  3. इस रिसर्च को करने का मुख्य कारण था की एक महिला जो पूरी तरह से सशक्त नहीं है वह कभी भी सशक्त न होने के कारन मुश्किलों का सामना कर सकती है। यह एक महिला के जीवन पर बहुत गहरा असर दाल सकता है, लेकिन वह इस बात पर अधिक निर्भर थी कि वह अपनी बेटी को कैसे पालती है।
  4. इससे यह पता चलता है की सशक्तीकरण के प्रभाव और सहकर्मी पर एक बड़ी ज़िम्मेदारी  का संकेत देते हैं।

विश्व बैंक द्वारा “विवाहित महिलाओं के सामाजिक जीवन” शीर्षक पर एक नए अध्ययन में कहा गया है कि अधिक सामाजिक रूप से जागरूक दोस्तों वाली महिलाएं बेटियों को बेहतर तरीके से पालती है

  1. यह रिसर्च 1988 में मानव संसाधन कार्यक्रम, जो मानव संसाधन और विकास मंत्रालय, भारत द्वारा शुरू किया गया था, उसके आंकड़ों का उपयोग करता है। इस रिसर्च में पाया गया की जिन महिलाओं को बिना इजाज़त के घर छोड़ने की संभावना है।
  2. इस रिसर्च में 404 महिलाएँ शामिल हैं और 942 मित्रों और 69 बेतरतीब ढंग से चुने गए गाँवों के दोस्तों, चार कार्यक्रम जिलों और दो गैर-कार्यक्रम जिलों में स्तरीकृत उनके संबंधों पर डेटा शामिल है।
  3. रिसर्च में कहा गया है कि सामाजिक नेटवर्क में भाग लेने वाले दोस्तों के पास एक महिला होती है जो ऐसे नेटवर्क में गैर-भागीदार होती है जो अपनी बेटी को अधिक प्रोटीन युक्त आहार खिलाती है और घरेलू कामों में कम समय लगाती है।

 

Email us at connect@shethepeople.tv